भाभी की चुदाई बाथरूम में

भाभी की चुदाई बाथरूम में

दोस्तों आप सभी को आर्यन का नमस्कार। मेरी उम्र 35 साल है, रंग गेहुंआ है, कद सामान्य है और मुझे जिम जाने का शौक है, इसलिए मेरा शरीर गठीला है. मैं हरियाणा के पानीपत का रहने वाला हूँ.

मैं इस साइट पर अपनी पहली कहानी लिख रहा हूँ। मेरे लंड का साइज 5 इंच है लेकिन मैं किसी को भी संतुष्ट कर सकता हूं. मुझे टीवी पसंद है लेकिन मैं ब्लू फिल्म चलाकर अपनी भाभी को चोदने का सपना देखता हूं क्योंकि ऐसा करने से दोनों दिल अपनी-अपनी इच्छाएं पूरी कर सकते हैं।

वैसे तो मैं पिछले 8 सालों से हर कहानी पढ़ रहा हूँ, शायद एक ही कहानी ऐसी हो जो मैंने नहीं पढ़ी हो। लेकिन मुझे भाभी की कहानियाँ पढ़ने में अलग मजा आता है क्योंकि आप सभी जानते हैं कि भाभी के साथ रोमांस करने का मजा ही अलग है.

इसलिए मैं आप सभी के सामने मेरे जीवन में घटी सच्ची भाभी सेक्स कहानी प्रस्तुत कर रहा हूँ: यह घटना करीब 5 साल पहले गर्मियों के दिनों में घटी थी. उन दिनों में अगर कोई दो बार नहीं नहाता तो उसकी हालत नौकरी करने वाले मजदूर जैसी हो जाती है.

भाभी की चुदाई बाथरूम में

मेरे पड़ोस में एक परिवार किराये पर रहने आया। उस परिवार में विजय, उनकी पत्नी माही और एक 4 साल का लड़का शामिल था। हमारा परिवार विजय और उसके परिवार को बहुत अच्छी तरह से जानता था क्योंकि भाभी हमारी दुकान पर सामान खरीदने आती थीं और कभी-कभी भैया भी सामान खरीदने आते थे।

मैं मीहा भाभी को आते जाते नमस्ते कह देता था. मैंने उन्हें अपना फोन नंबर दे दिया ताकि जरूरत पड़ने पर वे फोन करके हमारी दुकान से सामान मंगवा सकें. मीहा भाभी की उम्र करीब 24 साल है, उनके 34″ के स्तन और उनकी लाजवाब उभरी हुई गांड किसी को भी पागल कर सकती है. जबकि विजय भाई की उम्र 40 के आसपास थी.

उनके पति विजय एक सरकारी विभाग में काम करते थे। उन्हें रोजाना शराब पीने की आदत थी, जिसके कारण उनका स्वास्थ्य बिल्कुल खराब हो गया था। सरकारी नौकरी होने के बावजूद भाई बहुत कम ही काम पर जाते थे. कुछ दिन बाद मेरे नंबर पर एक अनजान नंबर से कॉल आई और बोली- मैं मीहा हूं. क्या आप मेरे घर पर आ सकते हैं?

Celebrity Escort Service in Delhi Book 24×7

भाभी ने बाजार से कुछ दवाइयां लाने को कहा. मैं भाभी के घर गया तो उन्होंने एक पर्ची और कुछ पैसे दिये। मैं बाजार से दवा और बाकी पैसे लाकर भाभी को दे दिया. भाभी ने मुझे धन्यवाद कहा और भैया ने भी मुझे धन्यवाद कहा. मैंने उन दोनों से कहा- इसमें शुक्रगुज़ार होने वाली कोई बात नहीं है। जब भी आप लोगों को मेरी जरूरत हो तो आप मुझे कॉल कर सकते हैं.

इस तरह मेरी उनसे मुलाकात होने लगी और वो मुझ पर भरोसा करने लगे. कभी-कभी भाभी मुझे फोन करके घर का सामान लाने के लिए भी कहती थीं. इसी बहाने से मैं उसके घर जाने लगा और कभी उसे धीरे से छूता तो कभी उसके मम्मों को अनजाने में दबाने लगा। इस पर भी भाभी कभी बुरा नहीं मानती थीं बल्कि हंस देती थीं.

भाभी भी मेरा इशारा समझने लगी थीं. मैं जानता था कि भैया की बीमारी के कारण भाभी की चुदाई नहीं हो पायेगी इसलिए उनकी जवानी प्यासी रह जायेगी. एक बार मैंने उससे मिलने के लिए पूछा तो उसने कहा- मैं एक शादीशुदा औरत हूँ और यह बात हम पर शोभा नहीं देती। लेकिन मेरे बार-बार कहने पर वो मेरी बात मान गई और मुझे रात 8 बजे घर आने को कहा.

African Escorts In Delhi with 100% Satisfaction

मैंने अपने परिवार से बहाना बनाया कि मैं एक दोस्त के साथ बाहर जा रहा हूँ और रात को देर से आऊँगा। फिर उसी दिन करीब आठ बजे मैं उनके घर पहुंच गया और विजय भाई से बात करने लगा. बातें करते-करते भाभी ने मुझे दूसरे घर जाने का इशारा किया. उन्होंने अपने घर के पीछे ही एक घर खरीदा था, जिसमें वह कुछ ही दिनों में शिफ्ट होने वाले थे।

उसने अपने पति से कहा कि वह दूसरे घर की सफाई करने जा रही है और बाद में नहाकर वापस आएगी। मैं उस घर में पहले ही आ चुका था. कुछ देर बाद भाभी आईं और मुझसे बोलीं- मैं अभी नहा कर आती हूं. भाभी जी ने जानबूझ कर बाथरूम में ताला नहीं लगाया था.

बेडरूम में बैठे हुए मुझे बाथरूम का दरवाज़ा खुला हुआ दिख रहा था क्योंकि बाथरूम बेडरूम के पास ही था. मैं कमरे में बैठा हुआ सोच रहा था कि क्यों न बाथरूम में भाभी के साथ मस्ती की जाए. मैंने जल्दी से अपने सारे कपड़े उतार दिए और बाथरूम में जाते ही पीछे से भाभी के खूबसूरत स्तन पकड़ लिए। भाभी मुझे बाथरूम में देख कर बहुत खुश हुईं.

मैं और भाभी दोनों एक दूसरे को साबुन से नहला रहे थे. नहाते समय मैंने भाभी के एक स्तन को मुँह में ले लिया और चूसने लगा और दूसरे स्तन के निप्पल को हाथ से दबाने लगा। भाभी अपने मम्मे चुसवाते हुए कह रही थीं- और जोर से मेरे राजा… ओह… आह… और जोर से… सारा… सारा, दोनों को निचोड़ डालो!

Sensual Call Girls Service in Delhi Free Delivery 24×7

अब भाभी ने मेरे लंड को सहलाया और प्यार से चूसने लगीं. जैसे ही उसने मेरा लिंग अपने मुँह में लिया, मुझे ऐसा लगने लगा जैसे मैं सातवें आसमान पर हूँ। थोड़ी देर चूसने के बाद मैंने अपना सारा वीर्य भाभी के मुँह में छोड़ दिया, वो भी बड़े प्यार से मेरे वीर्य की एक-एक बूँद निगल गयी।

हम फिर से एक-दूसरे को सहलाने में व्यस्त हो गए और जब मैंने दोबारा उससे अपना लिंग चूसने को कहा तो उसने बिना देर किए मेरा लिंग चूसना शुरू कर दिया।
5 मिनट बाद मेरा लंड टाइट हो गया तो मैंने उन्हें बाथरूम के फर्श पर लिटा दिया और अपना लंड भाभी की चूत में डाल दिया. मेरा लंड बड़ी मुश्किल से चूत में घुसा क्योंकि उनके पति भाभी को कम ही चोदते थे.

और बोली- और जोर से… जोर से मेरे राजा! चोदते समय भाभी के स्तन ऐसे लटक रहे थे मानो किसी पेड़ की शाखा पर आम लटक रहे हों। मैं उसके एक स्तन को मुँह में डाल कर चूस रहा था और दूसरे हाथ से दूसरे स्तन को दबा रहा था। भाभी भी कराह रही थी- आह… आह… आह… जोर से… फाड़ दो मेरी चूत… आह!

करीब दस मिनट बाद मैंने अपना सारा वीर्य उसकी चूत में छोड़ दिया. उसके बाद हम 10 मिनट तक नहाये और बेडरूम में चले गये. बेडरूम में जाते ही हम एक-दूसरे को चूमने लगे और भाभी बोली- मुझे जो करना है करने दो, तुम आराम से लेटे रहो। फिर भाभी ने बेड की दराज से शहद की शीशी निकाली और मेरे लंड पर डाल दी.

Royal Escorts in Delhi For High-Profile Clients

वो मेरा लंड ऐसे चूस रही थी जैसे कोई बच्चा लॉलीपॉप चूसता है. मैंने भी उसके दोनों स्तनों पर शहद डाला और चूस-चूस कर उसे पागल कर दिया। उसने मुझे 69 पोजीशन में आने को कहा. जिंदगी में पहली बार मैंने किसी के साथ 69 किया।

वो मेरा लंड चूसने में मस्त थी और मैं उसकी चूत चूसने में. करीब दस मिनट तक उसकी चूत चूसते हुए उसने दो बार अपना वीर्य छोड़ दिया. मैंने भी उसका सारा पानी पी लिया.

मैंने उससे घोड़ी बनने को कहा और वो तुरंत घोड़ी बन गयी. जैसे ही मैं अपना लंड उसकी चूत में डालने लगा, मेरा लंड फिसल कर उसकी गांड में चला गया और वो चिल्लाने लगी- उइइइइइ माँ… छोड़ो मुझे… मैं मर रही हूँ… आह… बहुत दर्द हो रहा है. भाभी बोलीं- मैंने आज तक अपनी गांड नहीं मरवाई है.

मैंने उससे कहा- धीरे-धीरे करूँगा, अब दर्द नहीं होगा। फिर मैंने धीरे-धीरे उसकी गांड चोदी. करीब दस मिनट बाद वो खुद ही मेरा साथ देने लगी. कुछ देर की जोरदार चुदाई के बाद मैंने अपना वीर्य उसकी गांड में छोड़ दिया. इस तरह उस रात मैंने भाभी को तीन बार चोदा.

भाभी की चुदाई बाथरूम में

वो मेरी चुदाई देख कर बहुत खुश हुई और बोली- तुम्हारे भैया से कुछ नहीं हो सकता. इसे महीने में एक या दो बार ही करें। ऐसा करते ही उसका वीर्यपात हो जाता है और मैं प्यासी रह जाती हूँ।

आज तुमने मेरे जीवन में प्यार का रस घोल दिया है जिससे मुझे खुशी हुई है. इस तरह मैंने उसके साथ मजे किये. कुछ देर साथ लेटे रहने के बाद हमने अपने कपड़े पहने और मैं चुपचाप उसके घर से निकल गया। उसके बाद उसने पड़ोस में रहने वाली अपनी दो सहेलियों को भी मुझसे चुदवाया. अत्यधिक शराब पीने के कारण उसके पति की मृत्यु हो गई है

और उसने दोबारा किसी और से शादी कर ली है. अब कभी-कभी बाजार जाते समय जब वह मिलता है तो गर्दन हिलाकर नमस्ते करता हूं। उसके बाद मुझे उसकी गर्मी को शांत करने का मौका नहीं मिला.

143 Views