भाभी की चूत और गांड चुदाई

दोस्तो, मेरा नाम राजवीर है। मेरी उम्र 22 साल है। मैं पटना का रहने वाला हूँ. मेरा एक बचपन का दोस्त एक हॉस्पिटल में काम करता था. मुझे उससे एक नंबर मिला. वो नंबर भाभी का था. मेरी उससे अच्छी बातचीत होने लगी. उसका नाम नेहा था.

धीरे-धीरे हम दोनों में प्यार हो गया। हम देर रात तक बातें करने लगे. ऐसे ही बातें करते हुए हमें दो महीने हो गये थे. अब हम हर रात वीडियो कॉल पर बात करने लगे और फोन सेक्स भी करने लगे.

वीडियो कॉल के दौरान उसने अपना चेहरा नहीं दिखाया। मुझे समझ नहीं आया कि उसने अपना चेहरा क्यों नहीं दिखाया. मैं उससे चेहरा दिखाने को कहता तो कहती- मैं चेहरा भी दिखा दूंगी, लेकिन जो अब दिख रहा है, वो दोबारा नहीं दिखेगा. मैंने पूछा- ऐसा क्यों?

वो कहने लगी- आज तुम एक बात तय कर लो कि तुम्हें मेरा चेहरा देखना है या मेरे बदन का नजारा देखने में मजा आता है? मैंने सोचा कि इसकी चूत मुझे चोदने को मिलेगी या नहीं. चेहरा सड़क पर चलती किसी भी लड़की का देखा जा सकता है. बेहतर होगा कि सिर्फ चूत और स्तन ही देखें.

भाभी की चूत और गांड चुदाई

मैंने उनसे बहुत अनुरोध किया- सब कुछ एक बार दिखाओ। लेकिन वह मान नहीं रही थी. फिर मैंने कहा- जो तुम्हें ठीक लगे वही दिखाओ. वो बोली- ठीक है, जब मिलोगे तो सब मिलकर देख लेना. मैं आपको बताना चाहूंगा कि मैंने नेहा भाभी को कभी आमने-सामने नहीं देखा था, हमारा प्यार फोन पर ही शुरू हुआ था।

एक दिन मैं नेहा भाभी से जिद करने लगा कि मुझे आपसे मिलना है. अब मैं आपको अपनी भाभी के बारे में बताता हूँ. वह बिहारशरीफ की रहने वाली है. उसकी उम्र 26 साल है और उसका फिगर 34-30-36 है. एक दिन मेरी भाभी का फोन आया. उसने कहा कि कल मेरे घर पर कोई नहीं होगा. क्या आप आ सकते हैं?

मैंने कहा- मैं कोशिश करूंगा. अगले दिन मैंने दुकान से छुट्टी ले ली और सुबह पहली बस पकड़ कर निकल पड़ा. मैं दोपहर बारह बजे तक उनके घर पहुंच गया. वो अपने घर के पास मेरा इंतज़ार कर रही थी. मैंने उसे पहली बार देखा था. उसे देखते ही मेरा लम्बा, मोटा लंड खड़ा हो गया.

वह एक अद्भुत संपत्ति थी! मैंने उसे देखा और उसकी ओर बढ़ा. तभी मेरा फ़ोन बजा. मैंने उसे देखा तो उसने मुस्कुरा कर फ़ोन उठाने का इशारा किया. मैंने फोन उठाया तो बोली- अब चुपचाप मेरे पीछे आओ. मोहल्ले के लोग जानते हैं कि मैं और तुम अजनबी हैं। मैंने कहा ठीक है.

उन्होंने मुझसे आगे चलने को कहा. मैं अपना फ़ोन चालू करके उसके आगे-आगे चलता रहा। कुछ देर में उसके घर के अन्दर पहुँच कर मैंने ठंडी साँस ली. वह अंदर आया और दरवाजा बंद कर लिया. हम दोनों ने कुछ देर तक बातें कीं. वो मेरे लिए पानी लेकर आई और उसके बाद मैंने नेहा को गले लगा लिया और उसे चूमने लगा.

भाभी की चूत और गांड चुदाई

वो भी मेरा साथ दे रही थी. हम दोनों बहुत जोश से किस करने लगे. फिर मैंने उसकी साड़ी का पल्लू हटा दिया और उसके मम्मे दबाने लगा. नेहा भाभी आह आह करने लगीं. हम दोनों ने जल्द ही एक-दूसरे के सारे कपड़े उतार दिए और पूरे नंगे हो गए। मेरा लंड देख कर नेहा भाभी की आंखें चमकने लगीं.

शायद वो मेरा लम्बा और तीन इंच मोटा लंड देख कर बहुत खुश हुई और थोड़ा डर भी रही थी. मैंने अपना लंड उनके मुँह में डाल दिया और 69 में होकर उनकी चूत चाटने लगा। कुछ देर बाद नेहा भाभी ने अपनी चूत मेरे मुँह में दबा दी और आह करते हुए अपनी चूत का रस छोड़ दिया। मैंने उसकी चूत का सारा रस पी लिया.

वह निढाल हो गयी थी. मैंने उसे बैठाया और खुद खड़ा हो गया. फिर मैंने अपना लंड उसके मुँह में डाल दिया और ज़ोर-ज़ोर से धक्के मारने लगा। कुछ ही देर में मैं झड़ने वाला था और मैंने अपना सारा वीर्य उसके मुँह में छोड़ दिया। मेरे लिंग का कुछ रस उसके गालों पर और कुछ उसके स्तनों पर लग गया. उसने मुँह में आये वीर्य को खा लिया और अपने शरीर पर लगे वीर्य को उंगली से चाटने लगी.

फिर वो उठी और बाथरूम में जाकर खुद को साफ किया. वो मुझे चूमने लगी. मेरा लंड फिर से खड़ा हो गया. मैंने एक बार फिर अपना लंड उसके मुँह में डाल कर उसे गीला किया और चुदाई के लिए तैयार कर दिया. भाभी भी पीठ के बल लेट गयी. मैंने उसकी दोनों टाँगें खोलीं और अपने लंड का निशाना उसकी चूत पर लगाया।

फिर उसने उसके मुँह को अपने मुँह से दबाया और एक ही झटके में लंड पूरा अन्दर डाल दिया. वो दर्द से चिल्ला रही थी क्योंकि वो बता रही थी कि उसके पति का लंड मेरे लंड से आधा ही साइज़ का था. कुछ देर बाद उसने मेरे लंड को बर्दाश्त कर लिया और अब नेहा बहुत कामुक आवाजें निकाल रही थी- आह आह ओह माय गॉड … फक मी हार्डर.

Bhabhi Ki Chut or Gaar Chudai

मेरी चूत की गर्मी निकाल दो… आह ओह आह मैं गई और ज़ोर से चोदो मुझे… आह आज तक किसी ने मुझे इस तरह नहीं चोदा… आह मैं झड़ने वाली हूँ।
इधर मैं अपनी पूरी स्पीड से नेहा को चोद रहा था. करीब बीस मिनट बाद हम दोनों एक साथ स्खलित हो गये। उस दौरान नेहा दो बार चरमसुख प्राप्त कर चुकी थी.

सेक्स के बाद हम दोनों ने एक लंबा चुंबन किया और जोर-जोर से सांसें ले रहे थे। कुछ देर बाद मेरा लंड फिर से खड़ा हो गया. मैंने नेहा से लंड मुँह में लेने को कहा. उसने तुरंत अपना मुँह खोला और लिंग को पूरा अन्दर ले लिया. मैं और जोर से झटके मारने लगा.

वो मुँह चोदने से मना करने लगी और बोली- डार्लिंग, अब मुझसे बर्दाश्त नहीं होता… प्लीज अपना लंड मेरी चूत में डाल दो। मैंने अपना लंड मुँह से निकाला, उसे डॉगी पोज़िशन में लिटाया और पीछे से उसकी चूत में डाल दिया। वो आह ओह्ह करके लंड का मजा लेने लगी.

मैं बहुत तेज धक्के लगा रहा था. मेरा लंड उसकी बच्चेदानी से टकरा रहा था. वह इसे सहन नहीं कर पा रही थी और चिल्ला भी रही थी. करीब 15 मिनट की चुदाई के बाद वो झड़ गयी. लेकिन मेरा काम अभी पूरा नहीं हुआ था. वो लंड बाहर निकालने को कह रही थी. मैंने कहा- मेरा अभी तक नहीं हुआ है.

Book Delhi Call Girls with Full Satisfaction & Pleasure

वो बोली- प्लीज डार्लिंग, अब मुझसे बर्दाश्त नहीं होता. तुमने इसे मेरे मुँह में डाल दिया. मैं इसे अपने मुँह में लेकर चूसूंगी और तुम्हें झड़ा दूंगी. मैं अपना लंड चूत के अलावा कहीं और डालना ही नहीं चाहता था. मैंने उसकी बात को अनसुना कर दिया और उसकी कमर पकड़ कर उसे बहुत तेज़ गति से चोदने लगा।

करीब बीस मिनट और चोदने के बाद मैं झड़ने वाला था तो मैंने अपना लंड उसके चेहरे के पास रख दिया। उसने अपने हाथों से लिंग का हस्तमैथुन करना शुरू कर दिया और सारा पानी अपने मुँह में पी लिया। कुछ देर बाद मुझे बहुत ज्यादा पेशाब आने का एहसास हुआ. मैंने कहा- मुझे बाथरूम जाना है. तो उसने मेरा लंड पकड़ लिया और बोली- यहीं मेरे मुँह में करो!

मैंने अपना लिंग पकड़ कर उसके मुँह में अन्दर तक डाल दिया और पेशाब करने लगा। पूरा पेशाब लेने के बाद मैंने उसकी चूत को चूसना शुरू कर दिया. थोड़ी देर बाद उसने मेरा सिर पकड़ा और मेरे मुँह में पेशाब करने लगी. मैंने मना नहीं किया. पता नहीं क्यों मुझे ये सब अच्छा लग रहा था.

कुछ देर बाद मेरा लंड फिर से खड़ा हो गया. इस बार जब मैंने उसकी गांड को चोदने के बारे में पूछा, तो उसने मना कर दिया। मैं गुस्सा होने का नाटक करने लगा. थोड़ी आनाकानी के बाद वह मान गयी. मैंने उससे तेल लाने को कहा. वह तेल लेकर आई। मैंने उसे पीठ के बल लिटा दिया और उसकी गांड के छेद में तेल डालने लगा.

भाभी की चूत और गांड चुदाई

मैंने अपनी एक उंगली उसकी गांड में डाली तो उसने अपनी गांड टाइट कर ली. मुझसे रहा नहीं गया। मैंने अपने लिंग पर बहुत सारा तेल लगाया और उसकी गांड के छेद पर सुपाड़ा रखा और एक ज़ोर का धक्का मारा। वो बहुत जोर से चिल्लाई- आउच माँ फट गई… आह डार्लिंग प्लीज़ इसे बाहर निकालो… मैं मर जाऊँगी… मेरी गांड फट गई आह आह ओह हाय मैं मर गई… प्लीज़ इसे बाहर निकालो।

परन्तु न जाने क्यों, उस समय मुझे क्या हुआ; मैं रुका नहीं और लगातार झटके पर झटके देता जा रहा था. कुछ देर बाद इंडियन भाभी की गांड में लंड का मजा आने लगा. वह अपनी गांड उठा उठा कर चुदवाने लगी. अब वो कह रही थी- आह्ह और अन्दर डालो.. फाड़ दो मेरी गांड. मैंने तुम्हारी गांड पर हाथ मारते हुए कहा- हां डार्लिंग, तुम्हारी गांड बहुत टाइट है … इसे तो फाड़ना ही पड़ेगा.

हम दोनों के बीच गांड चुदाई का खेल जोरों से चलने लगा. वह कहने लगी कि तुमने ही तो मेरी गांड की सील तोड़ी है. मुझे नहीं पता था कि गांड मरवाने में भी मजा आता है. अब से तुम मेरे किसी भी छेद में अपना लंड डाल कर मुझे चोद सकते हो. करीब 30 मिनट तक उसकी गांड चोदने के बाद मैं उसकी गांड में ही झड़ गया. उसके बाद मैंने उसे सीधा लेटा दिया और मैं उसकी चूत को चाटने लगा. कुछ देर बाद उसने पानी छोड़ दिया.

मैंने सारा पानी पी लिया. उस समय मैंने उसे फोन सेक्स करते समय अपना चेहरा न दिखाने को लेकर चिढ़ाया था। तो उसने कहा- मुझे डर था कि कहीं मेरी चूत और गांड के साथ मेरा चेहरा भी इंटरनेट पर वायरल न कर दिया जाये. इसलिए मैं अपने चेहरे के साथ-साथ अपने शरीर के अंग भी नहीं दिखा रही थी. मैं उससे सहमत था.

कुछ देर तक मैं ऐसे ही लेटा रहा. पता नहीं हम दोनों कब सो गये. जब मेरी आंख खुली तो 6 बज रहे थे. मैंने अपने कपड़े पहने, उसे चूमा और अलविदा कहा और उसके घर से निकल गया।

60 Views