भाभी और उसकी बहन को चुदाई

Bhabhi or Uski Bahan Ki Chudai

दोस्तो, हमारे घर में 6 लोग हैं, माँ 44 साल की, पापा 45 साल के, भाई 23 साल के, बहन 25 साल की, भाभी 23 साल की और मैं वीरू 19 साल का। मेरा लिंग बड़ा है.

मेरी भाभी सरकार में काम करती हैं. उसकी नौकरी पास के शहर में है और वह वहां एक अपार्टमेंट किराए पर लेकर रहता है। एक इंडियन लड़की की ये कहानी मेरी भाभी की बहन से शुरू हुई. 8 महीने पहले ही उसे बच्चा हुआ था.

अब उसे काम पर वापस जाना है लेकिन उसे बच्चे की देखभाल के लिए भी किसी की जरूरत है। मैं अभी कॉलेज के प्रथम वर्ष में हूं, इसलिए मेरे भाई ने मुझे कुछ दिनों के लिए अपनी भाभी के साथ जाने के लिए कहा। मैंने कहा- ठीक है.

भाभी भी हमारे साथ जा रही थी. हम रात 8 बजे पहुंचे. मैंने बाहर से खाना मंगवाया और खाया. वहां केवल एक ही बिस्तर था. तब दिसंबर का महीना था और बहुत ठंड थी। मैंने कहा- मैं सोने जाता हूँ. भाभी बोली- इसके ऊपर लेट जाओ.

उसकी भाभी और बहन खुशबू दोनों बिस्तर पर लेटी हुई थीं. भाभी की बहन खुशबू बहुत मस्त माल थी. उसकी उम्र 22 साल है, उसके स्तनों का माप 32 इंच है और उसके नितंब बिल्कुल अविश्वसनीय हैं। मैं उसके पास जाकर सो गया.

रात के करीब 12 बजे मुझे अपने लिंग पर कुछ महसूस हुआ और फिर मैंने देखा कि मेरा लिंग खुशबू की गांड की दरार पर था और वह दबाव बना रही थी। मेरा लंड एकदम खड़ा हो गया. फिर मैंने धीरे से अपना हाथ आगे बढ़ाया और उसके एक स्तन को दबा दिया। उसने कुछ नहीं कहा।

मैं समझ गया कि इंजन गरम हो गया है. मैंने झट से उसे नीचे लिटाया और उसकी शर्ट भी ऊपर उठा कर उतार दी. खुशबू धीरे से बोली- सिर्फ मेरे लिए खोलोगे या अपना भी खोलोगे? मैं: खोलो.

भाभी और उसकी बहन को चुदाई

फिर उसने मेरी पैंट खोली और फिर मेरी शर्ट भी उतार दी. मैंने उसकी ब्रा का हुक खोल दिया, उसके मम्मे हवा में उछलने लगे. अब मैंने उसकी पैंटी के ऊपर से ही उसकी चूत को रगड़ा और उसकी चूत ने पानी छोड़ दिया था. उसने मेरी पैंटी उतार दी.

वह मेरा लिंग देख कर चौंक गई- हे भगवान, यह कितना बड़ा है… यह तो मेरे बॉयफ्रेंड के औज़ार से भी बड़ा है! मैं- अच्छा, क्या तुम्हारा भी कोई बॉयफ्रेंड है? क्या इसका मतलब यह है कि आपका काम हो गया? खुशबू- हां, मैंने पहले भी सेक्स किया है. हम दोनों धीमी आवाज में बात कर रहे थे.

खुशबू- अब सो जाओ. नहीं तो दीदी को पता चल जायेगा. मैं: नहीं यार, अब नंगा होने के बाद मैं आज रात नहीं गुजार पाऊंगा! खुशबू- मैं भी नहीं जा सकती.. लेकिन दीदी? मैं- धीरे-धीरे करते हैं. खुशबू- ठीक है…आओ.

अब वो मेरी तरफ गांड करके लेट गयी, मैंने उसकी पैंटी उतार दी और अपना लंड उसकी चूत में रख दिया. उसने लंड को हाथ में पकड़ कर अपनी चूत पर रगड़ा और छेद में रख दिया. बुर की गर्मी से लंड भी उत्तेजित हो गया था.

मैंने कमर झुकाई और लिंग को अंदर धकेलने के लिए दबाव डाला। मेरे लंड का सुपारा उसकी गुलाबी चूत में घुस गया. वह आहें भरने लगी और मुझे रुकने का इशारा किया। मैंने उसकी कमर पकड़ रखी थी तो उसने मेरा हाथ पकड़ कर अपने मम्मों पर रख दिया।

मैंने दोनों हाथों को आगे बढ़ाया और दोनों स्तनों को पकड़ लिया और उसे इसका आनंद मिला और उसका दर्द थोड़ा कम हो गया। उसने फिर कमर हिलाकर इशारा किया. मैंने उसके स्तन पकड़ लिए और फिर से एक जोरदार धक्का लगाया, तो इस बार मेरा लंड पूरा अन्दर चला गया.

उसने उसका मुंह दबाकर उसकी आवाज बंद करने की कोशिश की. मैंने अपना हाथ उसके मुँह पर रख दिया और अपनी कमर को आगे-पीछे करने लगा। थोड़ी देर बाद उसकी टाइट चूत से पानी टपकने लगा. इससे मुझे लिंग डालने में आसानी हो गयी.

मैं 15 मिनट तक उसकी चूत को रगड़ता रहा. इतने में वो फिर से उत्तेजित हो गयी और मेरा लंड पकड़ने लगी. अब वह शीर्ष पर पहुंच गया था. मैंने उससे कहा: मुझे बच्चा होने वाला है! फिर उसने कहा- अन्दर मत डालना.

भाभी और उसकी बहन को चुदाई

मैंने अपना लंड उसकी चूत से बाहर निकाला और उसकी गांड में वीर्य छोड़ दिया। मेरी भाभी मेरे बगल में सो रही थी इसलिए हम दोनों ज्यादा कुछ नहीं कर सके. हम दोनों ने धीरे से कपड़े पहने और सो गये। सुबह जब मैं उठा तो देखा कि भाभी काम पर जा चुकी थी.

उसका बच्चा सो रहा था. खुशबू रसोई में काम कर रही थी. मैंने उसे पीछे से गले लगा लिया और चूमने लगा. वह भी उत्तेजित हो गयी. मैं उसके स्तनों को मसलने लगा. थोड़ी देर बाद वो जोर जोर से कराह रही थी- आह आह धीरे धीरे रगड़ो मेरी जान… आह.

मैंने उससे कहा- चलो बाथरूम में चलते हैं और वहीं सेक्स करेंगे. नौकरानी यहाँ आ सकती है. वो बोली- ठीक है, जाओ, मैं बच्चे का ख्याल रखूंगी. मैं बाथरूम में गया और अपने सारे कपड़े उतार दिए. कुछ पल बाद खुशबू अंदर आई।

खुशबू- दिल नहीं भरा क्या? मैं- जान, तुम इतनी माल हो कि मैं तुमसे कभी संतुष्ट नहीं होता! खुशबू- ठीक है सर. मैंने अपने लंड को सहलाते हुए कहा- हां वो मेरे लंड को देखने लगी. मैंने उसे नंगा किया और देखा कि उसकी चूत एकदम गुलाबी थी.

ऐसा लग रहा था मानो उसने एक या दो दिन पहले ही अपने बाल साफ किये हों. मैंने बाथरूम की बाल्टी को उल्टा कर दिया और उसका एक पैर बाल्टी के ऊपर रख दिया। फिर मैंने पीछे से उसकी चूत में अपना लंड डाल दिया और उसे चोदने लगा.

वो जोर-जोर से आवाजें निकालने लगी- आह ईई… आ माँ मर गई… और जोर से करो वीरू… फाड़ दो मेरी चूत… आह, रात को बहुत मजा आया, लेकिन दीदी की वजह से मैं आवाज नहीं कर पाई. आह, तुम्हारा लंड तो गज़ब का है… और तेज़ चोदो मुझे!

मैं भी लगाता रहा और कुछ देर बाद उसने अपनी चूत से पानी छोड़ दिया. इंडियन लड़की की जोरदार चुदाई हो रही थी. कुछ देर में मेरा काम भी ख़त्म हो जायेगा. मैंने उसे आठ-दस जोरदार झटके मारे और अपना सारा वीर्य उसकी चूत में छोड़ दिया।

फिर गुस्से से बोली- तुम मुझे अन्दर क्यों ले गये? अगर कुछ हो गया तो कौन जिम्मेदार होगा? मैंने कहा- कुछ नहीं होगा.. मैं बस गोली ले आता हूँ। उसने कहा: ठीक है. अब मैंने कहा: क्या मैं आपसे कुछ पूछ सकता हूँ? उसने कहाः हाँ कहो! मैं: क्या भाभी का भी कोई बॉयफ्रेंड था? खुशबू- हाँ!

मैं: क्या कह रहे हो यार? मतलब भाभी भी नशे में है? उसका मतलब? मैंने साफ-साफ पूछ लिया- मेरा मतलब है कि क्या भाभी ने अपने बॉयफ्रेंड के साथ सेक्स किया है? वो- हां, मैंने किया था.

मैं- तुम्हें कैसे पता? वो- दीदी ने मुझे बताया था. बहन मेरे लिए खुली है. मैं क्या? वो- हाँ. मैं- एक बात कहूँ? वो- हाँ कहो. मैं- मुझे भाभी को चोदना है. वो- क्या… क्या कह रहे हो? ‘हां यार, मुझे भाभी बहुत पसंद है… तुम उसे मेरे लिए बताओ… प्लीज़ मना मत करना!’

वो- ठीक है, मैं कोशिश करूंगी. ‘कैसे कहोगे?’ वो- मैं तुम्हें दीदी के बॉयफ्रेंड की फोटो दूंगी.. तुम उसे दिखाओ और दीदी को मनाओ। मैं बस इतना ही कर सकता हूं. “ठीक है”। फिर हम दोनों ने कुछ खाया और मैं बाज़ार चला गया।

मैंने मेडिकल स्टोर से कुछ गर्भनिरोधक गोलियाँ और कंडोम का एक बड़ा पैकेज खरीदा। जब मैं घर पहुंचा तो मेरी भाभी अपने काम से लौट आई थीं। अब मेरा भाभी के प्रति नजरिया बदल गया था. वो चोदने लायक एक मस्त माल लगने लगा था.

भाभी और उसकी बहन को चुदाई

मैं उनको वासना से देखने लगा. उनकी खूबसूरती को आप ऐसे समझ सकते हैं कि उनका शरीर और चेहरा बिल्कुल सोनाक्षी सिन्हा जैसा है। उसके बड़े स्तन और मोटी गांड है. भाभी घर पर सूट पहनती थीं. सूट में वह बेहद खूबसूरत लग रही थीं।

अब मैं उसके स्तनों को देखता ही रह गया, वह ऐसा कई बार देख चुकी थी। दो दिन बाद जब मैं उनके स्तन देख रहा था तो भाभी बोलीं- क्या देख रहे हो वीरू? मैं कुछ नहीं! तभी मेरा लंड खड़ा हो गया और भाभी ने मेरे लंड का उभार देख लिया. उसने कहा: ठीक है, जाओ! मैं वहां से निकल गया.

वहां जाते वक्त मैंने खुशबू को फोन किया और उससे पूछा कि तुम कहां हो? उसने कहा: मैं कमरे में हूं. मैंने कहा : मुझे चोदने का मन हो रहा है. क्या अब आप बाहर आ सकते हैं? उसने मना कर दिया- अभी नहीं.. अभी बहन घर पर है। क्या आप किसी और समय सेक्स करते हैं और क्या आप बाहर सेक्स करेंगे?

मैं: नहीं दोस्त, यहाँ एक कवर है, मैं इसे वहाँ रख दूँगा। सचमुच ख़ुशबू, मैं अभी सचमुच इसे महसूस कर रहा हूँ। उन्होंने कहा- ठीक है, लेकिन बच्चे का ख्याल कौन रखेगा? मैंने कहा: ठीक है, रहने दो। फिर मैं बाथरूम में गया और वहां भाभी को याद करके मुठ मारी और फ्रेश हुआ.

Book Delhi Escorts Services At Affordable Price

फिर मैंने खाना खाया और सोने चला गया. अब वहाँ एक और बिस्तर था जिस पर वह अकेला सोता था। इसी तरह पांच दिन बीत गये. एक दिन मैं जल्दी उठ गया. उसी समय मुझे भाभी की आवाज़ सुनाई दी- खुशबू, मैं तौलिया लाना भूल गयी, प्लीज़ मुझे तौलिया दे दो!

कमरे में खुशबू थी. वहां बच्चा रो रहा था. वह उसे चुप करा रही थी. मैंने कहा- भाभी, खुशबू बच्चे को चुप करा रही है। भाभी बोली- ठीक है, तौलिया ले आओ. मैं तौलिया देने गया तो भाभी ने थोड़ा सा गेट खोल दिया. मैंने देखा कि भाभी की एक चूची जोर से घूर रही थी.

मैं उसकी चुचियों को देखने लगा. भाभी ने मुझे देख लिया. वो कहने लगी- मुझे तौलिया दे दो.. मुझे ठंड लग रही है। मैंने उसे तौलिया दे दिया. उसी वक्त मैंने चौंकने का नाटक किया और मेरे पैर के धक्के से बाथरूम का दरवाज़ा खुल गया और मैं फिसल कर भाभी के नंगे बदन से टकरा गया.

भाभी अचानक से घबरा गईं और घबराहट में मैंने उनके एक मम्मे को पकड़ कर खुद को गिरने से बचा लिया. उस वक्त ऐसा माहौल बन गया कि भाभी ने मुझे संभाला और बोलीं- अरे अरे, क्या हुआ वीरू… संभालो अपने आप को!

मैंने अपने आप से नाटक रचाया था तभी मैंने भाभी को अपने सामने नंगी देखा. जब मैंने उसके एक स्तन को, जो मेरे हाथ में था, दबाया तो उसके निप्पल से दूध निकलने लगा। दोनों के गिरने की आवाज से भाभी की बहन खुशबू भी वहां पहुंच गई।

जब उसने यह दृश्य देखा तो उसे आनंद आने लगा। उसके मुँह से निकल गया- अरे… तुम तो बाथरूम में दीदी को रगड़ने लगे हो. यह सुनकर भाभी अचानक हैरान हो गई और अपनी बहन की तरफ देखकर बोली- तुम यह क्या कह रही हो? अब ये गिर गया है और मैं इसे संभाल रहा हूँ.

भाभी और उसकी बहन को चुदाई

खुशबू ने कहा: अच्छा, उसने यही किया… मुझे लगा कि मैंने तुम्हें तुम्हारे बॉयफ्रेंड के साथ सेक्स करने के बारे में बता दिया है और तुम बिल्कुल तैयार हो! ये सुनकर मुझे एहसास हुआ कि इंडियन लड़की ने अपनी चाल चली है.

उसी समय मैं भाभी की बांहों पर झुक कर उठ गया और भाभी से कहने लगा- भाभी, ये खुशबू क्या कहती है?.. क्या आप पहले भी सेक्स कर चुकी हैं? आपका बॉय – फ्रेण्ड? ? अब मैं अपने घर में सबको बताऊंगा! भाभी ने खुशबू की तरफ आँखें दबा लीं और कहने लगीं- अपने हाथ में छोड़ दे हरामी… अब मेरी भी ले ले… तू तो मेरी बहन को चोद ही चुका है हरामी!

यह सुनकर दोनों बहनें ज़ोर से हंस पड़ीं और मैं तो जैसे पागल हो गया। मैंने भाभी को गले लगाया और नंगी ही उठाया और कमरे में ले गया. उस दिन मैंने भाभी को खूब मजे से चोदा और खुशबू के साथ मिलकर भाभी को लंड भी चुसाया और भाभी की चूत भी बार-बार चोदी.

98 Views