बीवियों की अदला बदली का खेल

भाभी और गर्लफ्रेंड को एक साथ चोदा

दोस्तो, मेरा नाम सुनीता है। मैं एक बेहद खूबसूरत, चंचल और हँसमुख लड़की हूँ। मेरी लम्बाई 5′ 4″ है, रंग भूरा है और चेहरा गोल है। मेरे बड़े सुडौल स्तन, बड़ी-बड़ी चुभती आंखें, सुगठित भुजाएं, पतली कमर और उभरी हुई गांड किसी को भी पागल करने के लिए काफी हैं। मैं शिक्षित हूं, साहसी हूं और धाराप्रवाह अंग्रेजी बोलती हूं। मैं जो भी करता हूं अपनी इच्छा से करता हूं और किसी भी अश्लील व्यक्ति से नहीं डरता। मुझे किसी की परवाह नहीं है.

अपने कॉलेज के दिनों में मैं जितना पढ़ाई में मशहूर था, उतना ही सेक्स के बारे में बात करने और गाली देने में भी मशहूर था. मैं खुलेआम किसी की भी माँ या बहन चोद दूँगी। मेरे मुंह से खूब गालियां निकलती थीं. ख़ासकर लिंग से जुड़ी गालियाँ… मेरे मुँह से ‘लिंग’ सुनने के लिए लड़के मेरे आगे-आगे घूमते थे।

हालाँकि दोस्ती में मैं अब भी गाली देता हूँ, लेकिन बड़े प्यार से! इसी जोश में मैं अपने कॉलेज के दिनों में 2/3 लड़कों के लौड़े बड़े प्यार से पकड़ लिया करती थी। मुझे तो लंड पकड़ने की आदत हो गयी थी. मुझे लन्ड पकड़ना, चूमना, चाटना और लन्ड चूसना अच्छा लगने लगा। मैं लिंग पकड़ कर मुठ मारने लगी और लिंग का वीर्य पीने लगी. हालाँकि शुरू में मुझे वीर्य अच्छा नहीं लगा लेकिन फिर मुझे इसका आनंद आने लगा।

बीवियों की अदला बदली का खेल

मैं जब भी किसी स्मार्ट और हैंडसम लड़के को देखती थी तो मेरा मन करता था कि उसे नंगा कर दूँ और उसका लंड पकड़ कर चूस लूँ। अभी दो साल पहले ही मेरी शादी राज नाम के लड़के से हुई है. मैं शादी से पहले भी चुद चुकी थी, दो बॉयफ्रेंड्स से भी चुद चुकी थी और उनसे भी कई बार चुदी! मैंने भी 3 सम किये. दो दो लन्ड एक साथ मिला कर उसने बड़े मजे से चुदाई करायी।

मुझे सेक्स का बहुत शौक था. मैं लंड की दीवानी थी! आज तो मैं और भी ज्यादा पागल हो गया हूँ. मुझे नये नये लंड पकड़ने और उनसे चुदवाने की लत लग गयी। अब शादी के बाद मुझे लंड ज्यादा पसंद आने लगा है. मुझे लम्बे, मोटे, सीधे, घुमावदार, काले, गोरे हर तरह के लंड पसंद हैं। मुझे राज बहुत पसंद है, उसका रंग सांवला है और मुझे सांवला रंग बहुत पसंद है. वह मेरा बहुत ख्याल रखता है और मुझे पूरे दिल से प्यार करता है।

राज एक बड़ी कंपनी में काम करता है। मैं मूल रूप से दिल्ली की रहने वाली हूं लेकिन शादी के बाद आजकल मैं अपने पति के साथ लंदन में रह रही हूं। हम दोनों पति-पत्नी खुशी-खुशी अपना जीवन व्यतीत कर रहे हैं। हमारी सेक्स लाइफ भी अच्छी चलने लगी. मैं खाली समय में पोर्न देखना, लंड की फोटो और वीडियो देखना और सेक्स कहानियाँ पढ़ना शुरू कर दिया। धीरे धीरे मुझे लंड याद आने लगा. मुझे लगा कि अब पूरी जिंदगी एक लिंग के सहारे गुजारना मुश्किल है; कुछ तो बदलाव होना ही चाहिए.

बीवियों की अदला बदली का खेल

एक रात हम दोनों नंगे होकर 69 पोजीशन में लेटे हुए थे. मैं उसके लिंग से खेल रही थी और वह मेरी चूत, मेरे नितंबों और मेरी गांड से खेल रहा था। मुझे उसके लंड पर बहुत प्यार आ रहा था. अचानक मेरे मुँह से निकल गया- यार, तेरे लंड का कोई और दोस्त होता तो अच्छा होता! वह बोला- यार खुल कर बताओ यार लंड के यार… सहमत हो? मैंने कहा – यार लन्ड का दोस्त तो लन्ड ही होगा न ?

फिर वो बोला- ठीक है, तो क्या तुम्हें एक और लंड चाहिए सुनीता डार्लिंग? मैंने भी आंख मारते हुए कहा- हां, तुमने सही पहचाना मेरे राजा … मुझे एक और लंड चाहिए. वह बोला- हां यार सुनीता, मेरा एक दोस्त है संजय। मुझे उसकी बीवी शबनम बहुत पसंद है. वो गोरी चिट्टी बहुत ही खूबसूरत और गजब की हॉट है. मैंने मजाक करते हुए कहा- अच्छा, तो तुम उसकी चूत लेना चाहते हो? उसने कहा- लेना तो चाहता हूँ, पर उसकी चूत कैसे मिलेगी?

मैंने कहा- मैं तुम्हें बताऊंगा कि कैसे लेना है. तुम संजय से खुल कर बात करो, वाइफ स्वैपिंग की बात करो कि तुम उसकी बीवी चोदो और वह तुम्हारी बीवी चोदे। तुम दोनों एक ही कमरे में एक ही बिस्तर पर एक दूसरे की बीवियां चोदो। वाइफ स्वैपिंग आजकल बहुत आम बात है यार! मुझे नया लंड मिलेगा और तुम्हें नई चूत मिलेगी. इस तरह मैंने उसे खूब प्रोत्साहित किया और उकसाया. वह भी जोश में आ गया और बोला- हां यार सुनीता, तुम ठीक कह रही हो.

बीवियों की अदला बदली का खेल

और उन्होंने संजय से इस बारे में बात करना शुरू कर दिया. इधर मेरी उसकी बीवी शबनम से भी बात होने लगी. मैं शबनम को जानता था; एक दिन मैं भी उनके घर गया. वह मुझे देख कर खुश हो गयी. फिर हम दोनों खुल कर बातें करने लगे. मैंने कहा – देखो यार, मैं अपनी शादी से पहले खूब चुदी थी इसलिए मुझे चुदवाने की आदत है। मैं नये लंड से चुदवाना चाहती हूँ. मैं अब जवानी में नहीं चुदवाऊंगी तो कब चुदवाऊंगी? वो बोली- यार, तुम सच कह रहे हो. शादी से पहले मुझे भी चोदा गया था! हमारे समाज में जब कोई लड़की जवान हो जाती है तो घरवाले ही उसकी चूत में अपना लंड डालते हैं. मेरी चूत में भी कई लन्ड घुसेड़े गये। वैसे मुझे भी मेरे बॉयफ्रेंड ने चोदा था.

मैंने कहा- यार, तुम इतनी खूबसूरत हो तो लोग तुम्हें चोदेंगे ही. वह बोली – इसीलिए तो मैंने अपने भाई जान से भी चुदवाया। मैंने हंस कर पूछा- अच्छा, ये बताओ तुम्हें सफेद लंड पसंद है या काला? वो तपाक से बोली- काला लंड! मैंने कहा- मेरे पति का लंड काला है यार! वह बोली – हे भगवान्, तब तो तेरे पति का लौड़ा बड़ा सुन्दर होगा ? मैंने कहा- हाँ है तो! वो बोली- अब मैं उसे जरूर देखूंगी.

फिर मैंने वाइफ स्वैपिंग के बारे में बात की. शबनम मान गई लेकिन कुछ झिझक के साथ. मैंने साफ़ कहा- यार, एक बात बताओ. अगर मैं तुम्हारे पति के सामने नंगी हो जाऊं तो क्या तुम मेरे पति के सामने नंगी हो जाओगी? वो बोलीं- हां, मैं जरूर करूंगी. फिर मैंने पूछा- अच्छा, अगर तुम्हारा पति मेरे सामने नंगा हो जाए और मेरा पति तुम्हारे सामने नंगा हो जाए तो क्या होगा? वो बोली- फिर तो एक दूसरे के पति को नंगा देखने में और भी मजा आएगा!

बीवियों की अदला बदली का खेल

मैं खुशी-खुशी घर लौट आई और अपने पति को सारी बात बता दी। मेरे पति खुशी से उछल पड़े. फिर रात को उसने मुझे खूब जम कर चोदा. अगले दिन हम शबनम के घर पर मिले. उसने हमें बुलाया. शबनम लो टॉप और लो स्कर्ट में थी. वह बार-बार राज के सामने झुकती थी, काम करती थी और बात भी करती थी, जिससे राज को उसके खूबसूरत बड़े स्तनों की झलक मिल जाती थी। राजा की हत्या कर दी गयी होगी.

उसकी गोरी जांघें दिख रही थीं. वो सच में बहुत सेक्सी और हॉट लग रही थी. मेरे पति तो उसे देखते ही रह गये. उसका गोरा बदन, खुली बांहें, बड़े-बड़े मम्मे, उभरे हुए नितंब और उसकी गांड देख कर मेरे पति शबनम के दीवाने हो गये. इधर मैंने भी जींस पहनी हुई थी.. और ऊपर गहरे गले का टॉप पहना हुआ था। मेरे चूचे भी बाहर आने को तड़प रहे थे. मेरी सेक्सी गांड भी संजय को ललचा रही थी.

मैंने सोचा कि शायद वो पहले मेरी गांड में अपना लंड पेल दे! शबनम ने हमारा स्वागत किया और बड़े आदर से हमें बैठाया। फिर वो हंसते हुए बात करने लगी. तब तक ड्रिंक्स का सेट तैयार हो गया तो शबनम ने एक एक पैग व्हिस्की का बनाया और सबको दिया. हम चारों मजे से ड्रिंक का मजा लेने लगे. फिर हम साथ में बातें करने लगे.

धीरे-धीरे सेक्स पर भी चर्चा होने लगी, बातें खुल कर होने लगीं। हम सब लंड, पुसी, पुसी, पुसी कहने लगे. एक दो पैग शराब पीते ही नशा अपना काम करने लगा. फिर मैंने पूर्ण अदला-बदली का मुद्दा उठाया। तो सब तैयार हो गये लेकिन शबनम नहीं मानी. उसने कहा- नहीं, अभी पूरा नहीं भरा प्लीज़! मैंने कहा- यार, इसमें बुराई क्या है? यहाँ हम चारों के अलावा कोई नहीं है.

बीवियों की अदला बदली का खेल

लेकिन वो अपने पति संजय के पूरी तरह से तैयार होने के बावजूद भी चूत चुदाई के लिए राजी नहीं हुई. मेरा बेचारा पति उसके साथ सेक्स करने के लिए तड़प रहा था. संजय भी मुझे अपनी गोद में बिठा कर मेरे बदन से खेलना चाहता था, मुझे चोदना चाहता था। फिर हमने ज्यादा दबाव नहीं डाला और कहा- ठीक है, शबनम तुम हमारे साथ एक ही बिस्तर पर सॉफ्ट स्वैपिंग कर सकती हो. उसने फिर बड़े प्यार से हाँ कहा.

जैसे ही उसने हाँ कहा, हम सभी ने बहुत खुशी से तालियाँ बजाईं। फिर हम दोनों अन्दर चले गये. राज और संजय बाहर बात करने लगे. राज बोला- यार संजय, आज मैं तेरी बीवी यानि शबनम भाभी को पहली बार नंगी देखूँगा। मैं उसके बड़े स्तन देखूंगा, मैं उसकी मस्त चूत देखूंगा, मैं उसकी गांड देखूंगा। यार, बहुत मजा आएगा. मेरा लौड़ा इस वक्त काबू से बाहर हो रहा है, बहनचोद. संजय बोला- हां यार, मैं भी आज पहली बार तेरी बीवी यानी सुनीता भाभी को पूरी नंगी देखूंगा. यह बिल्कुल अद्भुत है, यार! जब मैं उसके बड़े-बड़े मम्मे, उसकी खूबसूरत चूत, उसके नितम्ब और गांड देखूँगा तो बहुत मज़ा आएगा। लंबे समय से चली आ रही कोई इच्छा आज पूरी होगी। मेरा लंड तो अभी से आसमान ताकने लगा है.

राज बोला – यार सच बता संजय मैं जब अपनी बीवी चोदता हूँ तो तेरी बीवी का नाम लेकर चोदता हूँ। मैंने तो कई बार तुम्हारी पत्नी का नाम लेकर तुम्हें मुक्का भी मारा है. संजय बोला- यार, मेरे साथ भी ऐसा होता है. मैं अपनी बीवी की चूत तो चोदता हूँ लेकिन मुझे ऐसा लगता है जैसे मैं सुनीता भाभी की चूत चोद रहा हूँ। तब मुझे चोदने में ज्यादा मजा आता है. अब मैं आपको बताता हूं कि हमारे बीच क्या हुआ था. मैंने कहा – देख भोसड़ी की शबनम, आज मैं तुझे पूरी नंगी देखूंगा। बहुत मजा आएगा. मुझे अपना नंगा बदन अच्छे से दिखाओ.

बीवियों की अदला बदली का खेल

शबनम बोली- हां हां, मैं तुम्हें अपना नंगा बदन दिखाऊंगी, चूत चोदी सुनीता. मैं तुम्हें अपने पति का लिंग भी दिखाऊंगी। थोड़ा सब्र कर माँ के लौड़े! मैंने कहा – हाय दईया, तब तो मज़ा आ जायेगा। मैं भी तुझे अपने पति का लौड़ा दिखाऊंगी हरामजादी शबनम। फिर हम दोनों हंसने लगे.

सॉफ्ट स्वैपिंग: दोस्तों मैंने अभी आपको बताया कि सॉफ्ट स्वैपिंग का मतलब होता है अपनी-अपनी बीवियों को एक दूसरे के सामने चोदना। तब तक राज और संजय दोनों ने वियाग्रा की खुराक ले ली थी. सबके मन में एक बात उठ रही थी कि वैसे तो हम अपनी बीवियों को लगभग रोज ही चोदते हैं लेकिन कोई देखने वाला नहीं है। आज अगर कोई दूसरा जोड़ा हमारी चुदाई देख ले तो हमें अपनी-अपनी बीवियों को जम कर चोदना पड़ेगा। मैं भी सोच रही थी कि आज मैं राज से जमकर चुदाई करूंगी ताकि संजय और शबनम हमारी चुदाई देखकर उत्तेजित हो जाएं.

शबनम के मन में भी यही बात चल रही थी. वो अपने पति से बहुत अच्छी तरह से चुदाई करवाने के लिए तैयार थी. संजय के मन में था कि आज मैं अपनी बीवी को खूब जोश से चोदूंगा. मैं राज को दिखा कर चोदूंगी. राज ने भी तय कर लिया था कि आज वह अपनी पत्नी सुनीता को खूब मजे से चोदेगा। फिर राज ने मुझे गोद में उठाया और बिस्तर पर लेटा दिया और संजय ने अपनी पत्नी शबनम को गोद में उठाया और उसी बिस्तर पर अपने बगल में लेटा दिया. उसने अपनी पत्नी के शरीर को गले लगाया और मेरे पति राज ने मुझे।

बीवियों की अदला बदली का खेल

संजय शबनम को चूमने लगा, उसके होंठों को चूमने लगा और उसकी गर्दन और कंधों को भी चूमने लगा. फिर धीरे से उसने शबनम का टॉप खोलकर फेंक दिया और उसके बड़े बड़े दूध सबके सामने आ गये. उसके स्तन देख कर मेरे पति के लंड में करंट सा लग गया. तब तक राज ने मेरे स्तन भी नंगे कर दिये थे तो उन्हें देख कर संजय के लंड में आग लग गयी.

फिर दोनों मर्द अपनी अपनी बीवियों के स्तनों को प्यार से चूमने और चाटने लगे। हम दोनों के स्तन खड़े हो गये थे। इन दोनों लोगों के कपड़े भी उतर गये थे. दोनों मादरचोद बहुत सेक्सी और हॉट लग रही थीं. मैंने कहा- अरे चूत चुदासी शबनम, तेरे मम्मे तो बहुत बड़े और मस्त हैं यार! वो बोली- तेरे भी स्तन बहुत सेक्सी हैं मेरी हरामजादी सुनीता.

इतने में संजय ने अपनी बीवी की जीन्स उतार दी और उसकी मस्त चिकनी चूत पूरी नंगी हो गयी. इधर मेरी स्कर्ट भी उतर चुकी थी. मेरी चिकनी चूत बिना किसी जलन के शबनम की चूत से होड़ ले रही थी. दोनों मर्द अपनी बीवियों की चूत को प्यार से सहलाने लगे और उनके पूरे नंगे बदन पर हाथ फिराने लगे। नंगी शबनम बहुत सेक्सी और हॉट लग रही थी. संजय अपनी बीवी के पूरे बदन को चाटने लगा.

इधर मेरे पति राज भी आज कुछ अच्छे से मेरे स्तन और गाल चाट रहे थे। हम दोनों बीवियों को खूब मजा आ रहा था। फिर मैंने अपने पति को पूरा नंगा कर दिया और उसका लंड हिलाने लगी.

उधर शबनम ने भी संजय को नंगा कर दिया और उसका लंड अपनी मुठ्ठी में लेकर आगे-पीछे करने लगी। जब मेरी नज़र उसके पति के लंड पर पड़ी तो मैं कराह उठी. उसका गहरे भूरे रंग का लंड देख कर मेरे मुँह में पानी आ गया. मेरी तो लार टपकने लगी, बहनचोद! मेरी चूत गीली हो गयी.

बीवियों की अदला बदली का खेल

मुझे उसका लंड एक ही नज़र में पसंद आ गया. मैं सोचने लगी कि अगर शबनम मान जाती तो आज संजय का लंड मेरे हाथ में होता. शबनम भी मेरे पति राज का लौड़ा बड़े ध्यान से देखने लगी। राज का लिंग काले रंग का है और मैं जानता हूँ कि गोरी महिलाओं को काला लिंग बहुत पसंद होता है। शबनम बहुत गोरी है. वो मेरे पति का काला लंड देख कर मजा लेने लगी.

हम दोनों जोड़े एक दूसरे को नंगा देख कर मजा लेने लगे. फिर मैं राज के साथ 69 पोजीशन में हो गया और शबनम संजय के साथ. कुछ देर बाद राज ने मेरी दोनों टाँगें फैला दीं और अपना काला लंड मेरी चूत पर रखा, थोड़ा सा रगड़ा और अंदर धकेल दिया। वो बड़े मजे से मुझे चोदने लगा.

इसी तरह संजय भी अपनी बीवी शबनम की चूत को जोर-जोर से चोदने लगा.. धीरे-धीरे अपना पूरा लंड चोदने लगा। हम दोनों के स्तन उछलने लगे और हमारे मुँह से कराहें निकलने लगीं। जब हमें मजा आया तो हम भी अपनी कमर हिलाकर रंडी की तरह चुदवाने लगीं. सच कहूँ दोस्तो, मुझे संजय और शबनम के सामने अपने पति से चुदवाने में और हमारे सामने उन दोनों से चुदवाने में बहुत मज़ा आ रहा था। इस तरह का मज़ा पाना बहुत मुश्किल है।

बीवियों की अदला बदली का खेल

कुछ देर बाद राज और संजय ने अपनी-अपनी बीवियों को डॉगी स्टाइल में पीछे से चोदा. मुझे इस तरह से चुदाई करवाने में बहुत मजा आता है. ये चुदाई काफी देर तक चलती रही. फिर हमारी चूत खलास होने लगी और हमारा लंड भी. मैंने राज का झड़ता हुआ वीर्य पी लिया और लिंग-मुण्ड को चाटा। शबनम ने भी संजय के लंड का वीर्य पी लिया और लंड का टोपा मजे से चाटा.

चुदाई के बाद शबनम ने मेरे नंगे पति को प्यार से गले लगाया, उसके गालों को चूमा और उसके लिंग को भी चूमा. मैं भी नंगा था. तो मैंने आगे बढ़ कर संजय को गले लगाया, जो पूरी तरह से नंगा था, उसे चूमा और फिर झुक कर उसके लिंग को कई बार चूमा। सचमुच हमारी ख़ुशी का ठिकाना नहीं था. हमारी सारी इच्छाएँ पूरी हो रही थीं।

उसके बाद सबने नंगे होकर खाना खाया और गंदी गंदी बातें करके मजा किया. एक घंटे बाद फिर से चुदाई हुई और खूब धूमधाम से. हमने रात में अपने-अपने पतियों से दो बार चुदाई की और फिर एक ही बिस्तर पर नंगी ही सो गईं।

290 Views