देसी भाभी को चोदने की चाहत

दोस्तो, मेरा नाम राजा है और मैं मथुरा, का रहने वाला हूँ। मैं 26 साल का हूँ। आज मैं अपनी जिंदगी के पहले सेक्स के बारे में बताना चाहता हूं. भाभी के साथ मेरा पहला सेक्स: मैंने अपनी चचेरी भाभी के साथ किया था. यह घटना तब की है जब मेरे चाचा के लड़के की शादी थी. जब मेरे चाचा के लड़के की पत्नी यानि मेरी भाभी घर आई तो सब लोग उससे बातें कर रहे थे.. सिवाय मेरे।

मैं मन में उसे चोदने का ख्याल लेकर मुठ मारता था लेकिन उससे बात नहीं करता था. मेरे कमरे से उसके बाथरूम के अन्दर का नज़ारा साफ़ दिखता था. दरअसल उस बाथरूम की दीवार और मेरे कमरे की दीवार सटी हुई थी और मैंने उस दीवार में एक छेद कर दिया था.

जब भी वो नहाने जाती तो मैं छुप छुप कर उसे देखता रहता था. वो जब भी नहाती थी तो एकदम कयामत लगती थी. उसके 36 साइज के मम्मे और उसकी मस्त जवानी देख कर मेरा मन कसम से ऐसा करने लगा कि अभी जाकर उसे चोद डालूँ. मैं उन्हें देख कर अपना लंड छेड़ता था और समझाता था कि बेटा, मेरा भी टाइम आएगा.

देसी भाभी को चोदने की चाहत

ऐसे ही आठ महीने बीत गए. एक दिन चाची से खबर मिली कि चाचा का निधन हो गया है. फिर घर के सभी लोग मौसी के घर चले गये. उस वक्त घर में सिर्फ मैं और मेरी भाभी ही बचे थे ताकि वो दोनों ही घर की देखभाल करें. आज मौका था, मैंने भी तय कर लिया था कि आज तो भाभी को चोदना ही है, जो होगा देखा जायेगा।

भाभी अपने कमरे में थी और आराम कर रही थी. सर्दी का मौसम था इसलिए रात के दस बजे तक बहुत ठंड हो गई। मैं अपने कमरे में अपने लंड को सहलाते हुए उसे समझा रहा था कि आज उसे चूत मिलेगी. तभी मुझे भाभी के कमरे से आवाज़ सुनाई दी. मैं कान लगाकर सुनने लगा.

कुछ देर बाद उसके कमरे का दरवाजा खुलने की आवाज आई। मैं देखने लगा. वह शायद पेशाब करने के लिए बाहर आई थी. उनका शोर सुनकर मैं उठ खड़ा हुआ तो देखा कि भाभी बाथरूम में गयी थीं और बैठ कर पेशाब कर रही थीं. उसके पेशाब की आवाज़ के साथ सीटी की आवाज़ भी आ रही थी। भाभी की चूत से घरघराहट की आवाज मेरी उत्तेजना को और भी बढ़ा रही थी.

कुछ देर बाद भाभी ने अपनी चूत साफ की और बाथरूम से बाहर आने लगीं. उसी समय मैं भी पेशाब करने के लिए जाने लगा. भाभी ने मुझे रोका और पूछा- नींद नहीं आ रही क्या? मैंने भी सिर हिलाकर हां कहा. वो बोलने लगी कि अभी तक कोई खबर नहीं आई, पता नहीं सब लोग कब आयेंगे?

देसी भाभी को चोदने की चाहत

मैंने कहा- वो सब सुबह तक ही आएँगे भाभी! तब भाभी बोलीं- अच्छा … मुझे लगा कि वो सब रात को ही वापस आ जायेंगे. मैंने कहा- भाई ने तुमसे कुछ क्यों नहीं कहा? भाई का नाम सुनते ही वह अजीब सा मुंह बनाने लगी. मैंने कहा- क्या हुआ भाभी? भाभी : क्या मैं आपसे कुछ देर बात कर सकती हूँ? मैंने कहा हां भाभी आप मुझे बताती क्यों नहीं?

भाभी बोली- मुझसे तो सब बात करते हैं, लेकिन तुम मुझसे बात नहीं करते, इसका क्या कारण है? मैंने कहा- ऐसा कुछ नहीं है भाभी, मैं तो ऐसे बात ही नहीं करता. वो बोली- क्या मैं तुम्हें पसंद नहीं हूँ? मैंने कहा- ऐसा नहीं है भाभी! भाभी बोलीं- तो फिर क्या बात है?

पता नहीं मैंने किस जोश में कह दिया कि भाभी आप अच्छी लगती हो, लेकिन… मैं अपनी बात बीच में ही रोक गया। भाभी बोलीं- लेकिन क्या? मेंने कुछ नहीं कहा। और मैंने बातचीत ख़त्म कर दी. भाभी बार-बार मुझसे बात ख़त्म करने के लिए कहने लगीं. मैंने भाभी से कहा- भाभी, मैं आपसे एक बात कहूं तो आप बुरा तो नहीं मानेंगी? उसने नहीं कहा।

मैंने कहा- भाभी, आप मुझे बहुत अच्छी लगती हो. भाभी बोली- तो बताओ मैं क्या करूँ? भाभी भी धीरे-धीरे मेरे इरादे समझ गयीं। मैंने कहा- भाभी, आप मुझे बहुत पसंद हैं और मैं आपसे प्यार करता हूं. ये सुनकर भाभी ने मुँह बनाया और गुस्सा हो गईं. वह गुस्से में कमरे से बाहर जाने लगी.

देसी भाभी को चोदने की चाहत

मुझे लगा कि वह सबको बता देगी. फिर मैंने भाभी को पीछे से पकड़ कर रोका और कहा- आपने तो कहा था कि नाराज़ नहीं होंगी… और अब नाराज़ हो गईं! वो बोली- ऐसे भी कोई बोलता है क्या? मैंने कहा- तो तुम कैसे बोलती हो, तुम बताओ! वो बोली- आगे आकर बताऊं? मैंने सिर झुकाकर धीरे से कहा- हां कहो.

वो मेरे सामने आई और बोली- मेरी तरफ देखो! जब मैंने आगे देखा तो मुझे केवल उसके होंठ और आँखें दिखाई दे रही थीं। इससे पहले कि मैं कुछ समझ पाता, भाभी आगे बढ़ी और अपने होंठ मेरे होंठों पर रख दिये. उसने मुझे एक लम्बा चुम्बन दिया. इस चुम्बन से मेरे शरीर में एक अजीब सी हलचल हुई, जो मैंने पहले कभी महसूस नहीं की थी।

भाभी बोली- आई लव यू! मैंने उसे गले लगाया और चूमा। फिर मैंने भी भाभी को ‘आई लव यू टू’ कह दिया. अब मैंने भाभी को गले लगाया और बहुत देर तक चूमा. इतना सब करने के बाद मुझे लगा कि भाभी गर्म हो गई हैं. फिर जैसे ही मैंने उनके मम्मे दबाये, भाभी ने एक लंबी सांस ली और कराहने लगीं और बोलीं- धीरे से दबाओ यार… मुझे दर्द हो रहा है.

मैं फिर से उसके मम्मे दबाने लगा. भाभी- आह आह ओह्ह्ह राज.. धीरे दबाओ.. मैं कहीं भाग नहीं रही हूँ. अब मैंने उसके ब्लाउज के हुक खोल दिए और उसके दोनों कबूतरों को आज़ाद कर दिया। मैं आपको क्या बताऊं कितना मजा आ रहा था. मैंने उसके दोनों मम्मों को एक-एक करके चूसा और चूस-चूस कर लाल कर दिया।

देसी भाभी को चोदने की चाहत

भाभी के निपल्स एकदम सख्त हो गये थे. मैंने उनकी चूत पर हाथ लगाया तो भाभी की चूत हल्का पानी छोड़ रही थी. मैंने भाभी से पूछा- भाभी, ये गीली चीज़ क्या है? वो नशीली आवाज में बोलीं- ये मेरे अंदर चढ़ा हुआ सेक्स का पानी है … और तुमने इसे बाहर निकाल लिया है. आह… अब देर मत करो, बस मुझ पर हावी हो जाओ।

जब मैंने यह सुना तो मैं उछल पड़ा. मेरा लंड तो पहले से ही अंडरवियर से बाहर आने को तैयार था. मैंने झट से अपना लंड निकाला, भाभी को सेक्स पोजीशन में लिटाया और उनकी चूत की दरार पर रख दिया. मेरा लंड बार-बार भाभी की चूत से फिसल रहा था.

यह देख कर भाभी हंस पड़ीं और बोलीं- क्या हुआ राजा? मेंने कुछ नहीं कहा। भाभी बोलीं- तुमने पहले कभी ऐसा नहीं किया है ना? फिर मैंने कहा- हां, पहली बार कर रहा हूं. भाभी बोलीं- आओ, आज मैं तुम्हें सिखाती हूं. फिर भाभी ने अपने हाथ से मेरा लंड पकड़ा और अपनी चूत के छेद पर रख दिया.

जब मेरा लंड थोड़ा सा उनकी चुत में अन्दर गया तो भाभी अचानक कराहने लगीं और इधर उधर हिलने लगीं. वो जोर जोर से आवाजें निकालने लगी और बोली- धीरे धीरे करो प्लीज़.. मुझे दर्द हो रहा है. भाभी के साथ यह मेरा पहला सेक्स था इसलिए मैं बहुत उत्तेजित था और कुछ ही मिनट में स्खलित हो गया। भाभी बोली- इतनी जल्दी क्यों थी देवर जी?

देसी भाभी को चोदने की चाहत

सच कहूँ दोस्तो, उस वक्त मुझे बहुत बुरा लगा। हो सकता है ऐसा तब हो जब आप पहली बार सेक्स करें. भाभी मेरे ऊपर से हट गईं और बोलीं- फिर धीरे-धीरे और पूरे मजे से करना. भाभी ने अपनी चूत साफ की और बाथरूम में चली गईं.

दो मिनट बाद भाभी ने मुझे बाथरूम में बुलाया और एक-एक करके अपने कपड़े उतारने को कहा. मैंने उसकी ब्रा पहले ही उतार दी थी. अब सिर्फ पेटीकोट ही बचा था. मैंने भाभी का पेटीकोट पकड़ा और खींच दिया. रहम की भीख मांगते हुए पेटीकोट नीचे गिर गया.

भाभी अब पूरी नंगी थी. उसने मुझे पकड़ लिया और चूमने लगी. वह अपने होंठ और स्तन मेरे पूरे शरीर पर फिरा रही थी। उसकी इस हरकत से मेरे लिंग में तनाव वापस आ गया. फिर भाभी घुटनों के बल बैठ गईं और लंड को हाथ से सहलाया और मुँह में ले लिया. वो लंड को लॉलीपॉप की तरह चूसने लगी.

अब मेरा लंड फिर से सख्त हो गया था और सख्त लकड़ी की तरह सख्त हो गया था. भाभी ने मेरी आँखों में देखा और बोलीं- कैसा लगा? सच कहूँ तो भाभी जैसा लंड आज तक कोई नहीं चूस पाया है. मैंने कहा- भाभी, मजा आ गया. फिर मैंने भाभी को एक लम्बा चुम्बन दिया और उनके मम्मे चूसे।

देसी भाभी को चोदने की चाहत

अब भाभी भी गर्म हो गईं और उनकी मादक कराहें निकलने लगीं- आह आह आह आउच … आराम से! भाभी के दूध चूसने के बाद मैंने उनकी चूत को चूम लिया. इससे वह अकड़ने लगी और कहने लगी- अपना लंड मेरी चूत में डालो राजा. इस बार मैं सतर्क था, मैं उसकी चूत को अपने मुँह से चूसता और चाटता रहा।

मैंने उनकी चूत के ऊपरी हिस्से को हल्के से चूसा जिससे भाभी खड़े-खड़े ही दो बार स्खलित हो गईं. उसने मुझे फिर से उठाते हुए कहा- अब अपना लंड डालो… आआह आह हम्म! इसके साथ ही भाभी अपने मुंह से गहरी सांसें लेने लगीं और कामुक आवाजें निकालने लगीं. मैंने भाभी को घोड़ी बनाया और अपना लंड उनकी चूत में रख दिया.

मैंने उनकी कमर पकड़ कर अपना लंड भाभी की चूत में डाल दिया. जैसे ही मेरा लंड भाभी की बच्चेदानी से टकराया, भाभी जोर से चिल्ला उठीं. वो चिल्लाई- आह मारोगे क्या … धीरे धीरे करो! मैं धीरे धीरे भाभी को चोदने लगा. भाभी भी अपने नितम्बों को आगे-पीछे करने लगीं और ‘आह अम्म्म आउच’ की आवाजें निकालने लगीं।

जब मेरे नितम्ब उसके नितम्बों से टकराते तो कामुक आवाजें निकल रही थीं। इसी बीच भाभी जोर से कराह उठीं और एक बार फिर से उत्तेजित हो गईं. मेरा लंड अब भी बिना रुके भाभी को चोद रहा था. करीब 25 मिनट की जबरदस्त चुदाई के बाद चूत से जोर जोर से फच फच की आवाजें आने लगीं.

देसी भाभी को चोदने की चाहत

मेरा लंड भाभी की चूत में पेले जा रहा था. मैंने अरबी घोड़े की तरह भाभी की चूत में अपना लंड पेलते हुए कहा- आह भाभी… मेरा रस निकलने वाला है… जल्दी बताओ कहां निकालूं? भाभी बोलीं- आह … मेरे अंदर ही छोड़ दो.

BDMS Escort Services in Delhi | VIP Escorts Service in Delhi | Indian Bhabhi Escort in Delhi | Mature Escorts in Delhi | Delhi Escort Service | Delhi Escorts at Cheap Rate | VIP Independent Escort in Delhi | Incall & Outcall Escorts Service | High-Profile Escorts Service in Delhi | High-Profile Model Call Girls in Delhi | Sexy Bhabhi Housewife Escort in Delhi | Russian Call Girl in Delhi | BBW Russian Escort in Delhi | Sexy Russian Escort Delhi | College Going Escorts Gril in Delhi | Hottest College Girl Escort in Delhi | Indian Call Girl Service in Delhi | Bold Model Escort in Delhi | Air Hostess Escort in Delhi | Indian Celebrity Escort in Delhi | High-Profile Independent Delhi Escorts | Budget-Friendly Delhi Escorts | Hot Sexy Escorts in Delhi | Independent Housewife Escort Service In Delhi | Book Delhi Escorts at Affordable Rates | Fetish Busty Escorts Services in Delhi | Premium Russian Escorts Service in Delhi

कुछ जोरदार शॉट्स के बाद, हम दोनों एक साथ ऑर्गेज्म से संतुष्ट हुए। जब मैंने अपना लंड भाभी की चूत से बाहर निकाला तो भाभी की टांगें कांप रही थीं. उसकी चूत लाल हो गयी थी और सूज गयी थी. भाभी बड़ी मुश्किल से उठीं और थकी हुई आवाज में बोलीं- आज तुमने मुझे घोड़ी बना कर घोड़े की ताकत दिखा दी.. मुझे बहुत मजा आया।

फिर मैंने भाभी को गोद में उठाया और कमरे में ले आया. उस पूरी रात हम दोनों ने चार बार सेक्स किया, जिससे भाभी बहुत खुश हो गईं. अब जब भी मौका मिलता है, भाभी और मैं चूत चुदाई का खेल खेलते हैं. दोस्तो, यह थी मेरी भाभी के साथ पहली सेक्स कहानी, जिसमें भाभी ने मुझे सेक्स का खेल सिखाया.

मुझे उम्मीद है कि आपको ये सेक्स कहानी पसंद आयी होगी. कृपया अपने विचार साझा करें। यदि इसमें कोई त्रुटि हो तो कृपया मुझे क्षमा करें।

4,932 Views