दो भाभी के साथ ग्रुप सेक्स

दोस्तो, मेरा नाम राकेश है और मैं आपको एक बहुत ही मस्त सेक्स कहानी बताने जा रहा हूँ। यह एक ग्रुप सेक्स स्टोरी है. दोस्त की पत्नी के साथ सेक्स पोर्न स्टोरी में दो भाभियाँ और एक लड़का यानि मैं हूँ. आप समझ ही गए होंगे कि ये बेहद रोमांटिक कहानी है. आगे बढ़ने से पहले मैं आपको दोनों भाभियों और लड़के यानि खुद से मिलवा देता हूँ.

पहली स्टार भाभी, उम्र 36 साल और फिगर 38-32-40. दूसरी अंकिता भाभी, उम्र 35 साल और फिगर 34-30-38. तीसरा राकेश यानि मैं और मेरी उम्र 30 साल है. लिंग 6 इंच लंबा और 2 इंच मोटा है. हम सभी एक ही बिल्डिंग में रहते थे और एक-दूसरे को अच्छी तरह से जानते थे। हम अक्सर एक-दूसरे के घर आते-जाते रहते थे।

दो भाभी के साथ ग्रुप सेक्स

पूजा भाभी का पति नावेद और अंकिता भाभी का पति राजेश भी मेरे दोस्त हैं। हम तीनों बिजनेस पार्टनर भी हैं. और हमेशा ड्रिंक वगैरह का प्लान रहता था। दोनों भाभियाँ हमेशा मुझसे कहती थीं- राकेश, शादी कर लो और घर बसा लो, तुम बहुत अच्छे लगते हो, कोई भी लड़की तुमसे शादी कर लेगी। मैं हमेशा उनकी बातों को हंसी में उड़ा देता था.

एक दिन, हमेशा की तरह, हम साथ बैठे थे और ड्रिंक चल रही थी। तब अंकिता भाभी बोलीं- तुम हमेशा शादी की बात सुनकर टाल देते हो, कोई दिक्कत है क्या? मैं- नहीं, ऐसा नहीं है पूजा भाभी- शायद उसका कोई चक्कर है.

मैं- अरे नहीं, आप क्या कह रही हैं भाभी, लेकिन आप जैसी कोई मिले तो कर लूंगा! अंकिता भाभी- क्यों मेरे साथ कुछ गड़बड़ है, क्या यह मेरे जैसा काम नहीं करेगा? मैं- अरे मेरा मतलब ये था कि अगर तुम दोनों जैसा कोई मिले तो सोचूंगा!

अंकिता भाभी के पति राजेश बोले- अरे तुम कहां इन दोनों की बातों में फंस रही हो, ये तो तुम्हारी टांग खींच रहे हैं. पूजा का पति नावेद- ये सब छोड़ो और जब चाहो जो चाहो कर लो. अब इस खूंटी को ख़त्म करो! अंकिता और पूजा भाभी ने एक दूसरे की तरफ देखा और हल्के से मुस्कुराने लगीं. मैं भी शराब का मजा लेते हुए इन दोनों को देख रहा था. मुझे बिल्कुल भी अंदाज़ा नहीं था कि वो दोनों मेरे साथ सेक्स करने की कोशिश कर रहे थे.

दरअसल हुआ ये था कि दो हफ्ते पहले अंकिता और पूजा भाभी आपस में बात कर रही थीं. अंकिता भाभी- यार, राजेश कुछ नहीं कर पा रहा है. पूजा भाभी – हां यार नावेद का भी यही हाल है। जीजा के लंड से कभी प्यास नहीं बुझती. जब तक मेरी लालटेन की बाती गर्म होती है, तब तक इस टेसू की मोमबत्ती बुझ जाती है। अंकिता भाभी सिगरेट सुलगाते हुए बोलीं- अरे हम तो राकेश को पटाने के लिए ही ऐसा करते हैं.

दो भाभी के साथ ग्रुप सेक्स

पूजा भाभी ने अंकिता भाभी के हाथ से सिगरेट ली और कश लेते हुए बोलीं- आइडिया बुरा नहीं है. यही सोच कर आज शराब पीने के कार्यक्रम के दौरान दोनों की नजरें मिलीं और मुझे देख कर दोनों अपने होंठ चूसने लगीं. अगले दिन नावेद और राजेश को कंपनी के काम से बाहर जाना पड़ा। मैं भी अकेला रहता हूं और ऑफिस बिजनेस की जिम्मेदारी मेरे सिर पर थी.

शाम को पूजा भाभी का फोन आया- हाय राकेश, आज डिनर पर मेरे घर आ जाओ, अंकिता भी यहीं आने वाली है। मैं- ठीक है, धन्यवाद भाभी. रात 8 बजे पूजा भाभी के घर पहुंचीं. सामने टेबल पर खाना था. वहां अंकिता भाभी भी थीं. आज दोनों अलग लग रहे थे. दोनों ने साड़ी पहनी थी. बहुत कम ही मैंने दोनों को साड़ी पहने हुए देखा है. मैं: तुम दोनों आज साड़ी क्यों पहन रही हो? क्या वहां कुछ हैं?

अंकिता भाभी बड़बड़ाते हुए बोलीं- हां, मैं आज तुम्हारे साथ सुहागरात मनाना चाहती हूं. मैंने कहा- तुमने कुछ कहा? पूजा भाभी- अरे कुछ नहीं, तुम आकर पिओगे ना? मैं: हाँ, कृपया एक बड़ा पेग, धन्यवाद। पूजा भाभी- रुको, मैं लाती हूँ. अंकिता भाभी मुझे खा जाने वाली नजरों से घूर रही थीं जैसे वो जानना चाहती हों कि मेरी पैंट के अंदर क्या है. तब पूजा भाभी ने अंकिता भाभी को बुलाया.

पूजा भाभी- अंकिता, अन्दर आओ ना! अंकिता भाभी को अचानक होश आया और बोलीं- हां, मैं अभी आई! थोड़ी देर बाद अंकिता और पूजा ड्रिंक्स और स्नैक्स लेकर आईं और हम तीनों बातें करते हुए ड्रिंक करने लगे। पूजा भाभी ने सिगरेट सुलगा ली और मुझसे बोलीं- आज तो बता दो कि तुम शादी क्यों नहीं कर रहे हो? मैं- अरे भाभी, फिर वही बात, कुछ और बात करो!

अंकिता भाभी- और कुछ क्यों? ऐसा क्यों नहीं, आपके पास एक GF है, हमें कोई नहीं मिली! मैं- नहीं भाभी, कोई नहीं है. मैंने कहा कि अगर मुझे तुम दोनों जैसी कोई मिल जाए तो मैं तुमसे शादी कर लूंगा. पूजा और अंकिता दोनों एक साथ बोलीं-मुश्किल है. अंकिता भाभी- अच्छा ये बताओ हम दोनों में क्या समानता है? मैं: आप अच्छी हैं, बुद्धिमान हैं, सुंदर हैं.

दो भाभी के साथ ग्रुप सेक्स

पूजा भाभी- चल झूठे! मैं: सच भाभी. अंकिता भाभी- तो बताओ हम दोनों में से कौन ज्यादा खूबसूरत है? मैंने परेशानी में कहा- तुम दोनों बहुत खूबसूरत हो. पूजा भाभी- फिर भी? मैंने शरमाते हुए कहा- अब मैं कैसे बताऊं कि तुम दोनों में से कोई एक दूसरे से कम नहीं है. अंकिता भाभी- अच्छा, तुम्हें मेरे अंदर क्या पसंद है? मैं- सब कुछ प्रकृति है, आंखें अंकिता- और?

मैं- कद, घने बाल. अंकिता भाभी- और क्या? मैंने धीरे से कहा- और पता करो! पूजा भाभी ने मौके का फायदा उठाया और बोलीं- अच्छा, इसका मतलब मेरा फिगर अच्छा नहीं है? अब मुझे सब कुछ समझ में आ गया और मैंने मन में सोचा कि आज की रात बहुत लंबी होने वाली है। मैंने कहा- नहीं, तुम्हारी भाभी भी अच्छी हैं, बल्कि बहुत अच्छी हैं. पूजा भाभी- तो बताओ तुम्हें मेरा फिगर कैसा लगता है और हां खुल कर बताओ न!

मैं- अब कैसे कहूँ? फिर मैंने थोड़ा शरमाते हुए कहा- आपके स्तन! अंकिता भाभी मन में कुछ बुदबुदाते हुए बोलीं- हां, वो तो है. भाभी इतना बड़ा कौन सा है. मैंने उसकी बड़बड़ाहट सुनी और उसकी तरफ देखने लगा. भाभी ने अपने मम्मे ऊपर उठाते हुए कहा- तुम्हें मुझमें और क्या पसंद है? मैंने तुरंत उत्तर दिया- आपकी गांड! मेरे इतना कहते ही कमरे का माहौल अचानक एकदम शांत हो गया. पूजा भाभी और अंकिता भाभी मेरे बगल में आकर दोनों तरफ बैठ गईं.

मैं भी तैयार हो गया और उन दोनों की पहली हरकत का इंतज़ार करने लगा. दोस्त बीवी के साथ पोर्न सेक्स का खेल शुरू हो गया. तभी अंकिता भाभी अचानक से अपने होंठ मेरे होंठों की तरफ ले आईं और मेरे होंठों को चूमने लगीं. मैंने तुरंत उसे अपने पास खींच लिया और चूमना शुरू कर दिया. पूजा भाभी ने भी अपनी हरकत शुरू कर दी. उसने भी मुझे अपनी तरफ खींच लिया और चूमने लगी.

दो भाभी के साथ ग्रुप सेक्स

मैं भी बहुत जोश में आ गयी और पूजा भाभी को भी चूमने लगी। अंकिता भाभी- अब मुझे समझ आया कि तुम शादी क्यों नहीं कर रहे थे. आप हमारे साथ मौज-मस्ती करना चाहते थे! मैं- बहुत देर से समझ आई भाभी! ये कहते हुए मैंने अंकिता भाभी को अपनी तरफ खींच लिया. हम तीनों एक साथ किस करने लगे. मैं अपनी जीभ बाहर निकाल रहा था और पूजा भाभी और अंकिता भाभी की जीभ एक साथ मेरी जीभ से टकराने लगीं.

चुम्बन के साथ-साथ मैं धीरे-धीरे अपने हाथ अंकिता भाभी और पूजा भाभी के स्तनों पर ले गया और धीरे-धीरे उनके स्तनों को दबाने लगा। पूजा भाभी खड़ी हुईं और अपनी साड़ी उतार दी। साड़ी के बाद वो अपना ब्लाउज खोलने लगीं. कुछ ही पलों में पूजा भाभी ने अपने ब्लाउज के फटे हुए बटन खोले और उसे झटके से अपनी छातियों से अलग कर दिया. उसने ब्लाउज के नीचे काले रंग की ब्रा पहनी हुई थी.

उसने मेरी आंखों में वासना से देखते हुए अपने हाथ अपनी पीठ पर मोड़े और एक झटके में अपनी ब्रा उतार दी. पूजा भाभी- आओ और चूसो, तुम्हें मेरे स्तन पसंद हैं ना? मैं एकदम से पूजा भाभी के मम्मों पर टूट पड़ा. पूजा भाभी- आह्ह धीरे राजा अंकिता, तुम भी आओ! अंकिता भाभी- उफ्फ, तुम्हारे स्तन तो वाकई कमाल के हैं!

यह कह कर उसने पूजा भाभी का दूसरा स्तन अपने मुँह में ले लिया। मैं पूजा भाभी के एक तरफ था और अंकिता भाभी दूसरी तरफ थीं. पूजा भाभी कराहने लगीं- आह धीरे, आह माँ मर गई. फिर अंकिता भाभी ने अपनी साड़ी उतार कर एक तरफ फेंक दी और अपने पेटीकोट का नाड़ा ढीला करके उसे खोल दिया. उसने अपना ब्लाउज भी उतार दिया.

दो भाभी के साथ ग्रुप सेक्स

अंकिता भाभी ने लाल रंग की ब्रा और पैंटी पहनी थी. उसकी गांड बहुत फूली हुई लग रही थी. मैंने अंकिता भाभी को बिस्तर पर लिटाया और उनकी टांगों से पैंटी उतार कर उन्हें नंगी कर दिया. मैंने उसकी नंगी चूत से रस टपकता हुआ देखा तो मैं उसकी चूत पर टूट पड़ा और उसे चाटने लगा। अंकिता भाभी- आआह धीरे आअहह पूजा भाभी भी अंकिता भाभी के मुँह के पास जाकर उनके स्तनों को चूसने लगीं और उन्होंने अंकिता भाभी की ब्रा खोल दी और उनके स्तनों को मसलने लगीं.

कुछ देर बाद मैंने अपना लंड बाहर निकाला और दोनों रंडियाँ मेरा लंड देखकर चौंक गईं और भूखी कुतिया की तरह लार टपकाने लगीं। मैं सोफे के पास खड़ा हो गया और अपना लंड हिला कर बोला- जल्दी आओ और इसे चूसो! अंकिता भाभी पूरी नंगी थीं. वो झट से आकर बैठ गयी और लंड को मुँह में लेने लगी. पूजा भाभी ने भी अपनी पैंटी उतार दी और मुझे चूमते हुए धीरे से बैठ गईं.

अंकिता भाभी के साथ वो भी मेरा लंड चूसने लगीं. अब अंकिता और पूजा भाभी दोनों एक साथ मेरा लंड चूसने लगीं. में : आह आह, फिर कुछ देर तक अपना लंड चुसवाने के बाद मैंने पूजा भाभी को ज़मीन पर लेटा दिया और एक ही झटके में अपना लंड उनकी चूत में डाल दिया. पूजा- आआह आह अंकिता ने तुरंत अपना एक स्तन पूजा के मुँह में डाल दिया और पूजा ने कराहते हुए अंकिता भाभी के स्तन को अपने मुँह में दबा लिया और काटने लगी।

अंकिता भाभी- आआह धीरे आआह, करीब 5 मिनट के बाद पूजा झड़ गई और जोर-जोर से आवाजें निकालने लगी. ‘आआह…’ अंकिता भाभी ने तुरंत मुझे आने का इशारा किया. मैंने अंकिता से कहा- मुझे तुम्हारी गांड बहुत पसंद है. चलो इसे डॉगी स्टाइल में करते हैं. अंकिता भाभी- हां, लेकिन गांड में मत डालना! मैं- ठीक है, जल्दी आओ.

दो भाभी के साथ ग्रुप सेक्स

भाभी सोफे के किनारे झुक गईं और मैंने पूजा की चूत के पानी से भीगा हुआ अपना लंड निकाला और अंकिता भाभी की चूत पर रगड़ने लगा. अंकिता भाभी- डल नाआ… भोसड़ी का! मैंने एक जोरदार धक्का मारा और अपना पूरा लंड अन्दर तक घुसा दिया. अंकिता भाभी अचानक चिल्ला उठीं- आआअहह … मर गई. मैं उस वक्त पूरे जोश में था और अंकिता भाभी को चोदने लगा.

मैं- अंकिता रानी, मैं बहुत दिनों से तुम्हारी चूत चोदने के लिए तरस रहा था… आज मौका मिल गया! ये कहते हुए मैंने अंकिता भाभी की गांड पर थप्पड़ मार दिया. अंकिता- आह मेरी जान ऐसा मत करो आह. लेकिन मैं अंकिता भाभी को पागलों की तरह चोद रहा था. इतने में पूजा अंकिता के सामने आ गयी और अंकिता भाभी को अपनी चूत चाटने का इशारा करने लगी.

अंकिता भाभी ने पूजा की टांगों के बीच अपनी जीभ डाल दी और उसकी लपलपाती हुई चूत को चाटने लगीं. पूजा भाभी अपने स्तनों को अपने हाथों से मसलने लगीं। मैं अंकिता को पीछे से जोर जोर से चोद रहा था. करीब 10 मिनट बाद अंकिता भाभी की संतुष्ट आवाज निकलने लगी. क्योंकि उसका पानी पूरी तरह से निकल चुका था. एक मिनट बाद मैं भी अपनी चरम सीमा पर पहुँच गया और कहने लगा- आआह मेरा पानी निकलने वाला है!

दो भाभी के साथ ग्रुप सेक्स

अंकिता भाभी ने तुरंत मेरा लंड अपनी चूत से बाहर निकाला और पूजा और अंकिता दोनों मेरे लंड को अपने स्तनों की तरफ करने लगीं और लंड से पानी निकलने का इंतज़ार करने लगीं. अंकिता भाभी ने अपना हाथ बढ़ा कर मेरा लंड पकड़ लिया और जोर-जोर से हिलाने लगीं. उसी वक्त एक जोरदार पिचकारी निकली और पूजा भाभी के मम्मों पर गिरी. मैं- आआअहह. पूजा भाभी ने तुरंत अंकिता को घोड़ी बनने को कहा और लंड को और जोर से हिलाने लगीं.

तभी अंकिता भाभी की गांड पर एक और जोरदार पिचकारी गिरी. मैं ऐसे ही अपना रस निचोड़ता रहा और थक कर सोफे पर बैठ गया. पूजा भाभी अपने स्तनों को अंकिता की गांड पर फिराने लगीं और उसके बाद दोनों ननदें एक दूसरे को चूमने लगीं. करीब 2 मिनट बाद पूजा अंकिता का हाथ अपनी चूत पर ले आईं और अंकिता भाभी पूजा भाभी का हाथ अपनी चूत पर ले आईं और दोनों एक-दूसरे को चूमने और सहलाने लगीं।

मैं थके हुए अधमरे की तरह सब कुछ देख रहा था और सिगरेट का मजा लेने लगा. कुछ देर बाद अंकिता भाभी ने पूजा को मेरे पास लेटा दिया और उसकी चूत को अपनी चूत से रगड़ने लगीं. वो दोनों ‘आअहह ऊह’ की आवाजें निकाल रहे थे। ये सब देख कर मेरा लंड फिर से खड़ा हो गया था. मैंने पूजा भाभी के मुंह में अपना लंड डाल दिया और अंकिता को चूमने लगा. बस एक मिनट बाद पूजा ने मुझे सोफ़े पर सीधा लिटा दिया और अपनी चूत मेरे लंड पर रख कर धक्का दे दिया.

दो भाभी के साथ ग्रुप सेक्स

भाभी की चूत मेरे लंड पर उछलने लगी. पूजा भाभी के स्तन बहुत ज़ोर ज़ोर से ऊपर नीचे हो रहे थे। मैंने अंकिता को अपने पास बुलाया और उसकी एक टांग उठा कर उसकी चूत चाटने लगा. अब अंकिता भाभी और पूजा दोनों मादक आहें भरने लगीं, ‘आआह ऊऊ आह…’ कुछ ही देर में पूजा भाभी झड़ने वाली थीं और वो जोर-जोर से लंड को अन्दर-बाहर करने लगीं.

पूजा भाभी आह भरते हुए एक तरफ हट गईं. इसके बदले अंकिता तुरंत उछल पड़ी और अपना मुँह मेरे लिंग पर ले आई। उसने एक मिनट तक मेरा लंड चूसा और तुरंत उस पर बैठ गई और जोर-जोर से अपनी गांड उछालने लगी. पूरे कमरे में लंड-चूत की थप-थप की आवाज आने लगी. पूजा भाभी ने नीचे से अंकिता के मम्मों पर हाथ रख दिया और उन्हें मसलने लगीं. अंकिता और भी उत्तेजित हो गयी. करीब दो मिनट बाद अंकिता भाभी का भी वीर्य निकल गया.

दो भाभी के साथ ग्रुप सेक्स

अंकिता भाभी- आआआह उम्म्म्म. मुझे अपने लिंग पर अंकिता भाभी का तरल पदार्थ महसूस होने लगा. अंकिता भाभी झड़ने के बाद जब उठने लगीं तो मैंने उन्हें उठने नहीं दिया. मैं खुद ही उसकी चूत में जोर जोर से धक्के लगाने लगा. अंकिता- मादरचोद आह … मेरी चूत बहुत दर्द कर रही है … जाने दे हरामी. मैं- बस दो मिनट और.. मैं आ रहा हूँ भाभी.

ये कह कर मैंने तुरंत अपना लंड बाहर निकाल लिया. मैंने अंकिता और पूजा दोनों को इशारा किया और मेरे लंड के नीचे बैठने को कहा. वो दोनों रंडियाँ वीर्य के लिए लंड के सामने मुँह खोल कर बैठ गईं. कुछ ही देर में मैंने अपने लंड का सारा माल उन दोनों के मुँह में छोड़ दिया. चुदाई ख़त्म हो चुकी थी. हम तीनों बहुत थके हुए थे इसलिए वहीं सो गये. सुबह उठकर मैंने अंकिता और पूजा भाभी को कपड़े नहीं पहनने दिये.

दिन भर उन दोनों को चोदा. चुदाई के दौरान अंकिता भाभी और पूजा भाभी ने कई बार मेरे लंड से निकले तरल पदार्थ को अपनी चूत में लिया.

Book Delhi Escorts On Call or WhatsApp 7838910289

256 Views