गर्लफ्रेंड के साथ पहला चुदाई

गर्लफ्रेंड के साथ पहला चुदाई

हेलो दोस्तों, मेरा नाम जैकी है. मेरी उम्र अभी 23 साल है और मैं भोपाल का रहने वाला हूँ. मेरी जिंदगी ज्यादातर रंगीन रही है, मेरी अब तक 9 गर्लफ्रेंड रही हैं और मैंने उन सभी के साथ खूब मजे किये हैं। लेकिन ये कहानी इन सभी गर्लफ्रेंड्स के बीच सबसे मजेदार चुदाई की है जिसमें मैंने अपनी गर्लफ्रेंड को कॉलेज के बाथरूम में चोदा.

यह न्यू गर्लफ्रेंड चुदाई स्टोरी तब की है जब मैं इंजीनियरिंग के तीसरे साल में था. उस समय लॉकडाउन शुरू हो गया था और मैं और मेरी गर्लफ्रेंड लॉन्ग डिस्टेंस रिलेशनशिप में थे. मुझे चुदाई के लिए कोई नहीं मिला! तो मैंने सोचा कि क्यों न कॉलेज में ही किसी को पटाया जाए. इसलिए 25 दिन बाद जब लॉकडाउन खुलेगा, तब मैं उसके साथ चुदाई कर सकूंगा.

मैंने अपने ही प्रोजेक्ट पार्टनर पर लाइन मारना शुरू कर दिया और उसे अपनी बातों में फंसा कर अपने प्यार के जाल में फंसा लिया. वैसे तो वो बहुत अच्छे परिवार से थी लेकिन चुदाई का भूखा तो हर कोई होता है. और उसके पास इससे भी अधिक था। मुझे लगा था कि 25 दिन में लॉकडाउन हट जाएगा. लेकिन मुझे क्या पता था कि कॉलेज खुलने में पूरा एक साल लग जाएगा!

जब तक कॉलेज बंद था, मैंने उससे कहा था कि वह मुझे हर दिन बिना कपड़ों के अपनी असली तस्वीरें और कपड़े उतारते हुए वीडियो भेजे। फिर वो दिन आ गया जिसका हम दोनों को इंतज़ार था. कॉलेज खुल चुके थे और केवल हम अंतिम वर्ष के विद्यार्थियों को ही बुलाया गया था। हमने प्लान किया था कि कॉलेज की छुट्टियों के बाद हम दोनों खाली क्लासरूम में जाकर किस करेंगे और ब्लोजॉब का मजा भी लेंगे क्योंकि क्लासरूम चुदाई के लिए सही जगह नहीं है.

तो पहले दिन हम क्लास के बाद रुके और मैंने उसके गालों को पकड़ा और बहुत देर तक चूमा। वो भी मेरा पूरा साथ दे रही थी. फिर धीरे-धीरे मेरा हाथ उसकी गांड पर गया और मैं उसे दबाने लगा. उसे भी गांड दबवाने में मजा आ रहा था! अपनी प्रतिक्रिया में वह मेरे होंठों को काट रही थी. मैंने धीरे से अपना हाथ उसके टॉप के अन्दर डाल दिया और उसकी ब्रा का हुक खोल दिया और उसके मम्मे दबाने लगा।

तब ऐसा लगा जैसे मैं रुई को छू रहा हूं. वो इतने मुलायम थे कि मेरा उन्हें छोड़ने का मन ही नहीं हुआ और मैं बस उन्हें दबाता रहा. फिर मैंने अपने होंठ उसके होंठों से हटाये और उसका टॉप उठाकर उसके मम्मों पर रख दिया और उन्हें जोर-जोर से चूसने लगा। उसके हाथ मेरे बालों पर थे और वो उन्हें जोर से खींचने लगी और आवाजें निकालने लगी.

मेरा एक हाथ उसकी कमर पर था और दूसरा हाथ उसकी पैंट के अन्दर उसकी चूत पर था.. जो गीली हो चुकी थी। मैंने उसकी चूत में उंगली करने की कोशिश की. लेकिन वो बहुत टाइट था और जैसे ही मैंने थोड़ी सी उंगली डाली तो बहुत दर्द होने लगा. और मैं नहीं चाहता था कि वह चिल्लाये। क्योंकि हम ये सब क्लास के अंदर कर रहे थे. कुछ दिन ऐसे ही चूमते और दबाते हुए निकल गये। लेकिन हमें चुदाई करना था और कोई अच्छी जगह नहीं मिल रही थी.

कॉलेज में काफी खोजबीन के बाद हमें कॉलेज का ही एक गर्ल्स बाथरूम मिला, जहां अब कोई नहीं जाता था. तो हम दोनों ने प्लान बनाया कि कॉलेज की क्लास बंक करके यहाँ आएँगे। अगले दिन हमने वैसा ही किया और उस बाथरूम में पहुँच गये! वो बाथरूम थोड़ा बड़ा था इसलिए हमें चुदाई करने में कोई दिक्कत नहीं होने वाली थी. लेकिन एक समस्या थी कि मेरे पास कंडोम नहीं था.

और जब मैंने उसे ये बात बताई तो उसने कहा- कोई बात नहीं, जाने से पहले इसे निकाल लेना. ये सुनकर मुझे ख़ुशी हुई. जैसे ही हम बाथरूम में आये, सबसे पहले उसने गेट बंद किया। मैंने उसे पीछे से पकड़ लिया और उसकी गर्दन पर चूमने लगा. वो भी मेरी गर्दन पर चूमने से मदहोश होने लगी और मेरी पैंट के ऊपर से मेरे लंड को पकड़ने लगी जो बहुत टाइट हो गया था.

उसने पहले कभी मेरा लिंग नहीं पकड़ा था इसलिए उसकी लंबाई महसूस करके वह थोड़ा चौंक गई। वैसे, मैं आपको बता दूं कि मेरे लिंग की लंबाई 6 इंच है, जो एक औसत भारतीय की लंबाई है। लेकिन लंड इतना मोटा है कि अब तक 3 लड़कियों को रुला चुका है. मेरी गर्लफ्रेंड को बिल्कुल भी अंदाज़ा नहीं था कि आज उसके साथ क्या होने वाला है.

सबसे पहले मैंने उसका टॉप उतार दिया, उसकी ब्रा भी उतार दी और उसे लिटा दिया। मैं एक हाथ से उसका एक बूब दबा रहा था और मुँह से दूसरा बूब दबा रहा था। अब उसे आवाजें निकालने की पूरी आजादी थी… इसलिए जब भी मैं उसे काटता तो वह ‘आह… आह’ कर रही थी। मैंने उसके मम्मों को 10 मिनट तक चूसा और एकदम लाल कर दिया. उनके चेहरे पर खुशी साफ झलक रही थी.

उसके बाद उसने खुद ही मेरी टी-शर्ट उतार दी और मेरी पैंट भी उतार दी. और फिर वो मेरे लंड से खेलने लगी. जैसे-जैसे वह उसके साथ खेल रही थी, वह बड़ा होता जा रहा था। जब मेरा लंड पूरा खड़ा हो गया तो वो मुझसे पूछ रही थी- अगर उंगली अन्दर डालने में इतनी दिक्कत हो रही है तो पूरा अन्दर कैसे जायेगी.

मैंने उसके सवाल का कोई जवाब नहीं दिया, बस उसकी पैंट उतार दी और उसकी चूत पर अपनी जीभ रख दी। जैसे ही मैंने उस पर अपनी जीभ रखी तो मानो वो पिघल गई, उसकी आंखें बड़ी हो गईं और मुंह खुला रह गया. वह तरह-तरह की आवाजें निकालने लगी. मैंने मौका देखा और खुद को 69 पोजीशन में कर लिया और उससे मेरा लंड चूसने को कहा.

लेकिन उन्होंने मना कर दिया. तो मैंने भी उसकी चूत चूसना बंद कर दिया. और फिर उसे मेरा लिंग चूसने के लिए मजबूर किया गया. फिर मैंने फिर से उसकी चूत को चाटना शुरू कर दिया. और 15 मिनट के बाद हम दोनों एक साथ एक दूसरे के मुँह में स्खलित हो गये। झड़ने के बाद भी मैंने अपना लंड उसके मुँह से बाहर नहीं निकाला, इसलिए उसे मेरा रस पीना पड़ा. फिर हम कुछ देर तक एक दूसरे के शरीर से खेलते रहे।

जैसे ही मेरा लंड फिर से खड़ा हो गया, मैंने उसे सीधा लिटाया और उसकी टांगें ऊपर उठाईं और अपना लंड उसकी चूत पर रगड़ने लगा. थोड़ी देर तक मेरे लिंग को रगड़ने के बाद वह मुझ पर चिल्लाने लगी कि इसे अंदर डालो! फिर मैंने उससे कहा- तुम्हें बहुत दर्द होगा. फिर भी मेरी नई GF चुदाई का मजा लेना और लंड लेना चाहती थी.

मैंने अपना लंड उसकी चूत पर सेट किया और उसकी ब्रा उसके मुँह में डाल दी ताकि वो जोर से चिल्ला न सके. और मैंने एक झटका दे दिया, जिससे मेरा लंड थोड़ा अन्दर चला गया. वो चीखना चाहती थी लेकिन उसकी आवाज ज्यादा तक नहीं पहुंच पाई और उसने अपने हाथ मेरे पेट पर रख दिए और मुझे पीछे धकेलने लगी. तो मैंने उसके हाथ उसके ही कपड़े से बांध दिए और एक और झटका मारा.

इस धक्के से मेरा लंड पूरा अन्दर चला गया. अब उसे बहुत दर्द हो रहा था जो उसके आंसू देखकर ही समझा जा सकता था. मैं पांच मिनट तक ऐसे ही पड़ा रहा. और जब उसका विरोध कम हुआ तो मैंने धीरे धीरे झटके देना शुरू कर दिया.
कुछ देर बाद वो खुद ही बोली कि अब मैं और जोर से झटके मार सकती हूँ. तो मैं खुद नीचे लेट गया और उसे काउगर्ल पोज़िशन में ले आया और नीचे से ज़ोर-ज़ोर से धक्के मारने लगा।

और वो भी जोश में आकर मेरे लंड पर उछल रही थी और आवाजें निकाल रही थी. पूरा बाथरूम थप-थप की आवाजों से भरा हुआ था. 15 मिनट में ही वो स्खलित हो गयी. और जब मैं झड़ने वाला था तो मैंने उसे अपने ऊपर से खींच लिया और अपना लिंग उसके मुँह में डाल दिया।

177 Views