मामा की साली के साथ चुदाई

दोस्तो, मेरा नाम गोलू है. मैं गांव का रहने वाला हूं. मैं एक बार अपने मामा के यहाँ गया था। उनके बेटे के जन्मदिन पर एक बड़ा आयोजन किया गया. वहां अंकल की भाभी भी आई हुई थीं. हालाँकि मेरा इससे कोई लेना देना नहीं था. फिर भी जो नहीं होना चाहिए था, वो हो गया. मेरे चाचा की भाभी को शायद मैं पसंद था. उसका नाम सीमा था. सीमा के बारे में बताऊं तो वो भी किसी से कम नहीं थी.

वो दूध सी गोरी लड़की थी. उसकी लम्बाई साढ़े पांच फुट थी और फिगर 32-28-34 था. वो बहुत ही कातिलाना लग रही थी. उस दिन एक बर्थडे पार्टी चल रही थी, तभी वो मुझसे बात करने लगा. उन्होंने मुझसे पूछा- आप क्या करते हैं, क्या आपकी कोई जीएफ है? मैंने कहा नहीं? फिर मैंने भी पूछा- क्या आपका कोई बीएफ है? उन्होंने भी नहीं कहा. इस तरह हमारी बातें होने लगीं.

पार्टी में बहुत सारे लोग आये थे इसलिए किसी ने हम दोनों पर ध्यान नहीं दिया. मैं सीमा से काफी देर तक बात करता रहा. उससे बात करके मुझे बहुत अच्छा लगा. वो भी मुझसे बात करके बहुत खुश लग रही थी. अगले ही दिन उसने कुछ ऐसा किया कि मैं पूरी तरह से हैरान रह गया. शायद वो मेरे साथ सेक्स करना चाहती थी. हुआ यूं कि अगले दिन हम लोग सोने के लिए लेटे हुए थे. मैं आंखें बंद करके लेटा हुआ था.

मामा की साली के साथ चुदाई

सीमा भी मेरे पास ही लेटी हुई थी. आंटी उसके बगल में लेटी हुई थीं. बहुत थकी होने के कारण आंटी जल्दी सो गईं. मुझे नींद नहीं आयी और सीमा को भी नींद नहीं आयी. अचानक उसने अपना हाथ मेरे सीने पर रख दिया, मैं चौंक गया. मैंने एक आँख खोली और देखा कि सीमा मेरे बहुत करीब आ गई थी और उसने अपना एक हाथ मेरी छाती पर रख दिया था। मैंने नज़ारा देखने के लिए अपनी आँखें थोड़ी सी खोलीं और फिर बंद कर लीं। अब मैं देखना चाहता था कि वो क्या चाहती है.

सीमा धीरे-धीरे अपना हाथ नीचे ले गई। उसने मेरे लोअर के ऊपर से मेरे लंड को छुआ और मेरे पेट पर हाथ रख कर उसे रोक लिया. मैं जाग रहा था और उसके हाथ की हरकत भी महसूस कर रहा था. उसके अचानक मेरे लिंग के स्पर्श से मेरे शरीर में करंट सा दौड़ गया और मेरा लिंग ऐसे हिचकोले खाने लगा जैसे कोई साँप छेड़ा गया हो। उसने अपना हाथ पेट से नीचे किया और लिंग को सहलाने लगी. अब लंड खड़ा होने लगा.

जैसे ही मेरा लंड खड़ा हुआ, उसने मेरा लंड पकड़ लिया. जब लिंग पूरा सख्त हो गया तो उसने अपना हाथ लोअर के अंदर डाल दिया और उसे मसलने लगी. मेरी साँसें तेज़ होने लगीं जिससे वो समझ गई कि मैं जाग रहा हूँ और अपने लिंग को सहलाने का आनंद ले रहा हूँ। अब उसने मेरा लंड छोड़ दिया और बिस्तर पर निचे सरक गयी. अभी कुछ ही पल बीते थे कि उसने अपने दोनों हाथों से मेरा लोअर नीचे सरकाया और मेरे लिंग को अपनी जीभ से चाटा.

मामा की साली के साथ चुदाई

आह… मानो लंड में आग लग गई हो. मैं बड़ी मुश्किल से अपनी मुट्ठियाँ भींच कर खुद पर काबू पा रहा था। लिंग से प्रीकम जैसा तरल पदार्थ निकलना शुरू हो गया था. उसने अपना मुँह खोला और मेरा खड़ा लिंग अपने मुँह में ले लिया। इससे तो मेरे लंड की माँ ही चुद गयी. उसके मुँह की गर्मी महसूस होते ही मेरा लंड गुर्राने लगा. लेकिन सीमा ने सर्कस के रिंग मास्टर की तरह मेरे लिंग को अपने मुँह में नियंत्रित कर लिया था।

अब वह अपने एक हाथ का इस्तेमाल भी करने लगा था. वह लिंग को अपने हाथ से पकड़ कर बार-बार अपनी जीभ से ऊपर से नीचे तक चाटती और गटक कर मुँह में डाल लेती और कुल्फी की तरह चूसने लगती। मैं नशे में था. मेरी आवाज़ें मुश्किल से नियंत्रित हो पाती थीं. आंटी मेरे बगल में लेट कर सो रही थीं और उनकी बहन मेरे लिंग को स्वर्गीय आनंद दे रही थी. मैं इसे सहन नहीं कर सका. कुछ देर बाद मैं स्खलित हो गया और उसने मेरे लिंग का सारा तरल पदार्थ पी लिया।

लिंग को चाट कर साफ करने के बाद सीमा भी अलग हो गयी और मेरे बगल में लेट गयी. हम दोनों सो गये. अगले दिन मैंने उससे अकेले में पूछा- तुम कल रात क्या कर रही थी? उसने मेरी बात को अनसुना कर दिया. मैंने उससे कई बार पूछा, लेकिन वह एक मौज-मस्ती करने वाली लड़की की तरह हर बार मजाक करके विषय बदल देती थी। फिर मैंने एक बार फिर उसका हाथ पकड़ा और पूछा- क्या हुआ.. प्लीज बताओ? उसने धीरे से कहा- अपना हाथ छोड़ो और बात समझो। ये सबके सामने बताने वाली बात नहीं है. मैं तुम्हें अकेले में बताऊंगा. मैंने कहा- हां तो फिर अकेले चलते है.

मामा की साली के साथ चुदाई

वो बोला- अभी नहीं … अभी तो दीदी है. तुम छत पर बने कमरे में चले जाओ. मैं वहां आउंगा। मैंने। मैं उसका इंतजार करते-करते सो गया. आख़िरकार एक घंटे के बाद वह कमरे में आये और मुझे जगाया। मैंने उसकी तरफ देखा तो अपना सवाल दोबारा पूछा. उसने कहा- क्या तुम जानना चाहते हो कि तुमने कल रात क्या किया? मैंने कहा- हां बिल्कुल. वो हंसने लगीं और बोलीं- क्या तुम शुरू से ही ऐसे हो … या बनते जा रहे हो? मैं दंग रह गया।

मैंने उनकी बात का सार समझ लिया और कहा- मैं जानता था कि क्या किया गया है। लेकिन मैं पूछ रहा हूं कि उसने ये सब क्यों किया? वो चंचलता से बोली- मुझे आइसक्रीम चूसने का मन हो रहा है. मैं भी समझ गया कि लड़की फिर से मूड में आ रही है, इसलिए अब उसे रगड़ना चाहिए. मैंने कहा- आइसक्रीम ठंडी है ना? वो बोली- हां, शुरू में आइसक्रीम ठंडी थी, लेकिन बाद में गर्म होकर पिघल गयी.

सुन कर मैं समझ गया कि साली बहुत बड़ी रंडी है. मैं गुनगुनाता रहा. सीमा कहने लगी- क्या तुमने कभी सेक्स किया है? मुझे नहीं। सीमा- क्या तुम्हें सेक्स करने का मन है? उनकी इस बात से मैं एकदम चुप हो गया. वो बोली- बताओ? मैं क्या? सीमा- क्या तुम सेक्स करोगे? मुझे नहीं। सीमा- झूठ क्यों बोल रहे हो? अगर मुझे ऐसा लगता है तो मैं तैयार हूं. मेरे साथ सेक्स करोगी? मई तुमसे? वो बोली- हां मेरे साथ. मैंने कहा- यार, अगर किसी को पता चल गया तो? उसने कहा- कुछ नहीं होगा.

मैंने कहा- ठीक है. चलो आज शाम को ही कर लेते हैं. वो बोली- नहीं यार, मैं आज ये नहीं कर सकती. मैंने कहा- अब क्या हुआ? उसने कहा- नहीं यार, मेरी सील अभी भी पैक है. दर्द हो तो बहन को पता चल जाता है. मैं: चलो दूसरे घर चलते हैं.
उसने कहा- पागल हो क्या? क्या बहन मुझे जाने देगी? संयोग से उसी दिन मेरी चाची को किसी काम से बाहर जाना पड़ा और हम दोनों को मौका मिल गया. हम दोनों ने एक ही दिन कुंवारी लड़की की पहली चुदाई का प्लान बनाया और हमारी सेक्स कहानी शुरू हो गई.

मामा की साली के साथ चुदाई

सीमा ने मेरे सारे कपड़े उतार दिये. मैंने भी उसके कपड़े उतार दिये. अब वो मेरे सामने सिर्फ ब्रा और पैंटी में थी. मैं उसकी ब्रा के ऊपर से ही उसके मम्मों को दबाने लगा. हमारे पास समय कम था इसलिए हम दोनों ने सब कुछ जल्दी-जल्दी कर लिया। सबसे पहले वो घुटनों के बल बैठ गयी और मेरा लंड चूसने लगी. कुछ देर बाद मैंने उसे खड़ा किया और उसके होंठों को चूसने लगा. वो भी साथ दे रही थी.

मैंने उससे कहा- तुम सीधी लेट जाओ और अपने पैर ऊपर उठा लो. वह बिस्तर पर लेट गई और अपने दोनों पैर फैलाकर हवा में उठा लिए। मैं उसकी चूत को चाटने लगा. कुछ देर बाद उसकी चूत से रस टपकने लगा और कांपते हुए झड़ने लगी. मैंने उसकी चूत का सारा माल निगल लिया. कुछ देर बाद मैंने अपना लिंग उसकी चूत पर रखा और लिंग के टोपे को दरार में रगड़ने लगा। वो तड़प रही थी और कह रही थी- आह, प्लीज़ अन्दर डालो.

मैंने लिंग डालने के लिए दबाव डाला. उसकी चूत गीली थी इसलिए लंड फिसल गया. मैंने दोबारा कोशिश की, लेकिन फिर से लंड निशाने से चूक गया और गांड की तरफ चला गया. उसकी चूत बहुत टाइट थी. बड़ी मुश्किल से मेरा लंड अन्दर जा सका. लेकिन जब लंड अन्दर गया तो आधा अन्दर चला गया. इस झटके से उसकी चीख निकल गई और दर्द से कराहते हुए बोली- हाय मम्मी, मैं मर गई! मैंने तुरंत उसका मुँह अपने हाथ से दबा दिया. उसी समय मैंने एक और झटका दे दिया. मेरा पूरा लंड अन्दर चला गया.

मामा की साली के साथ चुदाई

वो रोने लगी और कहने लगी- आह छोड़ दो.. बहुत दर्द हो रहा है. मैंने कहा- चिंता मत करो, कुछ नहीं होगा. ये तो आप भी जानते हैं कि एक कुंवारी लड़की को पहली चुदाई में दर्द होता है. वह खामोश हो गयी। मैंने देखा कि मेरा लंड खून से लथपथ हो गया था. मुझे यह भी यकीन था कि यह नया है और अगर मैंने इसे आज छोड़ दिया, तो मुझे यह दोबारा कभी नहीं मिलेगा। वह रोती रही, चिल्लाती रही. मैंने उसकी बात नहीं सुनी. कुछ देर बाद वो भी साथ देने लगी. ज़बरदस्ती चुदाई हुई और मैंने अपने लंड का माल उसके पेट पर छोड़ दिया.

कुछ देर बाद फिर से मिलन हुआ और मैंने उसकी चूत का भोसड़ा बना दिया। चुदाई के बाद हम दोनों नहाने चले गये, अपने कपड़े पहने और बातें करने लगे। तब तक मौसी भी वहां आ गयीं. मैंने रात को उससे पूछा- तुम्हारी सील अभी तक क्यों नहीं टूटी? उन्होंने कहा- क्या अब भी कोई शक बाकी है? मैं दंग रह गया और उसकी तरफ देखने लगा. वो बोली- मेरी भोली जान, मेरी सील तुम्हारे लिए ही बरकरार थी. आज तुमने ही इसे तोड़ा है. मैंने कहा- इसमें कोई शक नहीं लेकिन एक बात पच नहीं रही है. उसने कहा- क्या?

मैंने कहा- आप इतनी सेक्सी और हॉट हैं, फिर भी आपका कोई बीएफ नहीं है और अभी तक सेक्स नहीं किया है. जबकि आपके अंदर भी काफी आग है. उन्होंने कहा- मेरे घर में बहुत सख्ती है और मैं किसी को पसंद नहीं करती. लेकिन जब मैंने तुम्हें पार्टी में देखा तो मैंने मन बना लिया था कि मैं तुम्हारे साथ ही सेक्स करूंगा. तुम्हें देखते ही मेरे अंदर जो आग थी वो लावा में बदल गई. मैं उसकी तरफ देख कर मुस्कुराने लगा. वो बोली- जब से मैंने तुम्हें देखा है.

मैं तुम्हारे साथ सेक्स करना चाहती हूं. लेकिन आप कभी नहीं मिले. वह काम में ही व्यस्त रहते थे. मैं जानबूझ कर शाम को तुम्हारे पास लेटता था क्योंकि कहीं कुछ हो न जाये. लेकिन आप नहीं उठे. मैंने कहा- तुम्हारी बहन मेरे बगल में लेटी थी. अगर मैं उस वक्त तुम्हारे साथ सेक्स करता तो चाची सब देख लेतीं. वो हंसने लगी और मुझसे चिपक गयी.

386 Views