मोटी गांड वाली आंटी की चुदाई

दोस्तो, मेरा नाम सोहन है. मैं भोपाल का रहने वाला हूँ। मेरी उम्र 21 साल है और मैं बहुत स्मार्ट भी हूँ. मेरी लम्बाई 5 फुट 4 इंच है. जब मैं 19 साल का था. हमारे पड़ोस में आमिना नाम की एक आंटी रहती हैं. यह नाम बदल दिया गया है. अमीना आंटी की उम्र करीब 42 साल रही होगी.

उसका फिगर 36-34-36 होगा. आंटी बहुत सेक्सी और हॉट लग रही थीं. उसके उठे हुए और मोटे स्तन मुझे बहुत आकर्षित करते थे. मैं तो क्या, उसके ये मादक स्तन हर किसी को उनका आनंद लेने पर मजबूर कर देते थे. जब भी वह हमारे घर आती थी या मुझे किसी काम के लिए बुलाती थी तो मुझसे बहुत प्यार से और हंसकर बात करती थी।

जब वह सेक्सी मूड में होती थी तो मुझे इधर-उधर छूकर चिढ़ाती थी और मेरी जीएफ के बारे में पूछकर चिढ़ाती थी… भले ही मेरी कोई गर्लफ्रेंड नहीं थी। हालाँकि मैं भी उसकी बातों का मजा लेता रहा. मैं उनके गर्मजोशी भरे व्यवहार का लुत्फ़ उठाता था.

त्यौहार से 3 दिन पहले मौसी घर की सफ़ाई कर रही थी. उसी समय उसने मुझे सामान उतारने के लिए ऊपर वाले कमरे में बुलाया. उस वक्त उन्होंने लाल रंग का गाउन पहना हुआ था, जिसमें उनके स्तनों की रेखा साफ नजर आ रही थी. मैं उसके स्तनों को देख रहा था, जिसे उसने नोटिस कर लिया था।

मोटी गांड वाली आंटी की चुदाई

कुछ देर बाद वो बाथरूम में गई और नीले रंग का सूट पहन लिया, जिससे मुझे उसके बड़े-बड़े मम्मे और भी साफ़ नज़र आ रहे थे। उसे देख कर मेरा 6.5 इंच लम्बा लंड खड़ा हो गया. उसकी नजर भी मेरे खड़े लंड पर टिकी थी.

जिस कमरे में हम खड़े थे उसमें बहुत सारा सामान होने के कारण जगह बहुत कम थी। आंटी जब भी कुछ खरीदने आतीं तो अपना सीना मेरे सीने से चिपका कर जा रही थीं. हालाँकि, ऐसी स्थिति में, एक रास्ता यह है कि आप खुद को सुरक्षित रखें, भले ही स्तन रगड़ रहे हों, लेकिन खुद को ऐसा दिखाएं जैसे कि यह एक मजबूरी है।

लेकिन जब भी आंटी मेरे पास से गुजरती तो वो और भी जानबूझ कर अपने स्तनों को मेरी छाती से रगड़ने की कोशिश कर रही थी। इससे मुझे पता चल गया कि आज आंटी का मूड कुछ अलग था. मैं भी बात करते समय कभी-कभी आंटी के स्तनों को छू लेता था और कभी-कभी उन पर हाथ भी रख देता था। आंटी भी हंस रही थी. मैं समझ गया कि आज लाइन क्लियर है. कुछ देर तक काम ऐसे ही चलता रहा.

आंटी की बड़ी गांड देख कर मेरे लंड का बुरा हाल हो गया था. मैं बार-बार अपने लिंग को एडजस्ट करने लगा. आंटी बोलीं- क्या हुआ? मेंने कुछ नहीं कहा! तो आंटी बोलीं- एक बात बताओ? मैंने कहा- नहीं आंटी… कुछ नहीं.

जब आंटी झुककर कुछ सामान उठाने लगीं तो मुझे उनके स्तन का काला निप्पल वाला भाग दिखाई दिया। फिर जैसे ही वो उठी तो मैंने उसे दीवार से सटा दिया और उसके मम्मों को जोर-जोर से दबाने लगा. उसने कहा- क्या कर रहे हो? मैंने कहा- आंटी सॉरी … प्लीज आज मुझे मत रोको. आंटी ने मुझे धक्का दिया और बोलीं- मैं तुम्हारी मम्मी को बता दूंगी.

मोटी गांड वाली आंटी की चुदाई

उसका बदला हुआ रूप देखकर मैं बहुत डर गया और वहां से भाग गया. उस दिन मैं दिन भर परेशान रहा कि सेक्स स्टोरी नहीं बनी… आंटी मम्मी को न बता दें और मुझे घर पर मार पड़ेगी। फिर शाम तक ऐसा ही चलता रहा और रात को सोते समय मैं सोच रहा था कि आज तो बच गया, कुछ नहीं हुआ.

सुबह आंटी ने मुझे वापस ऊपर बुलाया. मैंने जाते ही उनसे माफ़ी मांगी- आंटी, कल के लिए मुझे माफ़ कर दो। आंटी बोलीं- कोई बात नहीं. आंटी आज कल से भी ज्यादा सेक्सी लग रही थी. आंटी फिर हँसीं और बोलीं- आज तुम मुझे नहीं देख रहे हो, क्या मैं आज अच्छी नहीं लग रही हूँ? मैंने उनसे कहा- नहीं आंटी, आप आज बहुत मस्त लग रही हो.

तुम कल से भी ज्यादा कूल लग रहे हो. इस पर उन्होंने कहा- तुम्हारे चाचा ये सब नहीं देखते, तो ये सब किस काम का? इस पर मैंने उनके कंधे पर हाथ रखा और कहा- मैं आपके साथ हूं आंटी. मेरा सहारा पाते ही वो रोने लगी. मैंने उससे कहा- तुम मुझे बहुत पसंद हो. आंटी बोलीं- अच्छा दिखने की क्या बात है … मैं सुंदर नहीं हूं.

फिर मैंने कहा- आंटी आप बहुत खूबसूरत हो … अपनी गली में नंबर वन हो. आंटी ने मुझसे पूछा- क्या मैं तुम्हें सेक्सी लगती हूँ? मैंने कहा- हां आंटी बहुत ज्यादा. जब उन्होंने अपने होंठ मेरी तरफ बढ़ाये तो मुझे लगा कि शायद आज आंटी पहल कर रही हैं, अब मेरी सेक्स कहानी बनेगी. मैंने भी अपने होंठ उसकी तरफ बढ़ा दिये. आंटी ने अपनी आँखें बंद कर लीं.

मोटी गांड वाली आंटी की चुदाई

फिर मैंने उसे दीवार से सटा दिया और उसके होठों पर एक जोरदार चुम्बन दिया। पहले तो उसने थोड़ा विरोध किया.. लेकिन 3 या 4 मिनट बाद उसने विरोध करना बंद कर दिया। अब मैं सूट के ऊपर से ही उसके स्तन दबा रहा था। जब मैंने उसकी शर्ट उतारने की कोशिश की तो टाइट होने के कारण मैं उसे नहीं उतार सका। आंटी के बड़े स्तनों के कारण सूट बहुत टाइट था। आंटी हंस कर बोलीं- फाड़ेगा क्या? इसे धीरे से उतारें.

मैंने उसे झटके से फाड़ दिया तो बोली- तुमने मेरा नुकसान किया है ना? फिर मैंने उसके स्तनों को अपने मुँह में ले लिया और जोर-जोर से चूसने लगा। उनका रंग बहुत गोरा था. आंटी के दूधिया सफेद स्तनों को मैंने चूस-चूस कर लाल कर दिया था। फिर मैं धीरे-धीरे उसके पेट को चूमने लगा। मैं उसकी सलवार का नाड़ा खोलने लगा तो बोली- कोई आ जायेगा.

तो मैंने कहा- घर पर कोई नहीं है और मैं नीचे से आपका दरवाज़ा बंद करके आया हूँ। आंटी ने कहा- प्लीज ये बात किसी को मत बताना! मैंने कहा- आंटी, आपकी कसम.. ये मेरे पास ही रहेगा। मैंने जल्दी से आंटी का नाड़ा खोला और नीचे देखा, उनकी टांगों के बीच की गुफा पर कुछ बाल थे, जो भूरे रंग के थे।

उसके बाद उसने मेरे भी सारे कपड़े उतार दिये. कुछ देर बाद मैंने उसकी चूत पर हाथ रखा और उसकी पैंटी भी उतार दी. फिर मैं बिना सोचे नीचे बैठ गया और उसकी चूत को चाटने लगा, जिससे उसे बहुत मजा आ रहा था. हॉट आंटी जोर जोर से कराहने लगीं. उसने उत्तेजित होकर मेरा सिर दबा दिया. वो मेरे सिर को अपनी चूत में पूरा घुसेड़ लेना चाहती थी.

मोटी गांड वाली आंटी की चुदाई

मेरे लगातार चूत चूसने से उसकी चूत गीली हो गई थी और वो कभी भी पानी छोड़ सकती थी. मैंने फिर भी चूत चूसना बंद नहीं किया. जिन लोगों ने शादीशुदा औरतों की चूत चाटी है उन्हें पता होगा कि चूत चूसने का अपना अलग ही मजा होता है. 7 से 8 मिनट तक लगातार चूत चुसाई के कारण आंटी तेज अकड़न के साथ स्खलित हो गई थीं. उसने खूब वासना छोड़ी और थोड़ी देर के लिए चुप हो गयी.

फिर कुछ देर बाद उन्होंने मेरी पैंट खोल दी और मेरा लंड मेरे अंडरवियर में आतंक मचा रहा था. जब आंटी ने मेरे लंड को अंडरवियर से बाहर निकाल कर देखा तो उनकी आंखें फटी की फटी रह गईं. हॉट आंटी के मुँह से सिर्फ ‘बाप रे बाप… इतना बड़ा..’ ही निकल सका. मैं हंसा- आपका ही है आंटी.

उसने मुझसे पूछा- क्या करता है? तेरा लौड़ा इतना मोटा कैसे हो गया? अगर ये मेरे अन्दर जायेगा तो मेरी पूरी चूत छील देगा. तेरे चाचा का तो पतला है. इतना कहते ही वो ज़मीन पर बैठ गयी और मेरे लंड को लॉलीपॉप की तरह चूसने लगी. दोस्तो, यकीन मानिए… वो मेरा पहला अनुभव था। मैं मुश्किल से 2 मिनट में ही आंटी के मुँह में स्खलित हो गया।

उसने ‘शिट..’ की आवाज करते हुए मेरा लंड मुँह से निकाला और जल्दी से कपड़े से साफ करने लगी. मुझे अपने आप पर बहुत शर्म आ रही थी और जब वो मेरी तरफ आई तो मैं उससे नजरें नहीं मिला पा रहा था. उसने मुझसे कहा- चिंता मत कर पगले … तेरा हथियार तो मजबूत है, लेकिन पहली बार था तो जल्दी निकल गया. असली मज़ा तो अब आएगा.

मोटी गांड वाली आंटी की चुदाई

फिर मैं फिर से आंटी की चूत को चाटने लगा. मुझे आंटी की चूत चाटने में बहुत मजा आ रहा था. कुछ देर बाद मेरा लंड फिर से खड़ा हो गया. आंटी ने मुझसे कहा- बेटा, अब और मत तड़पाओ … जल्दी से इसे मेरे अन्दर डाल दो और इसकी सारी गर्मी निकाल दो. फिर उसने खुद ही अपने हाथ से मेरे लंड को अपनी चूत के मुँह पर सैट किया और मुझे अन्दर डालने के लिए कहा.

मैं उस पल का एहसास कभी नहीं भूलना चाहता जब मैंने धीरे से अपना लंड आंटी की चूत की गहराई में उतारा; मानो मैंने अपना लंड चूत में नहीं बल्कि किसी गर्म भट्टी में डाल दिया हो. जैसे ही मैंने अपना लंड डाला, आंटी के मुँह से एक मीठी आह निकली, जिसमें एक सुखद दर्द था. फिर मैंने धीरे-धीरे अपने धक्को की स्पीड बढ़ा दी और आंटी की चीखें अब कामुक कराहों में बदल गयी थी. अब वो भी अपनी गांड हिलाकर मेरा साथ दे रही थी.

करीब 5 मिनट की ज़ोरदार चुदाई के बाद वो एक ज़ोर की आह के साथ झड़ चुकी थी, लेकिन मैंने अपनी रफ़्तार बरकरार रखी.. जिससे उसकी चूत के पानी से फच-फच की मधुर आवाज हमारी चुदाई में और इजाफा कर रही थी। 15 मिनट तक लगातार चोदने के बाद मुझे लगा कि मैं झड़ने वाला हूँ तो मैंने अपनी स्पीड बढ़ा दी और पूरी स्पीड से उसकी चूत में ही झड़ गया। मैंने अपनी आखिरी बूंद भी आंटी की चूत में छोड़ दी.

मैं उसके ऊपर से हटा तो देखा कि मेरे लंड का तरल पदार्थ उसकी चूत से टपक रहा था. आंटी बोलीं- मुझे अभी तुम्हें बहुत कुछ सिखाना है. फिर हम दोनों लेट गये. आधे घंटे तक आराम किया. लेकिन मैं संतुष्ट नहीं था इसलिए मैंने आंटी को टेबल पर झुकने को कहा. मैंने पीछे से उसकी चूत में अपना लंड डाल दिया और फिर उसे चोदने लगा. करीब 7-8 मिनट तक मैं उसे ऐसे ही चोदता रहा. फिर मैंने अपना लंड उसकी गांड पर रखा और एक जोरदार धक्का मारा.

मोटी गांड वाली आंटी की चुदाई

इससे मेरा 4 इंच लंड अन्दर चला गया और आंटी जोर से चिल्ला उठीं. अत्यधिक दर्द के कारण वह मुझसे दूर हटने लगी, लेकिन मैंने उस पर अपना दबाव बनाए रखा और उसके स्तनों को दबाता रहा। कुछ पल बाद मैंने फिर से एक जोरदार धक्का लगा दिया. इस बार मेरा पूरा लंड उसकी गांड में चला गया. गांड चुदाई शुरू हो गयी. आंटी को भी गांड में लंड का मजा मिलने लगा, तो उन्हें भी मजा आने लगा.

करीब 15 मिनट तक मैं ऐसे ही वार करता रहा और आंटी को भी बहुत मजा आने लगा. उनकी आनंद भरी आवाजों से मुझे यकीन हो गया कि आंटी की गांड मजा दे रही है. चाची- उम्म्ह… अहह… हय… ओह… आह्ह माँ मर गई… आह्ह. हॉट आंटी के मुँह से ऐसी मादक आवाजें निकल रही थीं. मैं उसकी बड़ी गांड पर थप्पड़ भी मार रहा था, जिससे वो और भी गर्म हो रही थी.

Best Delhi Call Girls | Delhi Escorts Service | Female Escorts Service in Delhi | Delhi Escort Locations | Delhi Escort Service Cash Payment | Book Call Girls in Delhi | Call Girl Agencies in Delhi | High Profile Independent Call Girls | Real Escort Services in Delhi | Call Girl Delhi Cash Payment | Independent Call Girls in Delhi | Top Escort Service in Delhi

इस बीच उसने एक बारी पानी और छोड़ दिया था. कुछ ही देर में मैं भी निकलने वाला था. दस धक्कों के बाद मैंने सारा तरल पदार्थ उसकी गांड में छोड़ दिया. हम दोनों वहीं टेबल पर लेट गये और किस करने लगे. दस मिनट बाद हम दोनों ने अपने कपड़े पहने और मैं अपने घर आ गया. अगले 2 महीने तक मैंने उसकी चूत और गांड कई बार चोदी. इसके बाद उन्होंने यहां से अपना घर छोड़ दिया और दिल्ली चले गए।

अब मेरी उससे फोन पर कभी-कभार ही बात होती है. अभी मुझे चूत और गांड की बहुत प्यास है. भाइयो, मेरा तो यही कहना है कि किसी लड़की को पटाने से अच्छा है कि किसी आंटी या भाभी को पटाया जाए, उनके दोनों छेद बहुत मजा देते हैं।

2,104 Views