मेरा पहला थ्रीसम चुदाई

मेरा पहला थ्रीसम चुदाई

हेलो दोस्तों, मेरा नाम सोनिया है और मैं जयपुर से हूँ। मेरी उम्र 21 साल है और मैं एक सामान्य परिवार से हूँ. मेरा रंग एकदम गोरा है और मेरी लम्बाई 5.5 इंच है.

दोस्तों आज मैं यहाँ पर आप सभी को अपनी सच्ची कहानी और अपना सेक्स अनुभव बताने आई हूँ, जिसमें मैंने अपने भाई और उसके दो दोस्तों के साथ मिलकर बहुत मज़े किए और पिछले दो सालों में मैंने अपने भाई के साथ भी बहुत मज़े किए। और इसलिए मुझे उम्मीद है कि आप सभी को मेरी ये मस्ती जरूर पसंद आएगी.

दोस्तों में बहुत गोरी और सेक्सी हूँ और यह हॉट सेक्सी रंगत मुझे मेरी माँ से मिली है और मेरे पूरे शरीर का आकार 34-30-35 है। दोस्तों मेरे स्तन आकार में बड़े हैं, लेकिन वो ज्यादा नीचे नहीं लटकते क्योंकि मैं हर दिन योगा करती हूँ और उन्हें अच्छे आकार में रखने के लिए उनकी मालिश का बहुत ख्याल रखती हूँ और अब मेरी चूत गुलाबी हो गई है और चिकनी भी हो गई है, क्योंकि मैं साफ़ करती हूँ उसके बाल हर दिन.

दोस्तों यह घटना जनवरी महीने की है और जैसा कि मैंने पहले ही अपना परिचय देते हुए बताया था कि मैंने अपनी जिंदगी की सबसे खूबसूरत और यादगार रात अपने चचेरे भाई और उसके दो दोस्तों के साथ एक अच्छे होटल में बिताई.

दोस्तों आप सभी लोग सोच रहे होंगे कि मैंने उन तीन लोगों को कैसे संभाला होगा? तो मैं आप लोगों को बता दूं कि मैं इस काम में बहुत माहिर हूं और मुझे इसका काफी अनुभव भी है, लेकिन तीन चूत के प्यासे लंड को एक साथ संभालना मेरे लिए भी पहली बार था जिसमें मैं सफल साबित हुई और मेरे भाई सूरज के समय उस सेक्स के बाद भी उसने अपने मन में यह दृढ़ निश्चय कर लिया कि वह भी मेरे इस काम को पूरा करने में अपना पूरा सहयोग देता रहेगा और उसने वैसा ही किया।

दोस्तों वैसे भी हम दोनों पिछले दो साल से कभी कभी सेक्स करते आ रहे है और हम इस काम से कभी बोर नहीं होते इसलिए कभी कभी वो अपने किसी दोस्त को भी बुला लेता है और हम सब खूब मजे करते है. दोस्तो, इसका मतलब यह था कि मैं कई बार थ्रीसम कर चुका था, लेकिन इस बार हम दोनों उससे कहीं आगे जाना चाहते थे।

फिर जनवरी की गुलाबी सर्दी में, सूरज किसी तरह अपने दो दोस्तों, अजय और राहुल को हमारी योजना में शामिल होने के लिए मनाने में कामयाब रहा और इसमें ज्यादा मनाने की ज़रूरत नहीं थी, क्योंकि किसी भी लंड को कोई भी चूत मिल जाएगी। जाता है तो कहीं भी दौड़ा चला आता है. फिर हम सभी लोग शाम को महाबलेश्वर पहुंचे और फिर करीब सात बजे खाना खाकर हम लोग घूमने के लिए निकल गये.

लगभग 8.30 बजे हम सभी वापस होटल आ गए, तो मैंने सूरज को पहले ही बता दिया था कि मुझे 4-5 इंच का लंड नहीं चाहिए क्योंकि इतने छोटे लंड किसी काम के नहीं होते, इसलिए मुझे उम्मीद है कि राहुल और अजय के लंड ही होंगे लगभग 6 या 7 इंच? अब हमारे उस बेडरूम में सूरज ने बहुत धीमी आवाज़ में गाने लगा रखे थे और उसने अपने लैपटॉप पर एक नंगी वीडियो लगा रखी थी और में उसके बाद तुरंत बाथरूम में चली गयी, लेकिन दोस्तों सच कहूँ तो आज में जो बात करने जा रही हूँ. मेरी जोरदार चुदाई के बारे में. सोच-सोच कर मेरी चूत पहले से ही बहुत गीली हो चुकी थी और फिर जब मैंने बाहर आकर देखा तो वो तीनों मेरे सामने बिल्कुल नंगे खड़े थे और अपने लंड को हाथ में लेकर हिला रहे थे.

फिर मैंने ध्यान से देखा कि राहुल और अजय के लंड आकार में बहुत बड़े थे और मोटे भी थे, करीब 6-7 इंच के होंगे. अब तीन लंडों को अपने सामने नंगे खड़े देखकर मुझसे रहा नहीं गया और मैंने भी तुरंत अपने सारे कपड़े उतार दिए और मेरी बड़ी गांड, बड़े स्तन और गुलाबी चूत देखकर अजय और राहुल के मुँह से अपने आप वाह निकल गया। बोल निकले. फिर में तुरंत उनके पास आ गई और उनके पैरों के पास अपने घुटनों के बल बैठ गई और अब में राहुल और अजय के लंड को पागलों की तरह चूसने लगी, वो बहुत रसीले और गरम थे और ऐसा करने से वो दोनों कराह रहे थे. दोस्तों मेरे उस भाई को सेक्स करते समय गालियाँ देना बहुत पसंद है और उसने उस रात से शुरुआत भी कर दी, वो कहने लगा वाह छिनाल आज तुझे नया लंड मिला तो क्या तू मेरा लंड भूल गयी? मेरा भी लंड चूसो.

फिर मैंने उससे कहा कि में पिछले दो साल से तुम्हारा लंड चूस रही हूँ और मैंने तुम्हारा लंड चूस चूसकर इतना बड़ा कर दिया है, फिर भी तुम्हें चैन नहीं है? चल तेरे लंड को भी थोड़ा मज़ा दे दूँ. अब अजय और राहुल उस रंग में आने लगे थे जिससे वो दोनों बहुत उतावले हो रहे थे. तभी राहुल ने मुझे अपनी गोद में उठाया और बिस्तर पर लेटा दिया, जिसके बाद राहुल मेरे ऊपर भूखे इंसान की तरह टूट पड़ा और मेरे बूब्स को ज़ोर ज़ोर से चूसने और दबाने लगा और सूरज ने मेरे दोनों पैरों को फैला दिया और वो मेरी गुलाबी चूत थी. तभी अचानक अजय मेरे ऊपर आ गया और उसने अपना 6 इंच का लंड मेरे मुँह में डाल दिया.

उसका मोटा लंड मेरे मुँह में बिल्कुल भी नहीं घुस रहा था इसलिए मैंने थोड़ी और कोशिश की तो उसका मोटा लंड बड़ी मुश्किल से मेरे मुँह के अंदर चला गया, लेकिन में आप लोगों को क्या बताऊँ वाह क्या मज़ा आ रहा था. सूरज अपनी गर्म लंबी जीभ से मेरी चूत को बहुत गहराई तक चाट रहा था और राहुल मेरे दोनों स्तनों को पागलों की तरह दबा रहा था और साथ में चूस भी रहा था और अब अजय का लंबा लंड मेरे मुँह में था। मोटा और गरम लंड कहर ढा रहा था. आज मुझे ऐसा लग रहा था कि ये रात कभी खत्म ही नहीं होगी और हम सब ऐसे ही अपने काम में लगे रहे और ऐसे ही मस्ती करते रहे.

फिर कुछ देर बाद सबसे पहले अजय बोला कि वो अब झड़ने वाला है और इतना कहकर वो अपना लंड मेरे मुँह से बाहर निकालने वाला था, लेकिन तभी मैंने उसका लंड पकड़ लिया और अब उसने अपना लंड मेरे मुँह में डाल दिया। . धक्का दिया और झाड़ने लगा. अरे दोस्तों, मैं बताना भूल गयी कि मैं हर लंड के रस की बहुत शौकीन हूँ. मुझे लंड चूसना और उसका रस पीना बहुत पसंद है और ये काम मेरी आदत बन गयी है. मैं इस काम को बड़े उत्साह से पूरा करता हूं और ऐसा मैंने कई बार किया है.

फिर मैंने उसके लंड को अपने मुँह में लेकर उसका पूरा रस पी लिया और फिर उसके लंड के आसपास बचा हुआ रस मैंने चाटकर साफ कर दिया, जिससे अजय को बहुत मज़ा आ रहा था. अब वो कहने लगा कि सूरज, तुमने पहले कभी नहीं बताया कि तुम्हारी यह बहन इतनी बड़ी चुदक्कड़ है, देखो तो उसने मेरा सारा माल कितना पी लिया और मेरे लंड को भी चाटकर चमका दिया, यह तो बहुत बड़ी छिनाल निकली।

मेरा पहला थ्रीसम चुदाई

फिर इससे पहले कि सूरज कुछ बोलता, मैंने उससे पहले ही कहा कि में तीन लंड संभाल रही हूँ तो यह कोई कुतिया नहीं है, चलो अब तुम मेरी चूत का रस पी लो, क्योंकि तुम्हारे लंड को दोबारा खड़ा होने में बहुत समय लगेगा और तब तक तुम सूरज के साथ रहोगे. एक साथ मिलकर मेरी चूत चाटो, आज तुम मेरी चूत को खा जाओ और यह सब देखकर राहुल तुरंत बीच में कूद गया और उसने कहा कि पूजा मेरी जान, अब तुम एक बार मेरे लंड का रस पी लो, आज तक किसी लड़की ने ऐसा नहीं किया है, इसे अंदर नहीं लिया है। मेरे मुँह से ब्लू फिल्म देखकर मुझे भी बहुत इच्छा हो रही है कि कोई मेरा माल पी जाये.

फिर अचानक मैंने उसका लंड पकड़ कर अपने मुँह में डाल लिया और बड़े मजे से चूसने लगी. जिसकी वजह से राहुल अब लंबी लंबी आहें भर रहा था और वो जल्द ही झड़ने वाला था. मैंने इस बात का अनुमान लगा लिया था. फिर तभी मैंने उसका लंड बाहर निकाल लिया और उससे कहा कि आओ राहुल, अपने लंड का सारा माल मेरे मुँह में डाल दो और अब वह अपने लंड को एक हाथ से पकड़कर हिलाने लगा. मैं जानता था कि अब किसी भी वक्त उसका रस निकल सकता है और इसीलिए मैं मुँह खोले उसका इंतज़ार कर रहा था.

तभी अचानक से राहुल का पदार्थ स्प्रे बोतल की तरह निकला और मेरे मुँह में गिर गया, उसका कुछ पदार्थ मेरे कोमल होठों, गालों और नाक पर भी गिर गया और मैंने उस पदार्थ को अपनी जीभ से चाटा और वापस अंदर डाल दिया। मेरा मुंह। दोस्तों में सच कहूँ तो राहुल का माल अजय से कहीं ज्यादा बिकता था और वो दिखने में बहुत मस्त था, बहुत हॉट था. अब राहुल यह सब देखकर बहुत खुश होकर बोला कि पूजा अगर तुम हमेशा इसी तरह मेरा माल पिओगी तो में जिंदगी भर तुम्हारा नौकर बनने को तैयार हूँ।

फिर मैंने मुस्कुराते हुए उसका सारा माल निगल लिया और उधर अजय और सूरज ने लगातार चाट चाटकर मेरी चूत को फुला दिया था. मैं इस काम में बहुत अनुभवी हूँ इसलिए मेरी चूत में बहुत सारे लंड लेने की ताकत भी है और सब झेलने की हिम्मत भी है और इसीलिए मेरी चूत इतनी जल्दी गीली नहीं होने वाली थी, लेकिन सूरज इसके लिए कुछ गोलियाँ ले आया था हम सभी ने, और हम सभी ने इसे लिया।

फिर करीब पांच से दस मिनट के अंदर ही हमें उन गोलियों का असर दिखने लगा, उसकी वजह से मेरा जोश और भी ज्यादा बढ़ गया था और उन तीनों के लंड अब और भी ज्यादा खड़े हो गये थे.

दोस्तों फिर मैंने मन में सोच लिया कि अब मुझे इस साले के लंड से अपनी चुदाई करानी है इसलिए मैंने तुरंत राहुल को नीचे लेटा दिया और फिर उसके ऊपर आ गई. मैंने उसका लंड पकड़ कर अपनी चूत में डाल लिया और मैं धीरे-धीरे उस लंड के ऊपर बैठती चली गई, जिसकी वजह से अब उसका पूरा लंड मेरी चूत की गहराई में था। मैं उसके ऊपर बैठ कर उसे चला रहा था.

फिर मैंने सूरज को इशारा करके कहा कि सूरज अब तुम भी आ जाओ और अपना लंड मेरी गांड में डाल दो, आज तुम मेरी गांड फाड़ दो और फिर मेरे मुहं से यह शब्द सुनकर सूरज तुरंत मुझ पर टूट पड़ा और उसने अपना पूरा लंड अंदर डाल दिया. पूरी ताकत से मेरी गांड में डालो. काफी देर तक इन सब कामों में अभ्यस्त होने के कारण उसका पूरा लंड बिना किसी रुकावट के मेरी गांड में बड़े आराम से फिसलता हुआ अन्दर चला गया.

दिव्या की चुदाई बॉयफ्रेंड के मोटे लंड से

दोस्तो, मैं सभी महिलाओं और लड़कियों को यह बताना चाहता हूं कि गांड मरवाने में एक अजीब सा मजा है, इसलिए आप एक बार यह काम जरूर करें और इसका मजा लें, उसके बाद जैसे ही आपकी गांड में लंड जाएगा तो आपके पूरे शरीर को मजा आएगा। वह मजा. आओगे और नाचोगे. अब मुझे एक सेक्सी वीडियो में देखा हुआ वो सीन याद आ गया और फिर मैंने अजय से कहा कि अपना लंड मेरे मुँह में डालो आअहह उफ्फ्फ्फ़ वाह मज़ा आ गया दोस्तों ऐसा मज़ा मुझे पहले कभी नहीं मिला था और उन तीन लंडों को भी यह सब करके बहुत अच्छा लग रहा था। , तो अब वो तीनों मुझे बहुत तेज़ी से हर जगह से चोदने लगे।

दोस्तों राहुल अपने मोटे लंड से मेरी सेक्सी चूत को चोदकर उसका फालूदा बना रहा था और सूरज हमेशा की तरह मेरी गांड को अपने लंड से अंदर बाहर करके फाड़ रहा था और इधर अजय मेरे मुँह में अपना लंड डालकर पूरा अंदर बाहर कर रहा था. था। लंड अंदर तक जाने से मेरी सांसें फूल रही थीं, लेकिन मजा भी बहुत आ रहा था और हम सब पूरे जोश में थे, एक अजीब सा नशा था और हम सब एक अलग ही दुनिया में पहुंच गए थे.

फिर बहुत देर के बाद मुझे ऐसा महसूस हो रहा था जैसे सूरज ने अपना वीर्य मेरी गांड में डाल दिया हो और राहुल ने भी अपने लंड का रस मेरी चूत में डाल दिया हो और बस कुछ देर बाद में झड़ने ही वाली थी कि तभी अजय ने अपना लंड मेरे मुँह से बाहर निकाल लिया। और उसने अपना रस मेरे मुँह पर छिड़क दिया जिससे मेरा पूरा मुँह उसके गरम चिपचिपे वीर्य से भर गया.

दोस्तों उसी समय में झड़ गयी, जिसकी वजह से मेरी चूत का रस राहुल के लंड पर चिपक गया था और अब मैंने उन सभी को अपने पास बुलाया और में उनके लंड पर बचा हुआ माल फिर से चाटने लगी. फिर मैंने बहुत ध्यान से देखा कि वो तीनो लंड मुझे चोदकर लाल हो गये थे और फिर उसके बाद हम सभी कुछ देर तक मस्ती करने के बाद पूरे नंगे ही सो गये.

787 Views