ऑफिस की लड़की प्रिया को उसके फ्लैट मे चुदाई

दोस्तो, मैं विकास मिश्रा आपके सामने अपनी सेक्स कहानी लेकर हाजिर हूं जिसमें मैंने अपने ऑफिस की एक जूनियर कर्मचारी को उसके फ्लैट में चोदा. मेरे ऑफिस में प्रियंका नाम की एक लड़की आई थी.

वह मेरी जूनियर थी; वह कॉलेज से नई-नई पास आउट हुई थी। चूँकि वह लड़की थी इसलिए उसे मेरे विभाग की प्रयोगशाला में काम करने का काम दे दिया गया। वो छोटी हाइट की थी, लेकिन उसका शरीर किसी पॉर्न एक्ट्रेस जैसा था.

आम तौर पर वह मुझे सर कह कर बुलाती थी. जबकि मैं उनसे सिर्फ एक साल सीनियर था. उसकी आंखों से साफ पता चल रहा था कि उसमें सेक्स पावर बहुत ज्यादा है. ये हॉट गर्ल जूनियर सेक्स स्टोरी इसी प्रियंका की है.

ऑफिस की लड़की प्रिया को उसके फ्लैट मे चुदाई

एक दिन मैंने देखा कि वह ऑफिस में गहरे रंग का सूट पहन कर आ रही थी और उसने अन्दर ब्रा नहीं पहनी थी। मैंने ऊपर से उसकी चुचियाँ देखीं. लेकिन वह बिल्कुल भी शर्मीली नहीं थी और बहुत आत्मविश्वासी भी थी।

हालाँकि मैंने उससे कुछ नहीं कहा, लेकिन उसकी आँखों ने मेरी वासना को पढ़ लिया था और वह पूरे समय मस्त हिरण की तरह उछलती रहती थी और अपने स्तनों की आग से मेरे लिंग को झुलसाती रहती थी। अब तो ये उसका रोज का काम बन गया था. मैंने उससे कुछ नहीं कहा, बस उसकी जवानी को देखता रहा और अपने लंड को सहलाता रहा.

इसी तरह छह महीने बीत गये. मैं ज्यादातर उसके चूचों को ही देखता रहता था. उसके चूचे 32 साइज़ के थे. मैं सोचता था कि उसने मुझे कभी अपने स्तनों को देखते हुए नहीं पकड़ा होगा। एक बार की बात है, मेरी सुबह की शिफ्ट थी, मतलब सुबह 6 बजे से दोपहर 2 बजे तक। प्रियंका जनरल शिफ्ट में आती थी.

उनका ऑफिस सुबह 9 से 1 बजे तक और फिर 3 से 6 बजे तक होता था. उस दिन मुझे लैब में कुछ काम था इसलिए मैं लैब की चाबी ढूंढने लगा लेकिन मुझे चाबी नहीं मिली। तो मैंने सोचा कि लैब खुली होगी. मैंने नीचे जाकर देखा तो लैब खुली थी और अंदर प्रियंका फोन पर किसी से बात कर रही थी.

मैं अंदर गया तो प्रियंका ने फोन पर कहा कि वह बाद में बात करेगी. प्रियंका- अरे सर… आप? मैं: हाँ, मुझे कुछ काम था! प्रियंका- बताओ सर? मैं: क्या आप लंच के लिए नहीं गए? प्रियंका- आज भूख नहीं है. ‘ठीक है।’ फिर मैंने प्रियंका से कुछ सामान मांगा और वह सामान लेकर मेरे पास आ गई।

प्रियंका मेरे बहुत करीब आ गयी. मुझे समझ नहीं आ रहा था कि अचानक क्या हो रहा है. वो अपने हाथ से मेरे हाथ को छूने लगी. वह मेरे इतने करीब थी कि मुझे उसके बालों की खुशबू आ रही थी। प्रियंका मेरे पास ही खड़ी थी.

जब मुझसे कंट्रोल नहीं हुआ तो मैंने उसके मम्मे दबाने शुरू कर दिये. प्रियंका भी दो सेकेंड तक कुछ नहीं बोलीं. लेकिन फिर उसने मुझे धक्का दे दिया. मैंने देखा कि एक सफाई कर्मचारी लैब में आया था और कमरे की सफाई कर रहा था। उसे कुछ दिखाई नहीं दे रहा था.

फिर मैं और प्रियंका 5 मिनट तक वहीं खड़े होकर सफाईकर्मी के जाने का इंतज़ार करते रहे, लेकिन इसमें समय लगने वाला था। फिर प्रियंका लैब से बाहर जाने लगी और पीछे मुड़कर मेरी तरफ देखकर मुस्कुराई. उस हॉट लड़की की मुस्कान ने मेरे दिल की धड़कन तेज़ कर दी. उसका फिगर कमाल का था!

मैंने उसका पीछा किया. और वो लेडीज बाथरूम में चली गयी. मैं भी बाथरूम के अन्दर चला गया. प्रियंका वॉश बेसिन के सामने खड़ी थी. मैंने उसे पीछे से पकड़ लिया और उसकी गर्दन पर चूमने लगा. प्रियंका भी मुझे चूमने लगी. मैंने उसे दरवाजे के पास खड़ा किया और उसके होंठों और गर्दन को चाटना शुरू कर दिया। प्रियंका- आआहह.

ऑफिस की लड़की प्रिया को उसके फ्लैट मे चुदाई

मैं उसकी शर्ट के ऊपर से उसके मम्मों को मसलने लगा. प्रियंका ने अपनी शर्ट के बटन खोल दिये. उसने लाल रंग की ब्रा पहनी थी. मैंने उसकी ब्रा नीचे खींच दी और उसके मम्मे दबाने लगा. प्रियंका- आह्ह. उसके स्तन काफी बड़े और मुलायम थे. मैं उसके स्तनों को कस कर दबा रहा था और उसके होंठों को भी चूस रहा था।

प्रियंका भी पूरी तरह से नशे में थी और किस कर रही थी. फिर मैंने उसकी पैंट का बटन खोला और उसकी पैंट नीचे खींच दी. अब मैंने अपना हाथ प्रियंका की पैंटी में डाल दिया. प्रियंका बस किस करने में लगी हुई थी. मैंने उसकी चूत में दो उंगलियां डाल दीं. उसकी चूत बहुत गीली थी. मैं धीरे-धीरे उसकी चूत में उंगली करने लगा। प्रियंका- आआहह… आआहह… सर!

मैंने ऊँगली करना तेज़ कर दिया. प्रियंका- आआह… आआह सर! मैं उसे दीवार से सटाकर चूम रहा था और उसकी चूत में उंगली कर रहा था. प्रियंका- उम्म्म्म आआहह… सर. हम दोनों बहुत कसकर किस कर रहे थे और मुझे प्रियंका की चूत में उंगली करने में बहुत मजा आ रहा था. उसकी चूत का छेद बहुत मस्त था.

प्रियंका के निपल्स बहुत टाइट हो गये थे और उसके स्तन भी टाइट हो गये थे. उसकी साँसें तेज़ हो गई थीं. और फिर उसका वीर्य निकल गया. प्रियंका शांत हो गईं. फिर उसने अपने कपड़े ठीक किये और चली गयी. तब से मैं और प्रियंका खूब फ़ोन सेक्स करते थे। फिर एक दिन प्रियंका ने बताया कि उसकी फ्लैटमेट घर जा रही है और 10 दिन बाद आएगी.

मैं- क्या इरादा है? प्रियंका- इरादा तो तुम्हें पता चल ही गया! मैं: तो क्या मैं आज आपके कमरे में आऊं? प्रियंका- रात 11 बजे के बाद आना वरना किसी ने देख लिया तो दिक्कत हो जाएगी. मैं: तुम दरवाज़ा खुला रखना, मैं सीधा अन्दर आऊंगा. प्रियंका- ठीक है, आने से पहले घंटी बजा देना.

रात 11:15 बजे मैं प्रियंका के कमरे में गया. वह बहुत साफ़-सफ़ाई से रहती थी। प्रियंका- अरे आ गये.. बैठो.. पानी पियेंगे! उसकी औपचारिकता देख कर मेरे होठों पर मुस्कान आ गयी. मैं तो प्रियंका को देखता ही रह गया. उन्होंने ब्लैक साड़ी और बैकलेस ब्लाउज पहना था। खुले बालों में वह बिल्कुल कयामत लग रही थीं।

प्रियंका मेरे लिए किचन से पानी लेकर आई और मुझे देने के लिए झुकी. मैंने पानी लिया और प्रियंका के मम्मों की तरफ देखते हुए बोला- आज पानी से मेरी प्यास नहीं बुझेगी! प्रियंका- तो फिर बुझेगी कैसे? यह कहकर वह खाली गिलास रसोई में रखने चली गई। मैं तो उसकी पीठ देखता ही रह गया. वो बहुत गोरी थी.. और काली साड़ी उसे और भी खूबसूरत बना रही थी।

मैं किचन में गया और उसे पीछे से पकड़ लिया. प्रियंका- अरे! मैं- तुम बहुत खूबसूरत हो प्रियंका. प्रियंका- ठीक है.. वो सिंक में कांच साफ़ कर रही थी और मैंने उसे पीछे से पकड़ रखा था लेकिन उसे कोई फ़र्क नहीं पड़ रहा था। मैंने प्रियंका की पीठ पर चूमा. प्रियंका- तुम मुझे काम नहीं करने दोगे? वह मेरी ओर घूमी.

मैंने प्रियंका को कमर से पकड़ कर अपनी ओर घुमा लिया. प्रियंका थोड़ी घबरा गईं और बस इतना ही कह पाईं ‘अरे…’। उसी वक्त मैंने प्रियंका के होंठों को चूम लिया. ‘आज यही करूंगी!’ प्रियंका- अच्छा, क्या मैं तुम्हें इतनी पसंद हूं? मैंने प्रियंका को उठाया और किचन स्लैब पर बिठाया और उसे चूमना शुरू कर दिया. प्रियंका भी मुझे चूम रही थी.

मैंने प्रियंका का चेहरा अपने हाथों में पकड़ रखा था और उसे खूब चूम रहा था; मैं पागलों की तरह उसके होंठों को चूस रहा था. मैंने उसके होंठों, चेहरे और गर्दन को भी चूमा. इस तरह मैंने प्रियंका को करीब 10 मिनट तक चूसा और उसके ब्लाउज का हुक खोलकर ब्लाउज उतार दिया. अब प्रियंका सिर्फ काली ब्रा में थी.

ऑफिस की लड़की प्रिया को उसके फ्लैट मे चुदाई

प्रियंका- आह्ह… तुम मुझे पागल कर देते हो! मैं: अब तो तुम और भी पागल हो जाओगी! इतना कह कर मैंने प्रियंका को गोद में उठा लिया और उसके कमरे में जाने लगा. प्रियंका बस मेरी आँखों में देख रही थी. मैंने प्रियंका को बिस्तर पर गिरा दिया और उसके ऊपर आ गया. प्रियंका ने सिर्फ काली ब्रा और आधी साड़ी पहनी हुई थी.

मैं- आज मैं तुम्हारे दोनों दूध पीऊंगा. प्रियंका- इससे कुछ नहीं होता! मैं- तुम बहुत सेक्सी लग रही हो! प्रियंका- ठीक है! मेरे हां! प्रियंका- तुमने असली चीज कहां देखी है? मैं- तो फिर दिखाओ! प्रियंका- ब्रा उतारो तो दिखेगी. मैं- ऐसे नहीं, पहले रिक्वेस्ट करो!

प्रियंका- सर, प्लीज़ मेरी ब्रा उतार दो। आज मुझे तुम्हें कुछ दिखाना है और कुछ पिलाना है. मैंने प्रियंका की ब्रा उतार दी. उसके स्तन 32 इंच के थे. एकदम मुलायम और सफ़ेद, भूरे रंग के निपल्स. वो बस लेटी हुई थी. मैं उसके दोनों स्तन दबाने लगा. प्रियंका- आआह आह्ह. मैं- कैसा लगा?

प्रियंका- आह्ह कस कर दबाओ! मैं प्रियंका के दोनों मम्मों को कस कर दबा रहा था और उसके निपल्स को भी चूस रहा था. प्रियंका- उफ्फ…उम्म्म्मा. मैं: क्या मुझे और दबाना चाहिए? प्रियंका- हां. मैं प्रियंका के दोनों स्तनों को दबा रहा था और चूस रहा था। प्रियंका- आआहह. मैंने करीब 10 मिनट तक प्रियंका के मम्मों को दबाया और चूसा. प्रियंका एकदम मदहोश हो रही थी. मैं: कुछ भीग गया क्या? प्रियंका- सब भीग गया. मैं: दिखाओ और क्या गीला हो गया? प्रियंका- खुद ही देख लो.

मैं- अगर तुम चाहो तो सुखा दूँ? प्रियंका- ये ऐसे नहीं सूखेगा … अब इसका इलाज करना पड़ेगा. मैं- ठीक है. मेरे पास एक औज़ार है, मैं उससे इसका इलाज कर सकता हूँ. वह हंसी। मैंने प्रियंका की साड़ी और साया उतार दिया. वो सिर्फ काली पैंटी में थी. मैंने प्रियंका की पैंटी के ऊपर से उसकी चूत को रगड़ा.

प्रियंका- उफ्फ्फ… देखो कितनी गीली है! मैं: क्या मुझे अपनी पैंटी उतारनी चाहिए? प्रियंका- हां. मैं- पैंटी में क्या है? प्रियंका- क्या तुम्हें नहीं पता? मैं- कुछ भी हो, आज तो पूरा पी जाऊँगा! प्रियंका- जैसे तुम फोन पर ड्रिंक करते हो.. वैसे? मैं- वो भी अच्छा. प्रियंका- ठीक है! मैंने बिना समय बर्बाद किये प्रियंका की पैंटी उतार दी. उसकी चूत एकदम क्लीन शेव थी.

मैंने उसके दोनों पैरों को फैलाया और उसकी चूत को चाटा. यह बहुत नमकीन था. प्रियंका तड़प उठी- आज तो तुम मुझे मार ही डालोगे! मैं- और क्या! प्रियंका ने अपनी दोनों टांगें चौड़ी कर दीं और बोली- चलो जन्नत की सैर कराते हैं. मैंने प्रियंका की चूत को पूरा मुँह में भर लिया और चूसने लगा. प्रियंका- आआह … मैं मर रही हूं … मुझे बहुत गुदगुदी हो रही है.

मैं प्रियंका की चूत को कस कस कर चूस रहा था और उंगली भी कर रहा था। वो बस आहें भर रही थी और मेरा सिर अपनी चूत पर दबा रही थी. मैंने करीब 15 मिनट तक प्रियंका की चूत को चूसा और चाटा. उसकी चूत से बहुत सारा पानी आ रहा था. प्रियंका- सर, मैं प्रेग्नेंट होने वाली हूँ! ये कहते हुए प्रियंका का रस निकल गया और वो ढीली पड़ गयी.

ऑफिस की लड़की प्रिया को उसके फ्लैट मे चुदाई

मैंने उसका सारा रस पी लिया. वह तो अद्भुत बात थी! मैं: आह, मुझे तो बहुत मजा आया. प्रियंका- हाँ… मुझे भी अब तुम्हारा पीना है. मैं- पी लो. प्रियंका ने मेरा लंड अपने हाथ में ले लिया और उसे चूसने लगी. वो बड़े कमाल से चूस और चाट रही थी! मैं: प्रियंका, क्या मुझे तुम्हारे मुँह के अंदर करना चाहिए? प्रियंका- हां.

मैंने प्रियंका के बाल पकड़ लिए और अपना लिंग उसके मुँह में अन्दर-बाहर करने लगा और जल्द ही मैंने प्रियंका का मुँह अपने तरल पदार्थ से भर दिया। प्रियंका मेरा सारा पानी पी गयी. वो पागलों की तरह मेरे लिंग को चाट रही थी और मेरी गोटियों को मुँह में लेकर चूस रही थी। प्रियंका- सर, चलिए 69 पोजीशन ट्राई करते हैं. फिर हम दोनों 69 पोजीशन में लेट गये.

मैं प्रियंका की चूत चूस रहा था और वो मेरा लंड चूस रही थी. कुछ देर बाद प्रियंका बोली- सर, अब मेरा खेत जोत दो। ये कह कर वो सीधी होकर लेट गयी. हम दोनों बिना कपड़ों के थे. प्रियंका बोली- बिना कंडोम के सेक्स करो. मैं प्रियंका के ऊपर आ गया. प्रियंका- मेरा लॅंड थोड़ा सूख गया है. हमें गीला कर दो!

उसकी चूत को चूसने के बाद मैंने प्रियंका के होंठों को अपने होंठों में ले लिया और उसके मम्मों को दबाने लगा. प्रियंका- आह्ह. मैंने अपना लंड प्रियंका की चूत में डाल दिया. प्रियंका- आआहह… तुम्हारा बहुत बड़ा है… धीरे धीरे करो! मैं- बहुत टाइट चूत है तुम्हारी! प्रियंका- तो आज तुम थोड़ा ढीला हो जाओ. मैं- कैसे ढील दूं? प्रियंका- मेरे खेत की जुताई करके.

मैं- साफ-साफ बताओ! प्रियंका- पहले तुम बताओ तुम क्या चाहते हो? मैं- मन करता है कि सारी रात तुम्हें चोदता रहूँ! प्रियंका- क्या तुम मुझे पूरी रात चोदोगे? मैं- हां प्रियंका. प्रियंका- कैसे चोदोगे? मैं- जैसे लेटी हो. इसी तरह मैं तुम्हें पूरी रात नंगी करके चोदता रहूंगा. प्रियंका- नंगी तो कर ही चुके हो. अब बस चोदो.

मैंने प्रियंका की चुदाई तेज कर दी. प्रियंका- आह्ह. मैं- कैसा लग रहा है? प्रियंका- मुझे थोड़ा दर्द हो रहा है. मैं: अब तुम्हें मजा आएगा! प्रियंका- मजा नहीं आ रहा क्या? मैं: मैंने तुम्हें पहले दिन ऑफिस में देखा था. उसी दिन से मैं तुमसे प्यार करना चाहता था. प्रियंका- अब आपका सपना सच हो रहा है ना?

मैं: प्रियंका, तुम बिना कपड़ों के ज्यादा हॉट लगती हो। प्रियंका- आप भी. मैं नहीं जानता था कि तुम्हारा इतना बड़ा है. मैं: अब मुझे पता है.
प्रियंका हंसते हुए- हां सर… आह्ह. मैं- मजा आया? प्रियंका- बहुत ज्यादा… और अन्दर डालो!

Delhi Call Girls Services Cash Payment Available
Delhi Escorts 100% Safe and Secure Service
Book Call Girls in Delhi 24×7 Hotel Delivery
Call Girls in Delhi with Room Delivery
High-Profile Call Girls in Delhi at Affordable Price
High-Profile Independent Escorts in Delhi
Delhi Escorts Service with Cash Payment
Book Call Girls and Escort Services 24×7
Delhi Escort Service Full Satisfaction & Pleasure

प्रियंका की चूत पूरी तरह से खुल गयी थी. मेरा लंड आसानी से अन्दर-बाहर हो रहा था. प्रियंका- उफ्फ. मैं- क्या हुआ? प्रियंका- बहुत अच्छा लग रहा है सर… ऐसा लग रहा है जैसे मैं स्वर्ग की सैर कर रही हूं. अब मैंने प्रियंका की दोनों टांगें हवा में रख दीं और उसे फिर से चोदना शुरू कर दिया. प्रियंका- आआह सर…

उसकी चूत खूब पानी छोड़ रही थी और चुदते समय बहुत आवाज भी कर रही थी. प्रियंका- आआहह. मैं प्रियंका के मम्मे भी दबा रहा था और उसे चोद भी रहा था. प्रियंका- आह्ह… सर, अब डॉगी स्टाइल में करो! मैंने प्रियंका को घुटनों के बल बैठाया और पीछे से उसके बाल पकड़ लिए. फिर उसे डॉगी स्टाइल में चोदने लगा.

प्रियंका की चूत लगातार पानी छोड़ रही थी और उसे भी बहुत मजा आ रहा था. मैं: प्रियंका, तुम्हारे स्तन बहुत झूल रहे हैं! प्रियंका- तो पकड़ लो! मैंने पीछे से प्रियंका के मम्मे पकड़ लिए और उसे जोर-जोर से चोदने लगा। प्रियंका- आह्ह. मैं- और तेज़! प्रियंका- हाँ सर और तेज़… आह.
मुझे व? प्रियंका- हां और.

मैं- ले कुतिया… अब पूरे सफर का मजा ले! प्रियंका- आह्ह … सर मैं झड़ने वाली हूं … आह्ह. इतना कहते ही प्रियंका का रस निकल गया और वो ढीली होकर लेट गई. उसके बाद मैं भी स्खलित हो गया. प्रियंका- टेस्ट करने के बाद मुझे कैसा लगा? मैं- आप अद्भुत हैं!

प्रियंका- थक गए हो या और मजा करना चाहते हो? मैं: अभी मज़ा कहाँ ख़त्म हुआ मेरी जान? अभी तो मुझे सारी रात तुम्हें चोदना है! दोस्तो, इस तरह प्रियंका पूरी रात मेरे लंड के नीचे तड़पती रही। और ये सिलसिला आज भी जारी है.

2,042 Views