सेक्सी चाची के साथ चुदाई का मज़ा

दोस्तो, अभिषेक, सभी चूत रानियों और मेरे लंडधारी भाइयों को मेरा सलाम। मेरी उम्र अभी 25 साल है और मैं उत्तर प्रदेश के अलीगढ शहर से हूँ. मैं एक बिजनेसमैन हूं और अच्छी कमाई करता हूं। मेरी लम्बाई 5 फुट 7 इंच है. जिम जाने के कारण मेरा शरीर सुडौल हो गया है।

मेरा लंड 6 इंच लंबा और 1.5 इंच मोटा है जो किसी भी लड़की को संतुष्ट करने के लिए काफी है. आज मैं अपनी पहली चुदाई की कहानी लिखने जा रहा हूँ, यह मेरी और मेरी मौसी के बीच हुई रोमांचक चुदाई की कहानी है। ये कहानी दो साल पहले की है.

तो कहानी शुरू करने से पहले चूत की मालकिन को अपनी चूत में उंगली डाल लेनी चाहिए और लंड पकड़ने वाले को अपने हाथ में लंड पकड़ लेना चाहिए. इस चाची भतीजा सेक्स कहानी में मैंने चाची और अपना नाम बदल दिया है ताकि गोपनीयता बनी रहे. और बाकी सब कुछ वास्तविक है जो मेरे साथ हुआ।

सेक्सी चाची के साथ चुदाई का मज़ा

मेरे घर में मेरी माँ, पापा और मेरा छोटा भाई है और पड़ोस में मेरी मौसी का घर है। ये मेरी सगी मौसी नहीं है. मेरी चाची 40 साल की हैं. आंटी अद्भुत सौंदर्य की धनी महिला हैं। उनका रंग दूधिया गोरा और ऊंचाई 5 फीट 5 इंच है.

उनकी उभरी हुई गांड और स्तन किसी बूढ़े आदमी का भी लंड खड़ा कर दें, ऐसी है आंटी के शरीर की संरचना! उनकी एक बेटी है, उनकी बेटी मेरी गर्लफ्रेंड भी रह चुकी है. लेकिन अब जब वह शादीशुदा है, तो यह बाद की कहानी है! चलो अब आंटी की चुदाई का मजा लेते हैं.

आंटी मुझे पहले से ही पसंद थी. जब मेरा रिश्ता उनकी बेटी से हुआ तो मेरा उनके घर आना-जाना बढ़ गया. मैं भी जैकर आंटी की उनके घर में मदद करने लगा. इसलिए सभी को मैं पसंद आया.

अगर चाचा कहीं बाहर जाते और कोई काम होता तो मुझे बता देते! और जब भी मैं आंटी को देखता तो मेरा मन करता कि बस यहीं पटक कर चोद दूँ. ऐसे ही दिन बीत रहे थे. यह घटना दिसंबर 2020 की है। चाचा के दोस्त के बेटे की शादी दिल्ली में थी। तो सभी का वहां जाने का प्लान था.

सेक्सी चाची के साथ चुदाई का मज़ा

लेकिन किसी कारण से आंटी नहीं जा सकी इसलिए आंटी घर पर अकेली रह गई। और मैं ही था जो सुबह बस में चढ़ने गया था. जब मैं वहां से वापस आया तो रास्ते से सेक्स की गोलियां ले आया. सोचा यही मौका है, कुछ प्रयास करता हूँ। ऐसे ही शाम हो गई और रात के 8 बज गए. मैं आंटी के घर गया तो आंटी खाना खा रही थीं.

आंटी ने मुझे देखा और खाना मांगा. मैंने मना कर दिया। फिर हमारी इधर उधर की बातें चलती रहीं. उसने खाना ख़त्म किया और जाने के लिए उठी. तो मैं भी जाने लगा. फिर उसने मुझे रोका और मुझसे कहा- अगर तुम्हें कोई दिक्कत न हो तो क्या तुम आज रात मेरे घर आकर सो सकते हो?

मेरे मन में खुशी की लहर दौड़ गई और मैंने तुरंत हां कह दिया. उन्होंने कहा- ठीक है, तुम फ्री होकर आ जाओ. तब तक मैं भी मुक्त हो जाऊँगा। मैंने कहा- ठीक है! और मैं मन ही मन खुश होता हुआ वहां से चला आया. घर जाकर सेक्स की गोलियाँ निकालीं और उन्हें पीसकर एक कागज में रख दिया। मैंने घर पर बता दिया- मैं चाचा के घर सोने जा रहा हूँ.

उसके बाद मैं आंटी के घर पहुंच गया. तो आंटी फोन पर किसी से बात कर रही थी. मेरे जाने के बाद करीब 2 मिनट और बात की और फोन काट दिया और वो मुझसे बोली- आप यहां! मैंने भी हां कह दिया. वो बोली- आप बैठो, मैं गाय बाँध कर आती हूँ, फिर आपका बिस्तर लगा दूँगी।

सेक्सी चाची के साथ चुदाई का मज़ा

मैंने कहा- चाय पीने का मन हो रहा है. जब तक तुम गाय बाँध कर आओ, मैं चाय बनाती हूँ। वो बोली- अरे नहीं, मैं आकर बना दूंगी, तुम बैठो! मैंने कहा- आज हमारे हाथ की चाय पिओ! उसने ‘ठीक है’ कहा और चली गई।

मैं रसोई में जाकर चाय बनाने लगी. मैंने चीनी के साथ सेक्स की गोलियाँ भी मिला दीं। मैं चाय बना ही रहा था कि आंटी आ गईं. उसने मुझे कमरे में चलने को कहा- मैं लेकर आती हूँ. फिर वो चाय लेकर आई।

हमने साथ में चाय पी और थोड़ी देर इधर उधर की बातें कीं. दोस्तों आपकी जानकारी के लिए बता दूं कि गर्म और मीठी चाय के साथ सेक्स की गोलियां देने से संभोग करने की गति दोगुनी हो जाती है। हमने 10 मिनट तक इधर उधर की बातें की, फिर आंटी उठकर जाने लगीं.

मैंने उसकी आँखों की तरफ देखा तो उनमें भी सेक्स का असर दिख रहा था. फिर वो वहां से चली गयी. मैं कमरे में बैठ कर इंतजार करने लगा, मेरी दिल की धड़कन भी बढ़ने लगी. मेरे मन में डर था कि कहीं चाची को कुछ पता न चल जाए. गांड भी फट रही थी और मन में लड्डू भी फूट रहे थे.

सेक्सी चाची के साथ चुदाई का मज़ा

करीब 5 मिनट तक आंटी वापस नहीं आईं तो मैंने आंटी को आवाज लगाई. उधर से कोई जवाब नहीं आया. मैं वहां से उठ कर किचन की तरफ चला गया. मैंने वहां जो भी देखा.. बस देखता ही रह गया। दरअसल जब भी मैं उस सीन को याद करता हूं तो मेरा लंड खड़ा हो जाता है.

आंटी ने अपनी साड़ी पेट के ऊपर खींच ली थी और अपनी पैंटी पूरी उतार दी थी, जिससे उनकी गोरी जांघें दूध जैसी लग रही थीं.
उसका सिर पीछे की ओर झुका हुआ था, एक हाथ उसके ब्लाउज के ऊपर उसके स्तनों पर था और दूसरा हाथ उसकी चूत में उंगली कर रहा था।

आंटी की आँखें पूरी तरह से बंद थीं और उनके मुँह से धीरे-धीरे आह्ह आह्ह की आवाज आ रही थी। ये सब देख कर मैं खुद को रोक नहीं पाया और आंटी के पास जाकर बैठ गया. उसने उसका हाथ पकड़ कर उसकी चूत से अलग कर दिया, उसकी दोनों जाँघों को कस कर पकड़ लिया और उसे अपनी ओर खींच लिया और अपना मुँह उसकी चूत पर रख दिया।

आंटी ने इसका बिल्कुल भी विरोध नहीं किया बल्कि मेरा सिर पकड़ कर अपनी चूत पर दबा दिया. वो अपनी चूत को और तेजी से रगड़ने लगी. आंटी की चूत से नमकीन पानी निकल रहा था. उसके मुँह से ‘आहह आहह’ की आवाज आ रही थी.

सेक्सी चाची के साथ चुदाई का मज़ा

कुछ देर बाद चाची मेरे मुँह में झड़ गईं, मैंने सारा पानी पी लिया और चूत साफ कर ली। फिर मैं उठा और आंटी के चेहरे की तरफ देखा. आंटी मुझसे नजर नहीं मिला पा रही थीं. मैंने वहां उसके होंठों पर अपने होंठ रख दिये. उसने मुझे धक्का देकर अलग कर दिया.

मैं वहां से कमरे में आकर बैठ गया और मन में सोचने लगा कि कहीं आंटी अंकल को ना बता दें! मैं बहुत डर गया था! लेकिन मेरे दिमाग में तो वही सीन चल रहा था. फिर दो मिनट बाद आंटी आईं और कमरे का दरवाजा अंदर से बंद कर दिया और मुझ पर टूट पड़ीं. उसने अपने होंठ मेरे होंठों पर रख दिये. मैं भी उसका साथ दे रहा था.

हमने 5 मिनट तक किस किया. अब चाची भतीजे की चुदाई सही दिशा में आगे बढ़ रही थी. मैंने अपना हाथ आंटी के स्तनों पर रख दिया और उन्हें जोर-जोर से दबाने लगा, दोनों स्तनों को एक-एक करके दबाने लगा। मैंने उसकी साड़ी को उसके बदन से बिल्कुल अलग कर दिया. आंटी मेरे सामने पेटीकोट और ब्लाउज में थीं.

सेक्सी चाची के साथ चुदाई का मज़ा

फिर मैं आंटी की गर्दन पर चूमने लगा. मैंने धीरे-धीरे ब्लाउज के हुक खोले और अपने स्तनों को कस-कस कर दबाने लगी। मैंने ब्लाउज उतार दिया और पेटीकोट खोल दिया. पेटीकोट खुलते ही नीचे सरक गया. उसने पैंटी नहीं पहनी थी, अब वो मेरे सामने सिर्फ़ ब्रा में थी और उसके स्तन भी ब्रा फाड़ कर बाहर आने को बेताब थे।

फिर मैंने ब्रा भी उतार दी. आंटी मेरे सामने बिल्कुल नंगी थी. सच में क्या कयामत लग रहे थे वो! एकदम सफ़ेद स्तन! मैं आंटी के स्तनों पर टूट पड़ा.
मैंने एक-एक करके दोनों स्तनों का रस पिया, ऊपर से नीचे तक हर जगह चूमा। ये सब करते करते कब उसने मुझे नंगा कर दिया मुझे पता ही नहीं चला.

वो घुटनों के बल बैठ गयी और मेरे लंड को चूमने लगी. मुझे बहुत मजा आ रहा था. मैंने आंटी के बाल पकड़ लिए और अपने लंड पर दबाने लगा. आंटी गूं गूं की आवाज के साथ मेरा लंड चूस रही थीं. कुछ देर बाद मैंने उसे बिस्तर पर लेटा दिया और हम 69 की पोजीशन में आ गये.

5 मिनट तक चूत चाटने के बाद आंटी ने लंड मुँह से निकाला और मुझसे बोलीं- जल्दी से इसे मेरी चूत में डाल दो, अब मुझसे कंट्रोल नहीं होता! मैं भी अपने आप को रोक नहीं पा रहा था, मैंने बिना समय बर्बाद किये अपना लंड उसकी चूत पर रख दिया। चूत पहले से ही इतनी गीली थी कि लंड अपने आप उसमें जाने लगा.

सेक्सी चाची के साथ चुदाई का मज़ा

मैंने भी एक तेज झटका मारा, एक ही बार में पूरा लंड अन्दर तक घुसा दिया. उसके मुँह से चीख निकल गई, वो मुझसे बोली- धीरे-धीरे करो… बहुत दिनों से नहीं किया है मैंने! मैंने उसकी बात नहीं सुनी, मैंने उसके होंठों पर अपने होंठ रख दिए और तेज़ झटके लगाने लगा। उसे और मुझे भी बहुत मजा आ रहा था.

सच में दोस्तो, मैंने आज तक 9 लड़कियों को चोदा है लेकिन इतना मजा कभी नहीं आया जितना तब आ रहा था। फिर मैंने आंटी को घोड़ी बनाया और पीछे से चोदने लगा. आंटी गाली दे रही थी- और जोर से चोद मुझे मादरचोद… बहुत दिनों से प्यासी हूँ मैं!

फिर आंटी ने तेज़ धक्के लगाने शुरू कर दिए और वो चरमोत्कर्ष पर पहुँच गईं। लेकिन मेरा अभी भी बाकी था इसलिए मैं उसे चोदता रहा। मैंने आंटी को दीवार के सहारे खड़ा कर दिया और एक टांग बिस्तर पर रख दी जिससे चूत चौड़ी हो गयी. फिर मैंने अपना लंड अन्दर डाला और चोदने लगा.

5 मिनट बाद जब मेरा होने वाला था तो मैंने कहा- कहां निकालूं? उसने कहा- अन्दर ही निकाल दो! इसके साथ ही उसे एक बार फिर से ऑर्गेज्म भी हो गया. चाची और भतीजे की चुदाई के बाद हम दोनों बिस्तर पर लेट गये.

183 Views