पूनम भाभी को होटल में चोदा

दोस्तो, मेरा नाम विशाल कुमार है और मैं राजस्थान के अजमेर शहर का रहने वाला हूँ। मेरी आयु 22 वर्ष है। मेरे लिंग का साइज़ 6 इंच है और यह तीन इंच मोटा है. यह किसी भी भाभी की चूत की गर्मी को शांत करने के लिए काफी देर तक टिकता है।

यह हॉट कहानी मेरी फेसबुक भाभी और मेरे बीच सेक्स के बारे में है. उस भाभी का नाम पूनम था और उसकी उम्र करीब 35 साल थी. यह बात दो साल पहले की है जब मैं 12वीं कक्षा में था। एक दिन मैं अपने खाली समय में फेसबुक चला रहा था।

वहीं कुछ महिलाओं की प्रोफाइल देखते हुए मैंने पूनम नाम की फेसबुक आईडी पर रिक्वेस्ट भेजी और दूसरे लोगों से बात करते हुए फेसबुक का इस्तेमाल जारी रखा. मैं अपने मित्र अनुरोध के उत्तर की प्रतीक्षा कर रहा था। लेकिन उस दिन उनका कोई जवाब नहीं आया.

मैंने फेसबुक बंद कर दिया और काम करना शुरू कर दिया. फिर शाम को जब मैंने अपनी फेसबुक आईडी खोली तो देखा कि भाभी ने रिक्वेस्ट एक्सेप्ट कर ली थी. लेकिन उस वक्त पूनम भाभी ऑनलाइन नहीं थीं. रात को मुझे पूनम भाभी ऑनलाइन मिलीं तो मैंने उन्हें मैसेज कर दिया. उनका रिप्लाई भी तुरंत आ गया.

पूनम भाभी को होटल में चोदा

मैं: हेलो! पूनम- हेलो. मैं- कैसी हो? पूनम- मैं ठीक हूँ, तुम बताओ! मैं- मैं भी ठीक हूं. पूनम जी, आप कौन से शहर से हैं? पूनम- मैं जयपुर से हूं और आप? मैं अजमेर शहर से हूं. आप अपनी प्रोफाइल फोटो में बेहद खूबसूरत लग रही हैं.

मैं जानता था कि महिलाओं को तारीफ पसंद होती है इसलिए मैंने उनकी तारीफ करना शुरू कर दिया. पूनम- ठीक है सर, वैसे मैं शादीशुदा हूँ, मुझसे फ्लर्ट मत करो. मैं: अच्छा, तुम्हें देखकर ऐसा नहीं लगता कि तुम शादीशुदा हो. अभी तो तुम बिल्कुल लड़की जैसी दिखती हो.

पूनम- ठीक है सर! मैं: हाँ सर, मैं बिल्कुल सच कह रहा हूँ। मैं इसी तरह भाभी की तारीफ करता रहा और इसी बीच उन्होंने मुझे बताया कि उनके पति कहीं बाहर काम करते हैं और महीने में एक या दो बार ही आ पाते हैं.

उनकी बातों से मुझे समझ आ गया कि भाभी को अपने पति से ज्यादा साथ नहीं मिल पाता, इसलिए उन्हें फेसबुक पर मर्दों से बात करना पसंद है. अब मैं भाभी से बातें करने लगा और काफी देर तक बातें होती रहीं.

हम दोनों बहुत करीब आ गए थे और हम दोनों सेक्स के बारे में भी बातें करने लगे थे. अब हमारे बीच बातचीत ख़त्म हो चुकी थी. मैंने उससे पूछा कि तुम्हें अपने पति के बिना कैसा लगता है?

वो बोली- क्या करूँ यार? मुझे तो अपने हाथों से ही काम करना पड़ता है. मैंने कहा- मुझे सेवा का मौका दो, मैं तुम्हारी सारी प्यास बुझा दूंगा. वो हंसने लगी और बोली- वक्त आने पर जरूर याद रखूंगी. लेकिन उस समय केएलपीडी न करें।

मैंने उनसे कहा: नमस्ते दोस्त भाभी जी, केएलपीडी हम पुरुषों का है… और आप जैसी सुंदरियां ही हमारे जैसे मेहनती पुरुषों के साथ मिलकर यह केएलपीडी बनाती हैं। शायद भाभी को पता था कि केएलपीडी का मतलब ऐन वक्त पर धोखा खाना होता है. हालाँकि KLPD का यही मतलब होता है लेकिन मुझे KLPD का फुल फॉर्म नहीं पता था.

वो कहने लगी- अकेले मर्दों का क्या हाल? लड़के हम लड़कियों को भी धोखा देते हैं! मैंने उससे पूछा: क्या तुम्हारे पास लिंग है? वो मेरे सवाल से हैरान हो गयी और बोली- आप समझ गए. मेरे पास एक छेद है मैंने कहा: तो, मेरी प्यारी भाभी, प्रिय… केएलपीडी यही कहना चाहता है।

पूनम भाभी को होटल में चोदा

खड़े लिंग पर धोखा देने की बात… अब मुझे बताएं कि आपके खड़े लिंग पर धोखा कैसे हो सकता है। वह हंसने लगी और बोली: हे भगवान… मैंने यह जानने की कोशिश भी नहीं की कि केएलपीडी का मतलब क्या है! मैंने कहा, चलो, अब जीसीपीडी को बुलाओ!

वह फिर चिंतित हो गई और मुझसे पूछा कि जीसीपीडी को क्या हुआ। मैंने कहा: एक गर्म चूत पर धोखा. वह जोर-जोर से हंसने लगी. अब हम दोनों खुल कर लंड और चूत के बारे में बातें करने लगे. एक बार उसने मुझसे मेरी गर्लफ्रेंड के बारे में पूछा. तो मैंने झूठ बोल दिया कि मेरी कोई गर्लफ्रेंड नहीं है.

हम ऐसे ही बातें कर रहे थे तो हमने उसी दिन मिलने का फैसला किया. उन्होंने कहा- आप दो दिन बाद जयपुर आ रहे हैं. हम वहाँ एक होटल में मिलेंगे! मैंने कहा: हाँ, ठीक है. मैं दो दिन बाद जयपुर चला गया. उसने पहले से ही मेरे लिए एक होटल में एक कमरा बुक कर दिया था और मुझे होटल और कमरा नंबर आदि के बारे में बता दिया था।

मैं सीधे होटल गया और उन्हें फोन करके बताया कि मैं होटल पहुंच गया हूं। तुम्हें छोड़ते हो। भाभी बोली- मैं एक घंटे बाद आऊंगी. जब आप कमरे में जाकर फ्रेश हो जाएं. मैंने हाँ कहा और होटल गया, कमरे की चाबी ली, सारी औपचारिकताएँ कीं और फ्रेश होने चला गया।

मैं फ्रेश होकर बिस्तर पर लेट गया. थोड़ी देर बाद कमरे की घंटी बजी तो मैंने दरवाज़ा खोला. मैंने सामने देखा तो एक बहुत हॉट भाभी खड़ी थी. भाभी ने नीली जींस और काला ब्लाउज पहना हुआ था. इस कसे हुए ब्लाउज में से उसके स्तन बहुत अच्छे लग रहे थे। मेरी नजर भाभी के स्तनों पर टिकी हुई थी.

भाभी ने मेरी वासना भरी नजरों को भांप लिया था. उसने मुझसे हाथ मिलाया और मुझे होश आया और मैंने उसे अंदर बुलाया. जब वो अंदर आईं तो मैंने दरवाज़ा बंद कर दिया और भाभी की तरफ मुड़ा. उसकी टाइट जीन्स में से उसकी थिरकन वाली बड़ी गांड देख कर मेरा लंड खड़ा हो गया.

जैसे ही मैंने अपने लंड को अपनी पैंट के ऊपर से ठीक किया, मैंने उसे समझाया कि वह सिर्फ तुम्हारे लिए मुझे अपना छेद देने आई है, रंडी… शांत रहो। वह मेरी ओर मुड़ा और शायद मेरे होठों की बड़बड़ाहट और उसके हाथ से लिंग को समझ गया।

भाभी मुस्कुराईं और अपनी गांड बिस्तर पर टिका कर बैठ गईं. मैं भी उसके पास बैठ गया और हम दोनों बातें करने लगे. धीरे-धीरे हम दोनों करीब आ गए और उसने अपना हाथ मेरी जांघ पर रख दिया। मैंने भाभी की तरफ देखा तो उनकी आंखें वासना से लाल थीं.

पूनम भाभी को होटल में चोदा

जब मेरी नजर उस पर पड़ी तो उसने मुझे आंख मारी और गले लगा लिया. भाभी मेरी गर्दन पर चूमने लगीं. मैंने उसे दूर धकेला और उसके होंठों को चूमना शुरू कर दिया. भाभी ने भी मेरा पूरा साथ दिया. हम दोनों आधे घंटे तक ऐसे ही किस करते रहे.

फिर मैंने उनके कपड़े उतारने शुरू कर दिए और कुछ ही देर में मैंने भाभी को पूरा नंगा कर दिया और उनके 36 साइज़ के मम्मों को चूसने और दबाने लगा, जैसे ही मैंने भाभी के मम्मों को चूसना शुरू किया, तो पूनम भाभी के मुँह से आवाजें निकलने लगीं.

पूनम भाभी- आह आह विशाल… मेरे मम्मों को जोर से दबाओ… चूसो इन्हें… आह इन्हें निचोड़ो आह आह और जोर से… जोर से आह! वो अपनी कामुकता जाहिर करते हुए मेरे बालों को सहलाने लगी और मेरे सिर को अपने स्तनों पर दबाने लगी.

कुछ मिनट तक भाभी का वीर्य चूसने के बाद मैं उनकी चूत की तरफ बढ़ने लगा. उसकी चूत एकदम साफ थी, उस पर एक भी बाल नहीं था. जैसे ही मैंने अपनी भाभी की मुलायम चूत देखी तो मेरे मुँह में पानी आ गया और मैं उसकी चूत पर टूट पड़ा. मैं भाभी की चूत को चूसने और चाटने लगा.

जैसे ही मैंने जीभ से चूत को चूसना शुरू किया, तो पूनम भाभी पागल हो गईं- आह और जोर से… आह आह विशाल… आह कितना प्यारा चूसते हो तुम… आह और जोर से… आह पूरी जीभ अन्दर डालो आह… ऐसे ही आह आह विशाल. …मुझे सचमुच बहुत मजा आया मेरी जान।

कुछ मिनट तक मैंने भाभी की चूत को पूरी शिद्दत से चूसा. जिससे पूनम भाभी को आह्ह आह्ह के साथ जोर से कामोत्तेजना हुई। कुछ देर तक मैं पूनम भाभी की चुत से निकले नमकीन रस को चाटता रहा और उनकी चुत को शीशे की तरह चमका दिया. अपनी चूत चटवाने से भाभी फिर से कामुक होने लगी.

पूनम भाभी को होटल में चोदा

वो उठी और मेरे सारे कपड़े उतार दिए. जैसे ही उसने मेरा लंड देखा तो बोली- आह मीठा गन्ना … आज इसे चूसने में मजा आएगा. वो मेरे लंड को ऐसे चूसने लगी जैसे गन्ना हो. मैंने भी उसके बाल पकड़ लिए और उसके मुँह को चोदने लगा.

मेरी स्पीड के कारण मेरा लंड भाभी के गले से टकराने लगा और इस वजह से उन्हें सांस लेने में दिक्कत होने लगी. उसने संघर्ष करते हुए मेरा लिंग अपने मुँह से बाहर खींच लिया… और वासना से मेरी आँखों में देखने लगी। अब हम दोनों 69 साल के हैं. भाभी- मेरा लंड… और मैं उसकी चूत चूसने लगा.

कुछ मिनट बाद पूनम भाभी बोलीं- विशाल, अब मुझे चोदो … और मुझे अपनी रंडी बना लो. यह सुनते ही मैंने उसे बिस्तर पर पटक दिया, उसकी टाँगें फैला दीं और अपना लंड उसकी चूत में रख दिया। लंड की गर्माहट महसूस होते ही वो अपनी गांड हिलाने लगी. मैंने लिंग का सिर चूत की फांकों में रखा और एक ही बार में पूरा लिंग जड़ तक घुसा दिया।

पूनम भाभी को इस बात का अंदाज़ा नहीं था कि मैं तुरंत अपना लिंग उनकी गहराई में घुसा दूँगा। वो कराह उठी- आह विशाल धीरे करो… आह मार डाला मुझे… आह फट गई मेरी चूत… आह रुको… थोड़ा धीरे! अब मैं धीरे-धीरे अपना लंड अन्दर-बाहर करने लगा और भाभी को चूमने लगा।

थोड़ी देर बाद भाभी को भी चुदाई का मजा आने लगा. वो भी अपनी गांड उठाने लगी. मैं समझ गया कि भाभी को लंड पसंद आ गया है. मैंने अपनी स्पीड और भी बढ़ा दी. वो हॉट औरत सेक्स का मजा लेते हुए नीचे से अपनी गांड उठा कर मेरा साथ देने लगी.

पूनम भाभी को होटल में चोदा

आह, आह विशाल… और जोर से चोदो मुझे… और अंदर तक डालो… आह और जोर से… आह, मजा आ रहा है… आह मेरे राजा। मैं- रंडी, आज अपनी बहन की लौड़ी मेरे लंड से चोद… आज तेरी चूत में छेद कर दूँगा… ले ले रंडी!

पूनम- आह विशाल, मुझे अपने लंड की गुलाम बना लो, आह, आज से मैं तुम्हारी रंडी हूँ, आह ऐसे ही आह… और जोर से चोदो मुझे मेरे राजा… मैं तुम्हारी पर्सनल रंडी हूँ आह आह.

मैंने उसे काफी देर तक कई पोजीशन में चोदा और अपने लंड का रस उसकी चूत में डाल दिया. इस दौरान उसे दो बार ऑर्गेज्म हुआ था।
उसके बाद हम दोनों ने दो बार और सेक्स का मजा लिया और अपने-अपने घर चले गये.

109 Views