पड़ोसी आंटी को नंगी देखकर चोदा

पड़ोसी आंटी को नंगी देखकर चोदा

मेरा नाम सोहन है. मैं गाँव का 19 साल का देसी लड़का हूँ; भरपेट भोजन पाने के कारण मैं बैल के समान हो गया हूँ। मेरी लम्बाई देख कर गाँव की औरतें और लड़कियाँ मुझसे चुदवाने के लिए लालायित रहती हैं।

मैंने अब तक कई चूतों को फाड़ा है. अगर गांव के नवजात बच्चों का डीएनए टेस्ट कराया जाए तो आधे से ज्यादा बच्चे मेरे बीज से पैदा हुए पाए जाएंगे। यह आंटी सेक्स स्टोरी इन हिंदी मेरी सेक्स लाइफ की शुरुआत है. उस समय तक मैंने किसी को नहीं चोदा था.

हालाँकि मुझे पता था कि कई भाभियाँ और आंटियाँ मुझे अपने साथ सुलाना चाहती थीं। मेरे पड़ोस में एक आंटी रहती थीं. उनके साथ हमारे अच्छे रिश्ते थे. मेरा उसके घर आना-जाना था. मैं कई बार उनके घर में ही सो जाता था.

चूँकि गाँव में इस बात को बुरा नहीं माना जाता.. और ये मेरे पड़ोस का मामला था तो मुझे बहुत छूट मिल गयी। मेरे बगल वाली आंटी का फिगर 34-30-36 था. उसके बहुत मस्त स्तन और उठी हुई गांड थी.

पड़ोसी आंटी को नंगी देखकर चोदा

मैं जब भी आंटी को देखता था तो मेरा मन उन्हें चोदने का करता था. एक बार मैं आंटी के घर गया, आंटी नहाने जा रही थीं। जब आंटी ने मुझे आते देखा तो मुझसे पूछा- सोहन, तुम्हें क्या काम है? मैंने कहा- कुछ नहीं, बस ऐसे ही आ गया.

आंटी ने कहा- ठीक है तुम अभी बाहर जाओ, मुझे नहाना है. मैंने कहा- आंटी, मैं ऊपर छत पर जा रहा हूं. आंटी बोलीं- हां ठीक है जाओ. आप तो जानते ही होंगे कि गांव में नहाने के लिए बाथरूम नहीं हैं. या फिर बहुत कम घरों में पाए जाते हैं.

आंटी के घर में बाथरूम नहीं था. वह अपने आंगन में लगे हैंडपंप पर ही नहाती थी। मैं ऊपर आ गया था. आंटी की छत पर जाल लगा हुआ था. इसे सूर्य की रोशनी और ताजी हवा की अनुमति के लिए स्थापित किया गया था। मैं छुप कर नेट के पास बैठ गया और आंटी को देखने लगा.

कुछ देर बाद आंटी अपने कपड़े उतारने लगीं. पहले आंटी ने अपना ब्लाउज खोला, फिर पेटीकोट खोला. अब आंटी ब्रा और पैंटी में थीं. कुछ देर बाद आंटी ने ब्रा और पैंटी भी उतार दी. अब आंटी पूरी नंगी होकर नहा रही थीं. मेरी उत्तेजना बढ़ती जा रही थी. आज पहली बार मैं आंटी को नंगी देख रहा था।

उसके चूचे और गांड बहुत अच्छे लग रहे थे. आंटी का माल एकदम कमाल का लग रहा था. मेरा मन कर रहा था कि अभी नीचे जाकर आंटी को चोद दूं. लेकिन लंड हिलाने के अलावा कुछ नहीं कर सका. कुछ देर बाद आंटी ने नहा लिया और कपड़े भी पहन लिए.

तभी आंटी ने मुझे आवाज दी- नीचे आ जाओ. मैं नहा चुका हूं. मैं नीचे आ गया और आंटी के सामने खड़ा हो गया. मेरा लंड एकदम तनकर खड़ा था. आंटी मेरे लंड की तरफ देखने लगीं. उसने आश्चर्य से मेरी तरफ देखा और पूछा- ये क्या है? मेंने कुछ नहीं कहा।

पड़ोसी आंटी को नंगी देखकर चोदा

ये कह कर मैं शरमा गया और अपने घर भाग गया. आंटी जोर जोर से हंसने लगीं. उसकी हंसी की आवाज मेरे कानों में एक अजीब सा एहसास पैदा कर रही थी. मुझे समझ नहीं आ रहा था कि क्या करूँ. लंड बैठने का नाम ही नहीं ले रहा था.

घर में घुसते ही मैं बाथरूम में चला गया और अन्दर मुठ मारने लगा. उस वक्त मेरी आंखें बंद थीं और मेरे सामने सिर्फ आंटी की नंगी जवानी दिख रही थी. हस्तमैथुन करने के बाद लिंग शांत हो गया. फिर मैं नहाने चला गया और नहाने के कुछ देर बाद मैं फिर से आंटी के घर आ गया.

आंटी ने मुझसे पूछा- अब क्या हुआ सोहन? मैंने कहा- कुछ नहीं आंटी, मैं आपसे मिलने आया हूं. आंटी हंस कर बोलीं- ठीक है, बैठ जाओ. फिर मैंने आंटी से कहा- आप मुझे बहुत पसंद हो. आंटी बोलीं- ठीक है. तो क्या इसीलिए तुम मुझसे मिलने आते हो? मैंने कोई जवाब नहीं दिया।

कुछ देर बाद आंटी हंस पड़ीं और बोलीं- तुम आकर कर लो. मुझे भी तुम्हारा आना अच्छा लगता है. अब मैं रोज आंटी के घर जाने लगा और आंटी के साथ कैरम बोर्ड खेलने लगा. एक दिन आंटी के पति यानि अंकल हिमाचल में काम पर गये।

मैं आंटी के घर गया. आंटी बोलीं- सोहन, आज तुम्हारे अंकल हिमाचल गये हैं. अब तुम रात को मेरे घर में सो जाना. मुझे मौका मिल गया. मैंने कहा- ठीक है आंटी जैसा आप कहें. घर जाकर मैंने अपने घर वालों को बताया कि मुझे सोने के लिए आंटी के घर जाना है.

घरवाले कुछ नहीं बोले. कुछ देर बाद रात हो गयी. मैं आंटी के घर आ गया. उस समय रात के दस बजे थे. आंटी के घर में दो कमरे थे. आंटी ने मेरे लिए एक कमरे में सोने की व्यवस्था कर दी थी. मैं लेट गया और फोन चलाने लगा.

पड़ोसी आंटी को नंगी देखकर चोदा

आंटी दूसरे कमरे में टीवी देख रही थीं. कुछ देर बाद आंटी ने टीवी बंद कर दिया और लेट गईं. उसने अपना फोन इस्तेमाल करना शुरू कर दिया. मुझे नींद नहीं आ रही थी. मैं चुपके से आंटी के कमरे में गया और धीरे से दरवाजा खोला.

तभी देखा कि आंटी फोन पर ब्लू फिल्म देख रही थी। वो अपनी चूत में उंगली कर रही थी. कुछ ही देर में आंटी ने सारे कपड़े उतार दिये. ये सीन देख कर मेरा लंड पूरी तरह से फटने लगा था. मैंने सोचा कि आंटी के पास जाकर उनको चोद दूं.

उस वक्त आंटी पूरी गर्म हो चुकी थीं और जोर-जोर से अपनी चूत में उंगली कर रही थीं। उसके गले से आह ऊह आह की आवाज निकल रही थी. मैं अब खुद पर काबू नहीं रख सका और आंटी के पास चला गया. आंटी ने मुझे देखा और अपने बदन को कपड़ों से ढकने लगीं. वो बोली- तुम यहाँ क्या कर रहे हो? अपने कमरे में जाओ।

मैंने कहा- पहले मैं तुम्हें चोदूंगा. वैसे भी मैं बहुत दिनों से तुम्हें चोदने की सोच रहा था. आंटी हंस पड़ी और बोली- ठीक है! मैंने कहा- हां आंटी. फिर आंटी बोलीं- ठीक है, आज नहीं, कल. मैंने कहा- आंटी एक बार प्लीज!

आंटी बोलीं- नहीं, तुमने तो कल कहा था. मैंने कहा – अरे यार आंटी, यहाँ तो लौड़ा फटा जा रहा है और तुम नखरे कर रही हो। आंटी बोलीं- चलो, मैं मुँह में ले लूंगी और निकाल लूंगी… पर कल दूंगी! मैं उसकी बात समझ गया और बोला- ठीक है, ठीक है. मैं आंटी के पास जाकर खड़ा हो गया.

पड़ोसी आंटी को नंगी देखकर चोदा

आंटी मेरे सामने घुटनों के बल बैठ गईं और लंड को मुँह में लेने के लिए अपना मुँह खोलने लगीं. आंटी ने मेरा लंड बाहर निकाला और देख कर बोलीं- हाय… इतना बड़ा लंड! इतना बड़ा तो तेरे चाचा का भी नहीं है.

मेरा लिंग सामान्य से अधिक लंबा और मोटा है। मैंने कहा- अब मत चिल्लाओ आंटी … जल्दी से चूसना शुरू करो. आंटी मेरे लंड को मुँह में लेने लगीं. मेरा आधा लंड ही आंटी के मुँह में घुस पाया था. मैंने आंटी का सिर पकड़ लिया और उनके मुँह को चोदने लगा.

कुछ देर बाद मैंने अपना सारा वीर्य आंटी के मुँह में छोड़ दिया. आंटी ने सारा माल पी लिया और बोलीं- बहुत अच्छा था तुम्हारा! फिर हम दोनों एक साथ बिस्तर पर लेट गये और सो गये. सुबह मैं अपने घर चला गया. आंटी ने आज रात का वादा किया था. मैं रात होने का इंतज़ार कर रहा था.

कुछ देर सोचने के बाद मैं मेडिकल स्टोर पर गया और वहां से मैनफोर्स टैबलेट खरीद ली और एक के-वाई जेल भी ले लिया. मेरे मन में आंटी की गांड चोदने का प्लान भी बनने लगा. कुछ देर बाद रात गहरा गई. जब मैं आंटी के घर गया तो देखा कि आंटी ने सेक्सी नाइटी पहनी हुई थी.

वो मेरा ही इंतज़ार कर रही थी. आंटी मेरे लंड से अपनी चूत चुदाई करवाने के लिए तैयार थीं. मैं आंटी के पास गया. हम दोनों ने कुछ देर तक बातें कीं. अब आंटी ने मुझे पकड़ लिया और चूमने चाटने लगीं. आंटी ने करीब 20 मिनट तक चूमा-चाटी की.

फिर आंटी ने मेरे सारे कपड़े उतार दिए और मैंने भी उनके सारे कपड़े उतार दिए. आंटी मेरी बांहों में बिल्कुल नंगी थीं. मैंने आंटी को बैठाया और अपना लंड उनके मुँह में दे दिया. आंटी ने कुछ देर तक मेरा लंड चूसा.

पड़ोसी आंटी को नंगी देखकर चोदा

मैंने आंटी से कहा- मुझे आपकी चूत चाटनी है. आंटी बोलीं- ठीक है. हम दोनों एक साथ एक दूसरे के लंड और चूत का मजा लेते हैं. मैं उनकी बात समझ गया और हम दोनों 69 में आ गये. ये पहली बार था जब मैंने आंटी की चूत इतने करीब से देखी थी.

क्या कचौड़ी जैसी फूली हुई चूत थी आंटी की.. एकदम गहरी लाल रंग की चूत। मैं उसे चाटने लगा. करीब दस मिनट में आंटी का पानी निकल गया. मैंने सारा पानी चाट लिया और अपनी चूत चमका दी.

कुछ देर के फोरप्ले के बाद आंटी चुदाई के लिए पूरी तरह से उत्तेजित हो गईं। वो बोली- सोहन, अब मुझे चोदो.. मुझे और मत तड़पाओ। मैं तुम्हारा लंड अपनी चूत में लेना चाहती हूँ. मैंने आंटी को बिस्तर पर सीधा लेटने को कहा. आंटी सीधी लेट गईं.

मैंने आंटी की टाँगें उठाईं और अपने लंड का टोपा आंटी की चूत पर रखा और रगड़ने लगा। आंटी घबराते हुए बोलीं- सोहन अभी डाल दो प्लीज़. मैंने बिना समय बर्बाद किये अपना लंड आंटी की चूत पर रखा और धक्का दे दिया.

चूत चिकनी थी इसलिए लंड अन्दर सरकने लगा. आंटी चिल्ला उठीं- आह, मैं मर गई. मैंने एक और धक्का दिया. आंटी फिर चिल्लाईं- मैं मर रही हूँ. आंटी बहुत तेज आवाजें निकाल रही थीं.

मैंने अपना मुँह उसके मुँह पर रखा और धक्का दे दिया. कुछ ही धक्कों में आंटी को मजा आने लगा. अब उसकी भाषा बदल गई थी- आह चोदो सोहन … और जोर से धक्का मारो … फाड़ दो आज मेरी चूत … आह आह मर जाओ. मैं और तेजी से धक्के लगाने लगा.

पड़ोसी आंटी को नंगी देखकर चोदा

करीब 15 मिनट बाद मैं झड़ गया और इतनी देर में आंटी दो बार झड़ चुकी थीं। कुछ देर बाद लंड फिर से खड़ा हो गया. मैंने फिर से आंटी को कुतिया बना कर चोदना शुरू कर दिया. आंटी बहुत जोर से चिल्ला रही थीं और मैं उतनी ही तेजी से उन्हें चोद रहा था.

इसी तरह मैंने आंटी को आठ बार चोदा लेकिन मेरा लंड अभी भी खड़ा था. आंटी बोलीं- मेरी चूत में दर्द हो रहा है, अब बस करो. मैंने कहा- मुझे गांड मरवाने दो. आंटी ने गांड मरवाने से साफ मना कर दिया. मैंने सोचा कि आज रहने दो। मैं बाद में तेरी गांड जरूर चोदूंगा.

उसके बाद आंटी ने तीन दिन तक अपनी चूत की चुदाई नहीं करायी. लेकिन चूत में दर्द इतनी गंभीर समस्या है कि बिना लंड के उसे राहत नहीं मिलती. यह क्या हुआ। अंकल के घर से चले जाने के बाद आंटी मुझे घर बुला लेती थीं और हमारे बीच सेक्स का खेल शुरू हो जाता था.

126 Views