मामी की देसी बुर चोदने का मजा

मामी की देसी बुर चोदने का मजा

दोस्तो, मैं शिवम हूं. यह मेरी पहली सेक्स कहानी है. यह कहानी मेरी और मेरी दूर की रिश्ते की मामी की देसी चूत चुदाई के बारे में है. आगे बढ़ने से पहले मैं आप सभी को अपने बारे में सब बता देता हूँ। मेरी उम्र 21 साल है और मैं राजस्थान से हूँ.

मेरी लम्बाई 5 फुट 5 इंच है और जिम जाने के कारण मेरा शरीर अच्छे आकार में है। मेरे लंड का साइज़ 7 इंच है. मैं एक हट्टा कट्टा नौजवान हूँ, लड़कियाँ मेरी तरफ जल्दी आकर्षित हो जाती हैं। अब मैं आपको मामी के बारे में भी बता दूं.

मेरी मामी का नाम रश्मी है. वह मेरे पिता की दूर की चचेरी बहन है. रश्मी मामी की दो बहनें हैं. उनके घर में केवल उनके माता, पिता और उनकी दो बहनें ही रहती हैं। मुझे नहीं पता कि किसी कारणवश उसकी शादी नहीं हो पा रही थी.

जिस मामी की कहानी मैं आपको बताने जा रहा हूँ वो मेरी छोटी मामी हैं. रश्मी मामी का बदन बहुत सुन्दर है. उसकी उम्र 24 साल है, लेकिन वो दिखने में काफी छोटी लगती है. उनकी हाइट 5 फीट 1 इंच है और उनका फिगर 32-28-34 है.

मामी की देसी बुर चोदने का मजा

रश्मी मामी दिखने में बहुत सेक्सी है. चूंकि मेरे और मामी के बीच उम्र में ज्यादा अंतर नहीं था, इसलिए हमारी आपस में अच्छी पटती थी और हम दोनों खुल कर हंसी-मजाक करते थे. कई बार मैं मजाक-मजाक में उसके मम्मों को छू देता था, जिस पर वो कोई विरोध नहीं करती थी.

मजाक-मजाक में वो मुझे सीने या जांघ पर भी छू देती थी. कई बार आंटी मेरे साथ मेरी बाइक पर बाज़ार जाती थीं। वो बाइक पर इस तरह बैठती थी कि उसके मम्मे मेरी पीठ से छूते थे.

ये मुझे भी पसंद आया. जब मैं पीछे मुड़कर उसकी तरफ देखता तो वो शरारती मुस्कान दे देती. इसी तरह धीरे-धीरे समय बीतता गया. फिर एक दिन मामी घर पर अकेली थी. उसके माता-पिता को एक शादी में जाना था तो वो दोनों तीन दिन के लिए शादी में गये।

उन्होंने दोनों को घर पर छोड़ दिया और मुझसे उन्हें बुलाने के लिए कहा. मेरा घर मामी के घर से सिर्फ पांच किलोमीटर दूर है. मामी ने मुझे फोन किया- शिवाय, मम्मी-पापा शादी में गए हैं तो क्या तुम हमारे साथ आकर रहोगे?

मैंने हां कहा और तुरंत शाम को 4 बजे अपनी बाइक लेकर आ गया. चूंकि मुझे मामी का साथ बहुत अच्छा लगता था, इसलिए मुझे खुशी होती थी. मैं घर आया तो मामी भी मुझे देख कर खुश हो गईं. उसने मुझे घर के अंदर बुलाया और पीने के लिए पानी दिया.

कुछ देर तक हम दोनों इधर उधर की बातें करने लगे. यहां तक कि मेरी बड़ी मामी यानी रश्मी मामी भी मेरा खुलेआम मजाक उड़ाती हैं. तो वो भी आ गयी और हम तीनों मिलकर हंसी मजाक करने लगे. फिर टीवी देखने लगा. टीवी देखते देखते रात के 8 बज गये.

दोनों मामी खाना बनाने चली गईं. हम सबने साथ में खाना खाया और सोने चले गये. मुझे नींद नहीं आ रही थी. मैं टीवी देख रहा था, टीवी देखते-देखते मामी सो गयी थीं। रात के 12 बजे थे.

मामी की देसी बुर चोदने का मजा

जब मामी बाथरूम जाने के लिए उठीं तो मुझे जागता हुआ देख कर पूछने लगीं- क्या तुम अभी भी जाग रहे हो? तो मैंने कहा कि मुझे नींद नहीं आ रही. जब वह बाथरूम जाने लगी तो वहां अंधेरा था. रात में उनके घर के बाहर की सभी लाइटें बंद कर दी जाती हैं, जिससे हर तरफ अंधेरा रहता है।

जब मामी गई तो उसी समय एक बिल्ली उछलकर भाग गई, वह बहुत डर गई और चिल्लाने लगी। उनकी चीखें सुनकर मैं भी डर गया और तुरंत भाग गया. मैं उसके पास गया और पूछा कि क्या हुआ? मामी बोलीं- अचानक बिल्ली मेरे पैरों पर चढ़ गई और मैं डर गई.

वह इतनी डर गई थी कि वह भूल गई थी कि वह कहां जा रही है। फिर मैंने कहा- अब तो बिल्ली चली गयी. तुम अन्दर जाकर आओ! लेकिन वह नहीं गई. मामी बोलीं- मुझे डर लग रहा है. वो वापस कमरे में जाने लगी तो मैंने कहा- अरे डर क्यों रही हो? मैं यहीं हूं…तुम जाओ और आओ.

फिर मामी ने कहा कि तुम भी मेरे साथ चलो! मैं मामी के साथ चला गया. डर के मारे आंटी बिना दरवाज़ा बंद किए बाथरूम में जाने लगीं, जिससे मुझे अंदर का थोड़ा सा नज़ारा दिख गया.

फिर वो झट से बाहर आई और मुझे पकड़कर कमरे में ले आई। अब जब उसे नींद आने लगी तो वो मुझे पकड़ कर सो रही थी. उसके चूचे मेरे शरीर से छू रहे थे. उसके चूचों के स्पर्श से मेरा लंड खड़ा हो गया.

मैंने धीरे से अपनी नज़रें ठीक कीं, लेकिन आंटी ने मेरा हाथ इतनी ज़ोर से पकड़ा हुआ था कि उनके मम्मे मुझसे बहुत ज़्यादा छू रहे थे। जब मेरा लिंग खड़ा हो गया था तो मैंने उसका हाथ छुड़ाने की कोशिश की, तो उसने जाने से मना कर दिया।

फिर भी मैंने उसका हाथ छुड़ाया और उसे अपने पास चिपका कर सुला लिया. मुझे पहले से ही नींद नहीं आ रही थी. अब मामी की भी डर के मारे नींद उड़ गयी.

मैं मामी का डर दूर करने के लिए इधर-उधर की बातें करने लगा ताकि मामी का ध्यान भटक जाए और वो सहज हो जाएं. इसी तरह बातें करते-करते मैंने भी एक-दो बार उसके गाल पकड़ कर खींच लिये।

मामी की देसी बुर चोदने का मजा

कुछ देर बाद उसका एक हाथ भी मेरी छाती पर चलने लगा. उसके हाथों को सहलाने से मुझे बहुत अच्छा लग रहा था. फिर मैंने धीरे-धीरे मामी के गाल और गर्दन को भी सहलाया. ऐसा करते करते हम दोनों कब सो गये, पता ही नहीं चला.

अगले दिन जब हम दोनों सुबह उठे तो आंटी सामान्य थीं. हम सबने चाय नाश्ता किया और मामी घर का काम करने लगीं. मैं समय बिताने के लिए बाहर घूमने चला गया. जब तक मैं बाहर से वापस आया, तब तक मामी का सारा काम ख़त्म हो चुका था और खाना भी बन चुका था.

मामी ने मुझसे खाना खाने को कहा. मुझे स्नान करने जाना है। मैंने कहा- आप आ जाओ, फिर साथ में खाना खायेंगे. मामी दस मिनट बोलीं और चली गईं. तब तक मैं और बड़ी मामी टीवी देखने लगे.

दस मिनट बाद रश्मी आंटी आईं.. फिर हम सबने साथ में खाना खाया और साथ में टीवी देखने लगे। थोड़ी देर टीवी देखने के बाद जब किसी को टीवी देखने में मजा नहीं आ रहा था तो हमने टीवी बंद कर दिया और हम तीनों मस्ती करने लगे.

हम सबने काफी देर तक मस्ती की. फिर जब शाम की चाय का समय हुआ तो मामी ने चाय बनाई और दोनों मौसियाँ फिर से घर के काम में व्यस्त हो गईं। मैं टहलने के लिए बाहर चला गया. जब तक मैं वापस आया, खाना तैयार हो चुका था. हम तीनों ने खाना खाया और काफी देर तक बैठ कर बातें करते रहे.

बातें करने के बाद सब सोने जा रहे थे, तभी मामी को कल की बात याद आई। मामी अचानक फिर से डर गईं और मैं उन्हें फिर से बाथरूम में ले गया. कमरे में आकर वो डर के मारे मेरे सीने से चिपक गयी. मुझे लगा कि आज वह कल से भी ज्यादा चिपकी हुई थी।

मामी की देसी बुर चोदने का मजा

मैं उससे बात करते हुए उसके बालों को सहलाने लगा. मैं उसके गालों को सहलाते हुए धीरे-धीरे उसके स्तनों पर आ गया और उसके एक स्तन को दबाने लगा। जब उसने कुछ नहीं कहा तो मैंने निडर होकर उसके स्तनों के सिरे को अपनी दो उंगलियों से पकड़ लिया और चूसने लगा।

अब यह अचानक से चुदाई जैसा हो गया. इससे आंटी उत्तेजित हो गईं. उसने मुझे मेरे होठों पर चूम लिया. जैसे ही मामी ने मुझे चूमा, मैंने अपना हाथ मामी के टॉप के अंदर डाल दिया और उनके पेट पर फिराने लगा.

इससे उसे जैसे करंट सा लगा और वो मेरे साथ सेक्सी हरकतें करने लगी. मैंने भी धीरे-धीरे मामी के शरीर को सहलाया और अपना हाथ उनकी चूत पर पहुँचा दिया। जैसे ही मैंने उनकी देसी चूत पर हाथ लगाया तो मामी की चूत पूरी गीली हो गई. उसकी चूत वासना से गीली हो गयी थी.

इस बीच आंटी मेरे सीने पर अपने हाथ फिरा रही थीं और मेरे होंठों को लगातार चूम रही थीं. उसकी गीली चूत देख कर मैंने अपना हाथ उसके पजामे में डाल दिया. अंदर हाथ डालते ही मामी को कुछ अजीब सा महसूस हुआ और उन्होंने किस करना बंद कर दिया और अपना चेहरा दूसरी तरफ कर लिया.

अब उसने अपनी आंखें बंद कर लीं और मेरे हाथ से अपनी चूत रगड़वाने का मजा लेने लगी. मैंने थोड़ी देर तक मामी की चूत को सहलाया और उनका पजामा उतार दिया. आंटी अब पैंटी में थीं. मैंने बिना समय बर्बाद किये मामी का टॉप भी उतार दिया. मेरी रश्मी मामी अब सिर्फ ब्रा और पैंटी में रह गयी थीं.

मैं आंटी को चूमने लगा और उनके मम्मों को जोर-जोर से दबाने लगा। मामी भी शरारती होकर मजा लेने लगीं. उसका हाथ मेरे लंड पर आ गया. उसका हाथ अपने लंड पर महसूस करके मैंने तुरंत अपने सारे कपड़े उतार दिए और नंगा हो गया.

अब मैंने मामी की ब्रा और पैंटी भी उतार दी. मैंने अपना सात इंच मोटा लंड रश्मी मामी के हाथ में दे दिया. आंटी उसका लंड हिलाने लगीं. मैंने मामी से लंड मुँह में लेने को कहा तो मामी मना करने लगीं. तो मैंने भी जिद नहीं की.

अब मैंने मामी की चूत में अपना लंड डालने को कहा. तो मामी डर गईं और मना करने लगीं- नहीं, वो सब नहीं… तुम जो चाहो कर सकते हो, लेकिन मेरी चूत में अपना लंड मत डालना. तुम्हारा तो बहुत मोटा है, मेरी तो चूत फट जायेगी.

मैंने मामी को समझाया कि मैं धीरे-धीरे करूंगा.. और अगर आपको दर्द होगा तो नहीं करूंगा. मामी मान गईं. अब मैंने मामी को थोड़ा और गर्म कर दिया; मामी के स्तनों को चूसा और चूमा. साथ ही उसकी देसी चूत में उंगली भी की.

मामी की देसी बुर चोदने का मजा

अब आंटी अपने आप पर कंट्रोल नहीं कर पा रही थीं तो बोलीं- शिवाय, तुम्हें बहुत अजीब लग रहा है. मुझे नहीं पता क्या हो रहा है. मैं समझ गया कि अब आंटी पूरी गर्म हो गई हैं. मैंने मामी को पीठ के बल लिटाया और अपना लंड उनकी चूत पर रखा और धीरे से थोड़ा अंदर की ओर दबाया.

मामी मना करने लगीं. मैंने कहा- एक बार ट्राई तो करने दो! लेकिन मामी मना करने लगीं. लंड को चूत पर रखने के बाद रुकना मुश्किल होता है. ये बिल्कुल वैसा ही है जैसे शेर के मुंह में खरगोश फंस जाए… और शेर उसे न खाए.

अब मैं कैसे रुक सकता था? मैंने किसी तरह मामी को बातों में उलझाया और एक जोर का झटका दे मारा. मेरे लंड का सुपारा मामी की देसी चूत में चला गया. मामी मना करने लगीं- आह नहीं … ऐसा मत करो … बहुत दर्द हो रहा है. नहीं – नहीं!

मैंने मामी के स्तनों को मुँह में लेकर चाटा और हाथ से हल्का सा मसला। उसे दर्द से राहत दी, सेक्सी बातों में उलझा कर उसे एक और झटका दिया. इस बार काफ़ी लंड अन्दर चला गया था.

मामी रोने लगीं. उसकी आंखों से आंसू निकलने लगे और उसकी चूत से खून निकलने लगा. कुछ देर तक मैं ऐसे ही पड़ा रहा. जब मुझे लगा कि मामी का दर्द कम हो गया है तो मैंने धीरे-धीरे धक्के लगाना शुरू कर दिया.

मामी की देसी बुर चोदने का मजा

अब कुछ धक्कों के बाद मामी भी मेरा साथ देने लगीं और बोलीं- हां अब अच्छा लग रहा है.. आह और स्पीड बढ़ाओ. मैं मस्ती में मामी की देसी चूत को चोदने लगा. मैंने उसकी चूत में धक्के लगाते हुए उसे किस किया और वो भी अपनी जीभ मुँह में डाल कर चूसने लगी.

मैंने अपना चेहरा हटा लिया और उसे अपनी स्थिति बदलने के लिए कहा और उसने हाँ कहा। अब मैंने मामी को घोड़ी बनाया और पीछे से उनकी चूत में अपना लंड डाल दिया.

पहली बार जब किसी ने पीछे से उसकी चूत में अपना लंड डाला तो उसे दर्द के साथ-साथ मीठे आनन्द का भी अनुभव हो रहा था। कुछ ही देर में आंटी कामोन्माद हो गया.

मैं अभी भी वहीं था तो मैंने मामी के मम्मों को पकड़ कर उन पर चढ़ा दिया और उनकी चूत में धक्के लगाता रहा. कुछ ही देर में आंटी फिर से गर्म हो गईं और मस्ती भरी आवाजों से मुझे उत्तेजित करने लगीं.

काफी देर की धकापेल चुदाई के बाद मैं भी झड़ने वाला था. मैंने मामी से पूछा- कहां निकालूं? मामी ने अपने स्तनों पर वीर्य छुड़वा दिया. उन्हें चुदाई में इतना मजा आया कि चुदाई के बाद मामी ने खुद ही मेरा लंड अपने मुँह में ले लिया और चूस-चूस कर दोबारा खड़ा कर दिया.

मैं फिर से मामी के साथ सेक्स करने लगा. इस बार आंटी मेरे लिंग पर सवार हो गईं और मुझे अपनी उछलती छातियों का मजा दिया. दोस्तो, आंटी के साथ सेक्स का ये सिलसिला अभी भी ऐसे ही जारी है.

113 Views